Thursday, July 25, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'आत्मसम्मान से बढ़ कर कुछ नहीं': सचिन-रैना से लेकर अक्षय-सलमान और श्रद्धा-कंगना तक, PM...

‘आत्मसम्मान से बढ़ कर कुछ नहीं’: सचिन-रैना से लेकर अक्षय-सलमान और श्रद्धा-कंगना तक, PM मोदी को मिला सेलेब्स का साथ, मालदीव ने अपने मंत्री के बयान से काटी कन्नी

पीएम मोदी के लक्षद्वीप दौरे की तस्वीरें देखने के बाद मालदीव की मंत्री ने जो अभद्र टिप्पणी की थी, उस पर मालदीव सरकार का बयान आया है। भारत ने यह मामला राजनयिक तरीके से उठाया था, अब मालदीव की सरकार ने इस पर बयान जारी किया है।

पीएम मोदी के लक्षद्वीप दौरे की तस्वीरें देखने के बाद मालदीव की मंत्री ने जो अभद्र टिप्पणी की थी, उस पर मालदीव सरकार का बयान आया है। भारत ने यह मामला राजनयिक तरीके से उठाया था, अब मालदीव की सरकार ने इस पर बयान जारी किया है। वहीं प्रधानमंत्री की तस्वीरों को देख कर फ़िल्मी सितारे भी लक्षद्वीप जाने और इसके प्रमोशन की बात कर रहे हैं। भारतीय सितारों ने भी प्रधानमंत्री के अपमान की बात को उठाया है।

प्रधानमंत्री मोदी पर मालदीव की मुइज़्ज़ू सरकार में युवा मामलों की उप मंत्री मरियम शिनुआ ने एक्स (पहले ट्विटर) पर अभद्र टिप्पणी की थी। इसको लेकर मालदीव सरकार ने एक बयान जारी करके सफाई पेश की है।

मालदीव की सरकार ने कहा है, “मालदीव की सरकार सोशल मीडिया पर विदेशी नेताओं और बड़े पदों पर बैठे लोगों पर दिए गए अपमानजनक बयानों से वाकिफ है। यह निजी विचार हैं और मालदीव की सरकार का प्रतिनिधित्व नहीं करते।”

मालदीव की सरकार ने आगे कहा, “मालदीव की सरकार मानती है कि लोगों को अपने विचार रखने की आजादी होनी चाहिए लेकिन ऐसे नहीं जो कि घृणा और हिंसा फैलाएँ और मालदीव के अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों के साथ रिश्तों को बिगाड़ें। सरकार के विभाग उन लोगों के खिलाफ एक्शन लेने में बिलकुल नहीं हिचकेंगे जिन्होंने यह अपमानजनक बयान दिया है।”

जहाँ मालदीव की सरकार एक ओर अपने मंत्री के बयान पर एक्शन लेने की बात कर रही है। वहीं भारतीय स्टार्स भी प्रधानमंत्री के समर्थन में उतर आए हैं। प्रधानमंत्री मोदी के लक्षद्वीप दौरे के बाद भारतीय टूरिस्ट द्वीपों को बढ़ावा देने की मांग को बॉलीवुड से समर्थन मिला है। बॉलीवुड स्टार सलमान खान, श्रद्धा कपूर, जॉन अब्राहम और क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर समेत अन्य सितारों ने भारतीय बीचों को बढ़ावा देने को लेकर ट्वीट किए हैं।

बॉलीवुड स्टार अक्षय कुमार ने एक्स (पहले ट्विटर) पर लिखा, “मैंने मालदीव के बड़े लोगों को भारतीयों के खिलाफ घृणा वाले कमेन्ट करते हुए देखा। वह यह कमेन्ट ऐसे लोगों पर कर रहे हैं जो उन्हें सबसे ज्यादा टूरिस्ट भेजते हैं। हम अच्छे पड़ोसी हैं लेकिन हम ऐसी बिना बात की हिंसा क्यों सहें? मैंने कई बार मालदीव की यात्रा की है और हमेशा तारीफ की है लेकिन आत्मसम्मान पहले आता है। हमें अपने द्वीपों को प्रमोट करना चाहिए।”

बॉलीवुड स्टार जॉन अब्राहम ने एक्स (ट्विटर) पर लिखा, “सबसे बढ़िया भारतीय मेहमाननवाजी, अतिथि देवो भव: के भाव और विशाल समुद्र वाली लाइफस्टाइल के साथ। लक्षद्वीप जाने लायक जगह है।”

श्रृद्धा कपूर ने लिखा, “इन सब फोटो और मीम्स के कारण मुझे तो पीछे छूटने का डर हो रहा है। लक्षद्वीप में इतना सुंदर तट, समुद्री रेखा और ऐसा स्थानीय कल्चर, मैं तो लक्षद्वीप के लिए छुट्टी बुक करने वाली हूँ। इस साल क्यों नहीं भारतीय बीचों पर जाया जाए।

सलमान खान ने लिखा, “लक्षद्वीप के सुंदर, साफ़ और स्टनिंग समुद्र बीच पर हमारे माननीय प्रधान मंत्री नरेंद्रभाई मोदी को देखना बहुत अच्छा है, और सबसे अच्छी बात यह है कि ये हमारे भारत में हैं।”

क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर भी भारतीय पर्यटन को बढ़ावा देने की मुहिम को आगे बढ़ाने में जुट गए। उन्होंने सिंधुदुर्ग की तस्वीरें डाली। उन्होंने बताया कि इस शहर में उन्होंने सब कुछ पाया है। उन्होंने भारतीय बीचों की सुन्दरता की भी बात की।

भारतीय अभिनेत्री कंगना रनौत ने भी मालदीव के राष्ट्रपति की पार्टी के एक नेता जाहिद रमीज की ‘भारतीयों के पास से आने वाली दुर्गन्ध’ को लेकर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा है कि यह मुस्लिम घृणा है। लक्षद्वीप में 98% मुस्लिम हैं और उनके खिलाफ ऐसी बात की जा रही है। उन्होंने कहा है कि यह नस्लभेदी और बेवकूफी वाली बात है।

सुरेश रैना ने भी मालदीव मंत्री के कमेंट पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उन्होंने बहुत बार मालदीव की खूबसूरती की तारीफ की है। लेकिन अब आत्मसम्मान से जरूरी कुछ भी नहीं है। अपने ट्वीट में उन्होंने भी भारतीय द्वीपों को एक्सप्लोर करने की गुजारिश की।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री के लक्षद्वीप की तस्वीरों को डालने के बाद मालदीव के कई अकाउंट ने भारतीयों को लेकर घृणा वाली टिप्पणियाँ की थीं। इसमें मालदीव की बड़ी हस्तियाँ भी शामिल थीं। अब मालदीव की विपक्ष की पार्टियों ने भी सरकार को याद दिलाया है कि वह भारत के साथ तमीज से पेश आएँ।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -