Tuesday, May 17, 2022
Homeसोशल ट्रेंडबीजेपी से रिश्ते तोड़ कॉन्ग्रेस की गली शिवसेना: सोशल मीडिया में मीम्स की बौछार

बीजेपी से रिश्ते तोड़ कॉन्ग्रेस की गली शिवसेना: सोशल मीडिया में मीम्स की बौछार

बीजेपी प्रवक्ता तेजिंदर पाल सिंह बग्गा ने भी एक तस्वीर शेयर कि जिसमें उन्होंने “Miyaun” लिखा। इस तस्वीर में एक बिल्ली है, जिस पर शिवसेना लिखा हुआ है और NCP प्रमुख शरद पवार दरवाज़े पर खड़े हैं जो बिल्ली को निहारते दिख रहे है।

महाराष्ट्र में सरकार गठन की तस्वीर साफ हो गई है। बीजेपी से रिश्ते तोड़ शिवसेना सरकार बनाने जा रही है। कॉन्ग्रेस-एनसीपी का समर्थन उसके साथ है। इस सियासी ड्रामे के बाद सोशल मीडिया में मीम्स की बौछार हो गई है।

एक ट्विटर यूज़र्स ने क्रोधित महिला का चित्र लगाते हुए उसकी तुलना मध्य प्रदेश चुनाव के समय NOTA (उपरोक्त में से कोई नहीं) बटन के इस्तेमाल करने वाले मतदाताओं से की। इसका तस्वीर को शेयर करने का मक़सद शिवसेना द्वारा महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर सहयोग न करने पर निराशा व्यक्त करना है। 

यूज़र्स ने अपने गुस्से को प्रकट करने के लिए लोकप्रिय फ़िल्मी दृश्यों का भी इस्तेमाल किया है।

शिवसेना ने जनादेश को धोखा देकर भाजपा के बिना सरकार बनाने का फ़ैसला किया। 

शिवसेना को मिलने वाले कॉन्ग्रेस के समर्थन पर व्यंग्य करते हुए हिन्दी फ़िल्म करन-अर्जुन की एक तस्वीर ट्विटर पर शेयर की गई। इस तस्वीर में अभिनेत्री राखी को सोनिया गाँधी, शाहरुख खान को उद्धव ठाकरे और सलमान ख़ान को आदित्य ठाकरे के रूप में दर्शाया गया। 

इसके अलावा, बीजेपी के प्रवक्ता तेजिंदर पाल सिंह बग्गा ने भी एक तस्वीर शेयर कि जिसमें उन्होंने “Miyaun” लिखा। इस तस्वीर में एक बिल्ली है, जिस पर शिवसेना लिखा हुआ है और NCP प्रमुख शरद पवार दरवाज़े पर खड़े हैं जो बिल्ली को निहारते दिख रहे है।

गौरतलब है कि 288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा के चुनाव में भाजपा को 105, शिवसेना को 56, कॉन्ग्रेस को 44 और एनसीपी को 54 सीटें मिली है। भाजपा-शिवसेना और कॉन्ग्रेस-एनसीपी ने मिलकर चुनाव लड़ा था। लेकिन, ढाई साल के लिए सीएम पद की मॉंग पर शिवसेना के अड़ने के बाद भाजपा ने सरकार बनाने से कदम पीछे खींच लिए थे। इसके बाद राज्यपाल ने शिवसेना को सरकार गठन का न्योता दिया था।

सोमवार को दिनभर चले सियासी ड्रामे के बाद कॉन्ग्रेस ने भी शिवसेना को समर्थन का ऐलान कर दिया है। हालॉंकि वह सरकार में शामिल नहीं होगी। कॉन्ग्रेस ने शिवसेना को बाहर से समर्थन देने की घोषणा करते हुए समर्थन पत्र राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को भेज दिया है

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ज्ञानवापी मामले में ‘हिन्दू सेना’ भी पहुँचा सुप्रीम कोर्ट, सुनवाई कर रहे दोनों जजों का ‘राम मंदिर कनेक्शन’: 1991 के एक्ट पर सवाल

ज्ञानवापी केस में सुप्रीम कोर्ट पहुँचे 'हिन्दू सेना' ने कहा कि 'Ancient Monuments' में गिने जाने वाले स्थल 1991 'वर्शिप एक्ट' के तहत नहीं आते।

मथुरा के शाही ईदगाह में साक्ष्य मिटाए जाने की आशंका, मस्जिद को तुरंत सील करने के लिए नई याचिका दायर: ज्ञानवापी का दिया हवाला

ज्ञानवापी विवादित ढाँचे में शिवलिंग मिलने के बाद अब मथुरा के शाही ईदगाह मस्जिद को लेकर नई याचिका दायर हुई है, जिसमें इसे सील करने की माँग की गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,366FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe