Saturday, July 24, 2021
Homeसोशल ट्रेंड'मुनाफ़िक़ीन है आरिफ मोहम्मद, मुस्लिम नाम वाला संघी है जिस पर हम थूकते हैं':...

‘मुनाफ़िक़ीन है आरिफ मोहम्मद, मुस्लिम नाम वाला संघी है जिस पर हम थूकते हैं’: सबरीमाला में केरल के गवर्नर को देख भड़के कट्टरपंथी

"कुरान में ऐसे लोगों को ही 'मुनाफ़िक़ीन' (दोगला) कहा गया है। ये तब भी गुमराह करते थे कौम को, ये आज भी गुमराह कर रहे हैं। हम तो इन पर शुरू से थूकते हैं, थूकते रहेंगे।"

केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने सबरीमाला मंदिर में जाकर पूजा-अर्चना की। हिन्दुओं ने जहाँ इसका स्वागत किया है, वहीं कई कट्टरपंथी मुस्लिमों ने सोशल मीडिया के माध्यम से उन पर निशाना साधा। ‘वोक मुस्लिम’ नामक ट्विटर हैंडल ने लिखा कि आरिफ मोहम्मद खान एक ‘गंगा-जमुनी’ मुस्लिम नहीं, बल्कि एक मौकापरस्त है, जिसने फायदों और सत्ता के लिए अपने ईमान व रूह को बेच डाला।

ज़िआउद्दीन अहमद ने लिखा, “ये सेक्युलरिज्म नहीं है, ये उच्च-स्तर का दोहरा रवैया है। आप अपना काम करो और मैं अपना काम करूँगा, कानून के तहत – ये है सेक्युलरिज्म।” वहीं शम्स उर्रहमान अल्हावै ने लिखा कि ‘गंगा-जमुनी तहजीब’ का ये मतलब नहीं है कि कोई मुस्लिम मंदिर में जाए या हिन्दू मस्जिद में जाए। वहीं आसिफ डॉक्टर नामक हैंडल ने पूछा कि क्या किसी हिन्दू नेता ने आज तक नमाज पढ़ी है?

वहीं एक ‘शो मर्सी’ नामक ट्विटर हैंडल ने इसे क़यामत की निशानी बताया। नसरुल्लाह नामक यूजर ने कहा कि ये आदमी (आरिफ मोहम्मद खान) हमेशा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गुण गाते रहते हैं। वहीं शरीक नामक व्यक्ति ने स्पष्ट किया कि आरिफ उत्तर प्रदेश के मुस्लिमों का प्रतिनिधित्व नहीं करते। एक ऐसे ही ट्विटर हैंडल ने आशंका जताई कि कई ऐसे RSS के लोग हैं जो मुस्लिम नाम रख कर मुस्लिमों को बदनाम कर रहे हैं।

आरिफ मोहम्मद खान के खिलाफ सोशल मीडिया पर कट्टरपंथियों ने उगला ज़हर

वहीं हिन्दुओं में से अधिकतर ने उनका स्वागत करते हुए कहा कि अगर वो विधि-विधान के साथ चीजें नियमानुसार कर रहे हैं तो कोई दिक्कत नहीं है। कुछ लोगों ने पूछा कि सबरीमाला मंदिर में जाने से पहले उपवास करना होता है और माँसाहार नहीं करना होता है, तो क्या उन्होंने इसका पालन किया? कई हिन्दुओं ने आशंका जताई कि जल्द ही आरिफ मोहम्मद खान के खिलाफ फतवा जारी हो सकता है, क्योंकि उन्होंने कट्टरपंथियों के हिसाब से ‘कुफ्र’ किया है।

वहीं ‘ऐसी-तैसी डेमोक्रेसी’ पेज पर शाइस्ता कुरैशी ने लिखा, “हम तो बचपन से आरिफ मोहम्मद खान को सिर्फ़ मुसलमान नाम वाला हिंदू मानते हैं। ऐसे लोग ना कभी मुसलमान थे और ना रहेंगे। कुरान में ऐसे लोगों को ही ‘मुनाफ़िक़ीन’ (दोगला) कहा गया है। ये तब भी गुमराह करते थे कौम को, ये आज भी गुमराह कर रहे हैं। हम तो इन पर शुरू से थूकते हैं, थूकते रहेंगे।” इसी तरह कई अन्य ने भी उनके लिए आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया।

बता दें कि 70 वर्षीय आरिफ मोहम्मद खान 80 के दशक में केंद्रीय मंत्री हुआ करते थे। लेकिन शाहबानो मामले में जब राजीव गाँधी ने सुप्रीम कोर्ट का फैसला पलट कर मुस्लिम तुष्टिकरण को एजेंडा बनाया, तब उन्होंने कॉन्ग्रेस छोड़ दी। मात्र 26 की उम्र में बुलंदशहर के सियाना से विधायक बने थे। वो 1980 में कानपुर से पहली बार सांसद बने। 1884, 89 और 98 में उन्होंने बहराइच लोकसभा का प्रतिनिधित्व किया। सितम्बर 2019 से वो केरल के राज्यपाल हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हंगामा 2 देखिए, राज की वजह से नुकसान न हो: फैन्स से शिल्पा शेट्टी की गुजारिश, घर पहुँच मुंबई पुलिस ने दर्ज किया बयान

राज कुंद्रा की गिरफ्तारी के केस में मुंबई पुलिस के समक्ष आज बयान दर्ज करवाने के बीच शिल्पा शेट्टी ने अपनी फिल्म हंगामा 2 के लिए अपील की।

‘CM अमरिंदर सिंह ने किसानों को संभाला, दिल्ली भेजा’: जाखड़ के बयान से उठे सवाल, सिद्धू से पहले थे पंजाब कॉन्ग्रेस के कैप्टन

जाखड़ की टिप्पणी के बाद यह आशय निकाला जा रहा है कि कॉन्ग्रेस ने मान लिया है कि उसी ने किसानों को विरोध के लिए दिल्ली की सीमाओं पर भेजा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,922FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe