Monday, September 27, 2021
Homeसोशल ट्रेंड'घर-घर श्मशान, कोरोना एक षड्यंत्र' जैसे ट्वीट जिन्हें सरकार के आदेश पर ट्विटर ने...

‘घर-घर श्मशान, कोरोना एक षड्यंत्र’ जैसे ट्वीट जिन्हें सरकार के आदेश पर ट्विटर ने किया डिलीट: गिरोह ने फैलाए कई ‘महाझूठ’

ऐसे ही एक फिल्मकार हैं विनोद कापरी। ये भी फेक न्यूज फैलाते हुए पकड़े गए। इन्होने तो अपने ही समकक्ष अविनाश दास को भी पीछे छोड़ दिया। दास ने कहा था कि मरीजों का टेंट में ईलाज हो रहा है लेकिन कापरी ने कह दिया कि हर घर श्मशान बन रहा है।

भारत को दो मोर्चों पर युद्ध करना पड़ रहा है। एक ओर जहाँ देश चाइनीज कोरोनावायरस संक्रमण से लड़ रहा है तो वहीं दूसरी ओर फेक न्यूज से। आए दिन सोशल मीडिया में पत्रकारों, फ़िल्मकारों और अन्य इंफ्लुएंसर्स द्वारा फेक न्यूज फैलाई जाती है जिससे देश में सरकार और व्यवस्था के प्रति असंतोष उत्पन्न होता है और लोगों में डर पैदा होता है। हालाँकि, इस पर कार्यवाही करते हुए भारत सरकार ने ट्विटर से ऐसी फेक न्यूज से भरी पोस्ट को अपने प्लेटफॉर्म से डिलीट करने का आदेश दिया।

अब जाहिर सी बात है कि जब भी सरकार ऐसी गलत अफवाहों से भरी पोस्ट को डिलीट करने के लिए कहेगी तो सबसे पहले ‘अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता’ का विलाप ही शुरू होगा। वामपंथी मीडिया यही कहेगा कि सरकार उनकी आवाज को दबा रही है। भले ही उनकी आवाज देश में भय का माहौल ही क्यों न बना दे।

जिनकी पोस्ट ट्विटर ने डिलीट की है उनमें पहला नाम है फिल्मकार अविनाश दास का जिन्होंने स्वरा भास्कर को निर्देशित किया है। दास ने एक पुराना वीडियो पोस्ट किया और बता दिया कि गुजरात का है। गुजरात मॉडल का मजाक उड़ाते हुए दास ने कहा कि वीडियो गुजरात के तापी जिले का है जहाँ मरीजों का टेंट में उपचार किया जा रहा है। बाद में पता चला कि तस्वीरें तो नवापुर महाराष्ट्र की थीं।

अविनाश दास के ट्वीट का स्क्रीनशॉट

गुजरात के तापी जिले के लोगों में घबराहट का माहौल न बने इसलिए फिल्मकार दास की ट्विटर पोस्ट हटा दी गई।

नवापुर वीडियो का स्क्रीनशॉट
अविनाश दास का एक और ट्वीट

ऐसे ही एक फिल्मकार हैं विनोद कापरी। ये भी फेक न्यूज फैलाते हुए पकड़े गए। इन्होने तो अपने ही समकक्ष अविनाश दास को भी पीछे छोड़ दिया। दास ने कहा था कि मरीजों का टेंट में ईलाज हो रहा है लेकिन कापरी ने कह दिया कि हर घर श्मशान बन रहा है।

विनोद कापड़ी का घर घर मे श्मशान वाला ट्वीट

कापरी पर उनके ही सहकर्मी द्वारा अपनी फिल्म के प्रमोशन के लिए एक बच्ची को गोद लेने की झूठी कहानी फैलाने का आरोप लगाया गया था। अप्रैल 2020 में भी जब Covid-19 महामारी अपने प्रारंभिक चरण में थी तब कापड़ी को पीपीई किट और रक्षात्मक उपायों पर फेक न्यूज फैलाते पकड़ा गया था। अब इनका भी ट्वीट डिलीट कर दिया गया है। हालाँकि ये फेक न्यूज फैलाना कम करेंगे, इसकी गुंजाइश बहुत कम है।

विनोद कापड़ी का ट्वीट जो हटा दिया गया

कफील खान गोरखपुर के अस्पताल में हुई त्रासदी का आरोपी है। इसने भी दाह संस्कार की कुछ तस्वीरों को पोस्ट किया जिनका वर्तमान परिस्थितियों से कोई लेना देना नहीं था। ये पोस्ट भी डिलीट हुई।

कफील खान के हटाया गया ट्वीट

ऊपर बताए गए लोगों ने कम से कम महामारी के अस्तित्व को स्वीकार तो किया लेकिन राजनैतिक एक्टिविस्ट हंसराज मीणा बाकी सबसे कई कदम आगे निकल गए। उन्होंने कह दिया कि कोरोना वायरस मात्र एक षड्यंत्र है। मीणा ने अपनी बहादुरी के किस्से 12 अप्रैल 2021 को ट्वीट किए और बताया, “कोरोनाकाल में न मैंने मास्क खरीदा और न मुँह पर लगाया। एक साल के अंदर मैं कई राज्यों और 30 बड़े शहरों की यात्रा कर चुका हूँ। मैं इस बेवकूफी भरी बीमारी से बिल्कुल नहीं डरता और न ही अपने लोगों को डराता हूँ।“

मीणा कहना चाह रहे थे कि उन्हें कोरोनावायरस का संक्रमण नहीं हुआ तो वह है ही नहीं। उन्होंने #कोरोना_एक_षड्यंत्र_है भी लिखा। यही हैशटैग उनके समर्थकों ने भी लपक लिया। अब जैसा लीडर होगा वैसे ही होंगे समर्थक। हो गए हजारों ट्वीट।

हंसराज मीणा ने तो बीमारी और वायरस दोनों को नकार दिया, खैर यह ट्वीट भी हट गया है

मीणा के जैसे ही मासूम कैफ़ी और केएस सिद्दीकी जैसों ने भी कोरोना को षड्यंत्र ही बताया। कैफ़ी ने इसे जनसंख्या कम करने का षड्यंत्र बताया तो वहीं सिद्दीकी ने यहाँ तक कह दिया कि यह बीमारी और वायरस सिर्फ टीवी में ही है।

मीणा के ही एक समर्थक ने यहाँ तक कह दिया कि कोरोनावायरस एक षड्यंत्र है तो वैक्सीन की कोई जरूरत ही नहीं है।

हंसराज मीणा के कुछ समर्थक, इनका भी ट्वीट डिलीट किया जा चुका है

फिर क्या था, भ्रमक खबरें फैलाने पर इनका भी ट्वीट डिलीट हुआ। भारत सरकार ने ट्विटर से इनके ट्वीट पर भी कार्रवाई करवाई।

किसान आंदोलन के दौरान भी ट्विटर ने कुछ भ्रामक खबरों से भरे ट्वीट हटाने से मना कर दिया था। तब भारत सरकार ने ट्विटर को साफ कहा था कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स को भारत का घरेलू कानून मानना ही पड़ेगा। इसके बाद इस बार ट्विटर ने अपना रूख बदला है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘टोटी चोर’ के बाद मार्केट में AC ‘चोर’, कन्हैया ‘क्रांति’ कुमार का कॉन्ग्रेसी अवतार

एक 'आंगनबाड़ी सेविका' का बेटा वातानुकूलित सुख ले! इससे अच्छे दिन क्या हो सकते हैं भला। लेकिन सुख लेने के चक्कर में कन्हैया कुमार ने AC ही उखाड़ लिया।

टिहरी डैम की सरकारी जमीन पर अवैध मस्जिद: शुक्रवार को नमाज बाद छेड़छाड़ से परेशान स्थानीय, प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शनAnurag

विहिप, बजरंग दल और स्थानीय भाजपा नेता सहित कई हिंदू संगठनों ने मस्जिद को हटाने की कोशिश की। इसके बाद भी प्रशासन ने कोई ठोस कार्रवाई नहीं की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,737FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe