Friday, July 1, 2022
Homeसोशल ट्रेंड'नागवार हुकूमत... मदीना को बना देगी आवारगी का अड्डा': सऊदी अरब को 'मदीना में...

‘नागवार हुकूमत… मदीना को बना देगी आवारगी का अड्डा’: सऊदी अरब को ‘मदीना में सिनेमा’ पर भारत-पाक के मुस्लिम भेज रहे लानत

ये भारत और पाकिस्तानी मुसलमान हैं जिन्होंने मिल कर एक ऐसे देश के विरुद्ध अभियान छेड़ा हुआ जो पूरे विश्व के मुस्लिमों की सहायता करने को तैयार रहता है।

सऊदी अरब की हुकूमत ने जब से मदीना शरीफ में सिनेमा हॉल खोलने की बात कही है उसी समय से भारतीय मुसलमानों में नाराजगी है। कई मुस्लिम समूह और उलेमा अब सऊदी अरब की हुकूमत के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे हैं। जगह-जगह अधिक विरोध की तैयारियाँ हो रही हैं।

रजा अकादमी द्वारा पोस्ट की गई तस्वीरों में देख सकते हैं कि कैसे बड़ी तादाद में भारतीय मुस्लिम समुदाय के लोग पोस्टर लेकर खड़े हैं। इस बाबत उन्होंने एक ट्विटर ट्रेंड अलर्ट भी जारी किया है। इसमें बताया गया है, “सऊदी हुकूमत ने जो मदीना शरीफ में सिनेमा घर खोलने का ऐलान किया है। उसके खिलाफ़ 23 सितंबर 2021 को मुंबई में उलमाये अहले सुन्नत का एहतेजाज होगा।”

पोस्टर में अपील की गई है कि सभी लोग #Bancinemainmadinashareef के ट्वीट करके इस अभियान में शामिल हों और किंग सलमान और सऊदी की एंबेसी को टैग करें।

तंजीम के राष्ट्रीय महासचिव मौलाना शहाबुद्दीन रजवी ने इस संबंध में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि सऊदी हुकूमत सिनेमाघर खोलकर इस्लाम को बदनाम करना चाहती है। उसे मक्का और मदीना शरीफ की पवित्रता भंग नहीं करने दी जाएगी। मक्का शरीफ में खुदा का घर है और मदीना शरीफ में पैगंबरे इस्लाम है, जिनसे दुनिया भर के मुसलमानों की आस्था जुड़ी है।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, खानकाह कादरिया रहमानिया चनहटा के गद्दीनशीन मौलाना सूफी अब्दुर्रहमान कादरी ने मदीना में सिनेमा खुलने की बात सुन कहा कि कुरान और हदीस ने मुस्लिम समाज को बुराइयों से बचने का फरमान जारी किया है। गाना-बजाना और तमाशे जैसी बुरी चीजों को सऊदी हुकूमत खत्म करने के बजाय बढ़ावा दे रही है। ऐसे ही खानकाह जहांगीरिया कैंट के गद्दीनशीन सूफी पीर मोहम्मद हनीम लियाकती ने कहा कि सऊदी हुकूमत और उसके युवा शहजादे मोहम्मद बिन सलमान नाजायज कामों को बढ़ावा दे रहे हैं।

बता दें कि ट्विटर पर इस समय #ShameOnYouSaudiGovt ट्रेंड हो रहा है। ये भारत और पाकिस्तानी मुसलमान हैं जिन्होंने मिल कर एक ऐसे देश के विरुद्ध अभियान छेड़ा हुआ जो पूरे विश्व के मुस्लिमों की सहायता करने को तैयार रहता है। ऐसे में अन्य यूजर्स विरोध करने वालों को कह रहे हैं कि अगर लोगों को सऊदी से भी परेशानी है तो फिर उन्हें वहाँ भी नहीं जाना चाहिए।

मालूम हो कि इस हैशटैग को ट्विटर पर ट्रेंड करवाते हुए कहा जा रहा है कि मुस्लिम अपने पाक जगहों पर अल्लाह से अपने गुनाहों की माफी माँगने जाते हैं न कि और गुनाह करने।

कुछ लोग सऊदी हुकूमत के इस फैसले में इजरायल को घुसा रहे हैं। उनका कहना है कि मदीना पूरे उम्माह का है न कि इजरायल के नौकरों को। ये सरकार गिर जाएगा। इससे मदीना की पाकीजगी को खतरा है।

निजाम सऊदी हुकूमत को बेशुमार लानतें भेजते हुए कहते हैं, जिस मुकद्दस सरजमीं पर चप्पल पहनकर चलना गवारा नहीं, वहाँ ये नागवार लोग आवारगी का अड्डा बनाएँगे!

यहाँ ये भी बता दें कि सऊदी अरब की सरकार ने पिछले साल नवंबर के अंत में मुसलमानों के पाक शहर मदीना में किंग सलमान रोड पर 10 सिनेमा घर, 32 रेस्टोरेंट और 2 मनोरंजन स्थल विकसित करने की घोषणा की थी। खबरों के अनुसार, आदेश के बाद इनका निर्माण कार्य जनवरी 2022 तक पूरा होना मुकर्रर बताया गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,269FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe