Friday, July 23, 2021
Homeसोशल ट्रेंडNCP नेता नवाब मलिक को चढ़ा शेरो-शायरी का खुमार, ट्विटर पर हुए ट्रोल

NCP नेता नवाब मलिक को चढ़ा शेरो-शायरी का खुमार, ट्विटर पर हुए ट्रोल

नवाब मलिक ने आशिकाना शायरी में न केवल ट्विटर पर शेयर की, बल्कि शिवसेना सांसद और सामना के कार्यकारी सम्पादक राउत को टैग भी कर दिया। इसके बाद उनकी जमकर ट्रोलिंग हुई। किसी ने मीम में भावनाएँ व्यक्त की तो किसी ने उम्र की याद दिला दी।

5वीं बार के विधानसभा सदस्य और एनसीपी की मुंबई इकाई के अध्यक्ष नवाब मलिक को महा विकास अघाड़ी के
अपने साथी संजय राउत की तरह ट्विटर पर शेरो-शायरी करने का कीड़ा काट लिया है। उन्होंने न केवल बेहद आशिकाना शायरी आज (मंगलवार, 10 दिसंबर, 2019 को) ट्विटर पर शेयर की, बल्कि शिवसेना सांसद और सामना के कार्यकारी सम्पादक राउत को टैग भी कर दिया।

बस, फिर क्या था? ट्विटर पर उनकी आज शाम जमकर ट्रोलिंग हुई। एक व्यक्ति ने शब्दों की बजाय मीम में भावनाएँ व्यक्त करते हुए पोस्ट किया:

कुछ लोगों को उनका यह ‘टैलेंट’ इतना बुरा लगा कि:

सीवोटर के प्रबंध निदेशक और मुख्य सम्पादक यशवंत देशमुख भी उनकी भावनाओं पर “मैं वारी जावां” हुए बिना नहीं रह पाए।

और भी काफी लोगों को यह ‘हाले-दिल’ छू गया।

लेकिन कुछ निष्ठुर ट्विटर यूज़र भी थे, जिन्होंने नवाब मलिक की उम्र का तकाज़ा याद दिलाना शुरू कर दिया। साथ ही बहते पानी में हाथ धोते हुए राउत पर भी भड़ास निकाल ली।

एक शायरी के ‘हाथोंहाथ’ लिए जाने भर से नवाब मलिक का मन भी नहीं भरा। थोड़ी देर बाद उन्होंने फिर लिखा:

शायरी से श्राप तक: क्लर्क से संपादक और नेता बने संजय राउत ने जब फैलाया था रायता, आज खुद फैल गए!

संजय राउत ने जब बना दिया ‘धोबी का कुत्ता’, तब उद्धव का इशारा- BJP से गठजोड़ की उम्मीद

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कौन है स्वरा भास्कर’: 15 अगस्त से पहले द वायर के दफ्तर में पुलिस, सिद्धार्थ वरदराजन ने आरफा और पेगासस से जोड़ दिया

इससे पहले द वायर की फर्जी खबरों को लेकर कश्मीर पुलिस ने उनको 'कारण बताओ नोटिस' जारी किया था। उन पर मीडिया ट्रॉयल में शामिल होने का भी आरोप है।

जिस भास्कर में स्टाफ मर्जी से ‘सूसू-पॉटी’ नहीं कर सकते, वहाँ ‘पाठकों की मर्जी’ कॉर्पोरेट शब्दों की चाशनी है बस

"भास्कर में चलेगी पाठकों की मर्जी" - इस वाक्य में ईमानदारी नहीं है। पाठक निरीह है, शब्दों का अफीम देकर उसे मानसिक तौर पर निर्जीव मत बनाइए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,862FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe