Sunday, September 19, 2021
Homeसोशल ट्रेंड'कु*&% की दुम, भा*&गिरी, मुजरा': तालिबान से की RSS की तुलना, ट्रेंड कर रहा...

‘कु*&% की दुम, भा*&गिरी, मुजरा’: तालिबान से की RSS की तुलना, ट्रेंड कर रहा #जावेद_अख्तर_गद्दार_है

जावेद अख्तर ने कहा विश्व हिंदू परिषद, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, बजरंग दल तालिबान से ज्यादा खतरनाक हैं। मगर क्या वीएचपी, आरएसएस या बजरंग दल, महिलाओं को जबरन उठाता है? सत्ता के लिए लोगों को मारता है? धार्मिक कानून लागू करता है? आतंक में संलिप्त होता है? ड्रग स्मगलिंग करता है? या धार्मिक चिह्नों को नष्ट करता है?

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) की तुलना तालिबान से करने के बाद संगीतकार जावेद अख्तर बुरी तरह फँसते नजर आ रहे हैं। आज शिव सेना ने अपने मुखपत्र सामना के संपादकीय में जावेद अख्तर को इस बयान के लिए लताड़ा है। दूसरी ओर सोशल मीडिया यूजर्स भी #जावेद_अख्तर_गद्दार_है हैशटैग ट्रेंड करवा कर उनसे सवाल कर रहे हैं।

मुकेश जाधव कहते हैं जैसा कि जावेद अख्तर ने कहा विश्व हिंदू परिषद, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, बजरंग दल तालिबान से ज्यादा खतरनाक हैं। मगर क्या वीएचपी, आरएसएस या बजरंग दल, महिलाओं को जबरन उठाता है? सत्ता के लिए लोगों को मारता है? धार्मिक कानून लागू करता है? आतंक में संलिप्त होता है? ड्रग स्मगलिंग करता है? या धार्मिक चिह्नों को नष्ट करता है?

कुछ लोग जावेद अख्तर के इस बयान के बाद शिवसेना और भारतीय जनता पार्टी से दोबारा साथ आने की अपील कर रहे हैं। यूजर्स का कहना है, “कुछ लोग कुत्ते की दुम जैसे होते हैं। ये लोग कभी नहीं बदलते। शिवसेना और भाजपा को एक साथ आना चाहिए ताकि हिंदुत्व को बचाया जा सके।”

एक अक्षय भारती नाम का यूजर कहता है, “जावेद अख्तर, तो तुम्हारे हिसाब से भारत में भी तालिबानी हैं। तुम भारतीय तालिबान में रहे। अब तुम बाकी बची जिंदगी अफगानिस्तान में बिताते हुए अनुभव क्यों नहीं अर्जित करते?”

कुछ लोग जावेद अख्तर की पोती की पुरानी तस्वीर शेयर करके पूछ रहे हैं कि आखिर जैसे उनकी पोती भारत में घूमती हैं क्या वो ऐसा ही पहनावा पहन कर तालिबान में घूम सकती हैं?

कुछ यूजर जावेद अख्तर से असहमति दिखाते हुए कहते हैं, “जावेद अख्तर साहब आपने RSS की तुलना आतंक से कैसे की अब ये बताइए कितनी बार बोल चुके हो पत्नी सहित कि भारत असहिष्णु है तो अफगानिस्तान में जाकर अपने अब्बा हुजूर के सामने भ%$ गिरी और मुजरा क्यों नहीं करते जाकर। निर्लज्ज कहीं के।”

जावेद अख्तर ने क्या कहा था?

3 सितंबर को एनडीटीवी के एक शो में अख्तर ने कहा था, “आरएसएस, वीएचपी और बजरंग दल का समर्थन करने वालों की मानसिकता भी तालिबान जैसी ही है।” उन्होंने कहा, ”जिस तरह तालिबान एक मुस्लिम राष्ट्र बनाने की कोशिश कर रहा है। उसी तरह कुछ लोग हमारे सामने हिंदू राष्ट्र की अवधारणा पेश करते हैं।” जावेद अख्तर ने आगे कहा, “इन लोगों की मानसिकता एक जैसी है। तालिबान हिंसक हैं। जंगली हैं। उसी तरह आरएसएस, विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल का समर्थन करने वाले लोगों की मानसिकता एक जैसी है।”

शिवसेना का जवाब

शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के संपादकीय में जावेद अख्तर पर बसरते हुए कहा, ”इन दिनों कुछ लोग किसी की तुलना तालिबान से कर रहे हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि वे समाज और मानव जाति के लिए सबसे बड़ा खतरा हैं। पाकिस्तान और चीन, जो लोकतांत्रिक देश नहीं हैं, वो भी अफगानिस्तान में तालिबान का समर्थन कर रहे हैं, क्योंकि इन दोनों देशों में मानवाधिकारों का कोई स्थान नहीं है। हालाँकि, हम एक लोकतांत्रिक राष्ट्र हैं जहाँ एक व्यक्ति की स्वतंत्रता का सम्मान किया जाता है। इसलिए, तालिबान से आरएसएस की तुलना करना गलत है। भारत हर तरह से बेहद सहिष्णु है।”

संपादकीय में आगे कहा गया है कि आरएसएस और विहिप जैसे संगठनों के लिए हिंदुत्व एक ‘संस्कृति’ है। इसमें कहा गया है, ”आरएसएस और विहिप चाहते हैं कि हिंदुओं के अधिकारों का दमन न किया जाए। इसके अलावा, उन्होंने कभी भी महिलाओं के अधिकारों पर कोई प्रतिबंध नहीं लगाया। वहीं, अफगानिस्तान की वर्तमान स्थिति बेहद भयावह है। लोग दहशत में हैं। तालिबानियों से डर कर अपने ही देश से भाग गए और वहाँ महिलाओं के अधिकारों का दमन किया जा रहा है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिख नरसंहार के बाद छोड़ दी थी कॉन्ग्रेस, ‘अकाली दल’ में भी रहे: भारत-पाक युद्ध की खबर सुन दोबारा सेना में गए थे ‘कैप्टेन’

11 मार्च, 2017 को जन्मदिन के दिन ही कैप्टेन अमरिंदर सिंह को पंजाब में बहुमत प्राप्त हुआ और राज्य में कॉन्ग्रेस के लिए सत्ता का सूखा ख़त्म हुआ।

अडानी समूह के हुए ‘The Quint’ के प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर, गौतम अडानी के भतीजे के अंतर्गत करेंगे काम

वामपंथी मीडिया पोर्टल 'The Quint' में बतौर प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर कार्यरत रहे संजय पुगलिया अब अडानी समूह का हिस्सा बन गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,106FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe