Saturday, July 31, 2021
Homeसोशल ट्रेंडTikTok पर समीर खान ने कहा था - कपड़े के टुकड़े (मास्क) पर नहीं,...

TikTok पर समीर खान ने कहा था – कपड़े के टुकड़े (मास्क) पर नहीं, अल्लाह पर भरोसा… हुआ कोरोना+

समीर खान अपने उस पुराने टिकटॉक वीडियो में कहता दिखता है कि वह कपड़े के इस टुकड़े पर भरोसा नहीं करता, वह अल्लाह पर भरोसा करता है।

कुछ दिन पहले तक कोरोना संक्रमण से बचाव करने वाले मास्क का मजाक बनाने वाला टिकटॉक यूजर समीर खान अब खुद कोरोना संक्रमित निकला है। समीर खान मध्य प्रदेश के सागर जिले का रहना वाला है और सागर का पहला कोरोना पॉजिटिव केस है। कुछ दिन पहले इसका एक टिकटॉक वीडियो आया था, जिसमें ये पूरी जहालत नुमाया करता हुआ मास्क की हँसी उड़ाता है। एबीपी लाइव की रिपोर्ट अनुसार समीर खान अपने उस पुराने टिकटॉक वीडियो में कहता दिखता है कि वह कपड़े के इस टुकड़े पर भरोसा नहीं करता, वह अल्लाह पर भरोसा करता है।

अब जब समीर खान कोरोना से संक्रमित हो अस्पताल में पड़ा है, तब उसकी आवाज से सारी जहालत भरी अकड़ गायब है। नए वीडियो में वह अपने टिकटॉक फ़ॉलोवर्स से खुद के लिए दुआ करने की अपील करता हुआ दिखाई पड़ता है। अस्पताल में शूट किए गए इस वीडियो में समीर खान मरीजों वाले कपड़े पहने हुए है और खुद के कोरोना से संक्रमित होने की बात कर रहा है।

सागर का समीर खान इस जहालत का अकेला वारिस नहीं है जो कोरोना महामारी से लड़ने के लिए जारी किए दिशा-निर्देशों का मजाक बनाता दिखता है। दरअसल, लॉकडाउन के बावजूद देखा जा रहा है कि मुस्लिम समुदाय के लोग निरंतर लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं और कोरोना को लेकर हर तरह की अफवाहों को बढ़ावा दे रहे हैं।

‘कोरोना वायरस हमारे रब की NRC, कौन रहेगा और कौन जाएगा… अब वही फैसला करेगा’ – TikTok पर जहरीला ट्रेंड

#जिहाद_फैलाता_TikTok: अफवाह और जिहाद का अड्डा बन गया है टिकटॉक, उठी बैन करने की माँग

इन घटनाओं ने पुलिस और प्रशासन के काम को दोगुना कर दिया है। मुस्लिम समुदाय में ऐसी भी अफवाहें निरंतर देखने को मिल रही हैं, जिनमें कोरोना वायरस का इलाज सुन्नत और नमाज पढ़ना बताया जा रहा है। यही नहीं, कुछ मौलवी भी यह कहते देखे गए हैं कि ताबीज पहनकर कोरोना वायरस पर काबू पाया जा सकता है।

इस प्रकार की अफवाह और वीडियो का सबसे बड़ा स्रोत सोशल मीडिया पर टिकटॉक नामक मोबाइल एप्लिकेशन बनती जा रही है। हाल ही में कुछ ऐसे युवकों की गिरफ्तारी भी हुई है, जो टिकटॉक वीडियो के जरिए यह बताते देखे गए कि कोरोना अल्लाह का अजाब (कहर) है।

एक युवक को टिकटॉक पर एक ऐसा वीडियो बनाते हुए पकड़ा गया था, जो 500 रुपयों के नोटों की गड्डी पर अपनी नाक पोंछते हुए देखा गया था। ऐसा करने के पीछे युवक की मंशा इस वायरस के संक्रमण को बढ़ाने का सन्देश देना तो था ही, साथ में वह इस वायरस को अल्लाह का कहर भी कहते हुए देखा गया। हालाँकि, सोशल मीडिया पर इस वीडियो के वायरल होते ही इस मुस्लिम युवक को नासिक पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिवाजी से सीखा, 60 साल तक मुगलों को हराते रहे: यमुना से नर्मदा, चंबल से टोंस तक औरंगज़ेब से आज़ादी दिलाने वाले बुंदेले की...

उनके बारे में कहते हैं, "यमुना से नर्मदा तक और चम्बल नदी से टोंस तक महाराजा छत्रसाल का राज्य है। उनसे लड़ने का हौसला अब किसी में नहीं बचा।"

हिंदू मंदिरों की संपत्तियों का दूसरे धर्म के कार्यों में नहीं होगा उपयोग, कर्नाटक में HRCE ने लगाई रोक

कर्नाटक के हिन्दू रिलीजियस एण्ड चैरिटेबल एंडोवमेंट्स (HRCE) विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश में यह कहा गया है कि हिन्दू मंदिर से प्राप्त किए गए फंड और संपत्तियों का उपयोग किसी भी तरह के गैर -हिन्दू कार्य अथवा गैर-हिन्दू संस्था के लिए नहीं किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe