कश्मीर पर हमारे स्टैंड में कोई बदलाव नहीं: UN ने फिर ठुकराई पाक की मध्यस्थता की अपील

"मध्यस्थता पर हमारा स्टैंड पहले जैसा ही है, उसमें कोई बदलाव नहीं हुआ है। महासचिव ने दोनों देशों की सरकार से संपर्क किया है। जी-7 की बैठक में भारत के प्रधानमंत्री से मुलाकात कर इस पर चर्चा की और पाकिस्तान के विदेश मंत्री से इस पर बात हुई है।"

कश्मीर मुद्दे को वैश्विक पटल पर उठाकर लगातार अपनी फजीहत करवाने वाले पाकिस्तान को एक बार फिर से संयुक्त राष्ट्र ने झटका दे दिया हैं। जिससे साफ़ हो गया है कि यूएन कश्मीर मामले पर मध्यस्ता को लेकर पाक की अपील नहीं स्वीकारेगा।

दरअसल, इस बार यूएन के महासचिव के प्रवक्ता ने अपनी ओर से जारी बयान में स्पष्ट रूप कहा है कि दोनों देशों को ये मुद्दा आपसी सहमति के साथ सुलझाना होगा। इस मुद्दे पर मध्यस्ता को लेकर उनके स्टैंड में कोई बदलाव नहीं होगा।

यूएन के सेक्रेटरी जनरल के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने बताया, “मध्यस्थता पर हमारा स्टैंड पहले जैसा ही है, उसमें कोई बदलाव नहीं हुआ है। महासचिव ने दोनों देशों की सरकार से संपर्क किया है। जी-7 की बैठक में भारत के प्रधानमंत्री से मुलाकात कर इस पर चर्चा की और पाकिस्तान के विदेश मंत्री से इस पर बात हुई है।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

मीडिया खबरों की मानें तो यूएन ने बार-बार पाकिस्तान द्वारा कश्मीर मुद्दे को उछालने पर कहा है कि दोनो देशों को शांतिपूर्ण तरीके से इस मामले का समाधान ढूँढना होगा। इसपर उनकी ओर से मध्यस्ता का अभी कोई विचार नहीं हैं।

हालाँकि, भारत शुरुआती समय से ही कश्मीर को द्विपक्षीय मुद्दा बताता आया है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तो अमेरिकी राष्ट्रपति डोनॉल्ड ट्रंप के आगे भी इस बात को विनम्रता से बता चुके हैं कि ये दो देशों का मामला है और वह इसमें किसी और देश को परेशान नहीं करना चाहते। लेकिन, 5 अगस्त के बाद से पाकिस्तान लगातार इस मामले में तीसरे पक्ष को दखल देने के लिए गुहार लगा रहा है और अलग-अलग मौक़ो पर सभी देशों से इसपर आवाज उठाने की माँग कर रहा हैं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

बड़ी ख़बर

नरेंद्र मोदी, डोनाल्ड ट्रम्प
"भारतीय मूल के लोग अमेरिका के हर सेक्टर में काम कर रहे हैं, यहाँ तक कि सेना में भी। भारत एक असाधारण देश है और वहाँ की जनता भी बहुत अच्छी है। हम दोनों का संविधान 'We The People' से शुरू होता है और दोनों को ही ब्रिटिश से आज़ादी मिली।"

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

92,234फैंसलाइक करें
15,601फॉलोवर्सफॉलो करें
98,700सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: