Tuesday, May 21, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'महिलाएँ सजावट की वस्तु नहीं': 6 महिला सांसदों के साथ शशि थरूर की 'सुबह-सुबह...

‘महिलाएँ सजावट की वस्तु नहीं’: 6 महिला सांसदों के साथ शशि थरूर की ‘सुबह-सुबह वाली’ सेल्फी, लोगों ने बताया सेक्सिज्म

राष्‍ट्रीय महिला आयोग की चेयरपर्सन रेखा शर्मा ने लिखा, "आप संसद और राजनीति में उनके (महिला सांसदों) योगदान को आकर्षण की वस्तु बनाकर नीचा दिखा रहे हैं। संसद में महिलाओं को ऑब्जेक्टिफाई करना बंद करें।"

कॉन्ग्रेस सांसद शशि थरूर की 6 महिला सांसदों के साथ एक तस्वीर खूब वायरल हो रही है। इस तस्वीर को खुद शशि थरूर ने अपने ट्विटर पर शेयर किया है। यह तस्वीर संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन का है। इस तस्वीर को लेकर लोगों ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। खासतौर पर कई लोगों ने शशि थरूर की सोच पर सवाल उठा दिया है।

कॉन्ग्रेस सांसद शशि थरूर ने तस्वीर को शेयर करते हुए कहा, “कौन कहता है कि लोकसभा काम करने के लिए आकर्षक जगह नहीं है? आज की सुबह मेरे छह साथी सांसदों के साथ।” इस तस्वीर में कॉन्ग्रेस सांसद परनीत कौर और जोथिमनी, टीएमसी सांसद नुसरत जहाँ और मिमी चक्रवर्ती, एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले, डीएमके सांसद थमिज़ाची थंगापांडियन मौजूद हैं।

कॉन्ग्रेस सांसद शशि थरूर की इस तस्वीर की लोग खिंचाई कर रहे हैं। तस्वीर पर कमेंट करते हुए वकील करुणा नंदी ने कहा, “शशि थरूर ने चुने गए राजनेताओं को उनके लुक तक सीमित करने की कोशिश की और खुद को केंद्र में दिखाया है।”

शशि थरूर की तस्वीर पर एक ट्विटर यूजर मोनिका ने लिखा, “मुझे यकीन है कि इस खुलेआम सेक्सिज्म पर वामपंथी उदारवादियों की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आएगी, जैसी उत्तराखंड के सीएम तीरथ रावत के फटे जींस विवाद पर आई थी।”

वहीं ट्विटर यूजर विद्या ने कहा, “महिलाएँ लोकसभा को आकर्षक बनाने की सजावटी सामान नहीं हैं, वे सांसद हैं और आप अपमान कर रहे हैं।”

राष्‍ट्रीय महिला आयोग की चेयरपर्सन रेखा शर्मा ने लिखा, “आप संसद और राजनीति में उनके (महिला सांसदों) योगदान को आकर्षण की वस्तु बनाकर नीचा दिखा रहे हैं। संसद में महिलाओं को ऑब्जेक्टिफाई करना बंद करें।”

एक यूजर ने लिखा, “ज़िंदगी का असली मज़ा तू ही ले रहा है दोस्त।”

फरीदाबाद के तिगांव विधानसभा क्षेत्र से विधायक राजेश नागर ने कहा, “मिस्टर थरूर, लोकसभा महिलाओं के साथ सेल्फी लेने और उन्हें “आकर्षक” कहने के लिए नहीं, कानून बनाने के लिए है। आप भावी सांसदों के लिए गलत मिसाल कायम कर रहे हैं।”

सोशल मीडिया पर ट्रोल होने के बाद शशि थरूर ने सफाई देते हुए कहा, “सेल्‍फी मजाकिया अंदाज में ली गई थी और उन्‍होंने (महिला सांसदों) ने मुझसे उसी अंदाज में ट्वीट करने को कहा था। आई एम सॉरी अगर कुछ लोगों को बुरा लगा हो लेकिन मैं वर्कप्‍लेस पर ऐसे मेल-मिलाप के प्रदर्शन में शामिल होकर खुश था। बस इतनी सी बात है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से लड़ रही लालू की बेटी, वहाँ यूँ ही नहीं हुई हिंसा: रामचरितमानस को गाली और ‘ठाकुर का कुआँ’ से ही शुरू हो...

रामचरितमानस विवाद और 'ठाकुर का कुआँ' विवाद से उपजी जातीय घृणा ने लालू यादव की बेटी के क्षेत्र में जंगलराज की यादों को ताज़ा कर दिया है।

निजी प्रतिशोध के लिए हो रहा SC/ST एक्ट का इस्तेमाल: जानिए इलाहाबाद हाई कोर्ट को क्यों करनी पड़ी ये टिप्पणी, रद्द किया केस

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए SC/ST Act के झूठे आरोपों पर चिंता जताई है और इसे कानून प्रक्रिया का दुरुपयोग माना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -