Wednesday, August 4, 2021
Homeसोशल ट्रेंडमहाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की BJP की माँग के पक्ष में ज्यादा मतदान...

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की BJP की माँग के पक्ष में ज्यादा मतदान के बाद लोकसत्ता ने डिलीट किया ट्विटर पोल

लोकसत्ता ने अपने आधिकारिक ट्विटर पेज पर एक ट्विटर पोल चलाया, ताकि यह निर्धारित किया जा सके कि महाराष्ट्र राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की भाजपा की माँग उचित थी या नहीं। ट्विटर पोल में सवाल किया गया था, "क्या महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की भाजपा की माँग उचित है?" इसका जवाब 'हाँ' या नहीं में देना था।

महाराष्ट्र में कोरोना का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है और राज्य सरकार इस पर काबू पाने में पूरी तरह से असफल दिख रही है। ऐसे में राज्य में मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी ने माँग की थी कि कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण पाने के लिए राष्ट्रपति शासन लगाया जाए।

बीजेपी की इस माँग को लेकर मराठी समाचार आउटलेट, लोकसत्ता ने अपने आधिकारिक ट्विटर पेज पर एक ट्विटर पोल चलाया, ताकि यह निर्धारित किया जा सके कि महाराष्ट्र राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की भाजपा की माँग उचित थी या नहीं। ट्विटर पोल में सवाल किया गया था, “क्या महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की भाजपा की माँग उचित है?” इसका जवाब ‘हाँ’ या नहीं में देना था।

हालाँकि, जब लोगों ने भाजपा की माँग के पक्ष में अधिकतर वोट दिया तो तुरंत ही लोकसत्ता ने ट्वीट को डिलीट कर दिया। 24 घंटे तक चलने वाला पोल महज 5 घंटों में ही डिलीट कर दिया गया। ऐसा इसलिए क्योंकि लोगों ने महाराष्ट्र में महागठबंधन की सरकार को खारिज करते हुए राष्ट्रपति शासन के पक्ष में 51 प्रतिशत वोट डाले। 5 घंटे के भीतर ही 8000 से अधिक वोट डाले गए थे।

लोकसत्ता के हटाए गए पोल पर लोकप्रिय लेखिका शेफाली वैद्य ने गौर किया। लोकसत्ता द्वारा पोल डिलीट किए जाने के बाद शेफाली वैद्य ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन के संबंध में देश में लोगों की वर्तमान मनोदशा को समझने के लिए अपने ट्विटर पेज पर वही पोल चलाया।

अब तक कुल 8,373 लोगों ने मतदान किया है, जिसमें से 85 प्रतिशत लोगों ने भाजपा के राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की माँग के पक्ष में मतदान किया।

महाराष्ट्र के पूर्व सीएम और भाजपा नेता नारायण राणे ने सोमवार (मई 25, 2020) को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात कर उनसे राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने की माँग की। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के पास अर्थव्यवस्था को दुरुस्त करने का कोई उपाय नहीं है।

राणे ने कहा ठाकरे सरकार कोरोना संकट को संभाल नहीं सकती है। इस सरकार के पास क्षमता नहीं है। यह सरकार कोरोना से निपटने में विफल रही है। इसलिए, यहाँ राष्ट्रपति शासन लाना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार लोगों के जीवन को बचाने में सक्षम नहीं है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री सरकार चलाने में सक्षम नहीं हैं। नारायण राणे ने कहा कि कोरोना राज्य में गहरा संकट पैदा कर रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe