Tuesday, August 3, 2021
Homeसोशल ट्रेंडCAA-विरोधी को नहीं पसंद आई CAA-समर्थक ड्राइवर की FoE, Ola से की शिकायत

CAA-विरोधी को नहीं पसंद आई CAA-समर्थक ड्राइवर की FoE, Ola से की शिकायत

"आपने तब विरोध किया जब कश्मीरी पंडितों का बलात्कार और उनकी हत्या की जा रही थी? आप उन देशद्रोही लोगों में से एक हैं, जिन्हें सरकार की हर बात में बुराई नजर आती है। आप जरूर CAA और NRC के भी विरोध में होंगे।"

सत्ता-विरोधी दलों ने मानो CAA-विरोधी माहौल के बहाने अपनी मानसिकता के जहर को भुनाने की कसम खा ली है। इसका ही एक ताजा उदाहरण कैब सर्विस ओला (Ola) के एक ड्राइवर के साथ देखने को मिला है, जिसे एक CAA विरोधी ने सिर्फ इस वजह से Ola से नौकरी से निकलवा दिया क्योंकि वह CAA और NRC के मुद्दे पर सरकार के समर्थन में था। पिछले कुछ समय से देशभर से ऐसी घटनाएँ देखने को मिल रही हैं, जिनमें CAA और NRC के विषय पर सरकार का समर्थन करना लोगों को महँगा पड़ गया।

Ola कैब सर्विस ने अपने एक ड्राइवर को एक CAA-विरोधी की शिकायत पर निकाल दिया है। ट्विटर पर कनव शर्मा नाम के एक व्यक्ति ने, जो कि ‘A.T. Kearney’ नाम की एक कम्पनी में मैनेजमेंट कंसल्टेंट के तौर पर काम करते हैं (उनके ट्विटर द्वारा प्राप्त जानकारी) ने अपने ट्विटर अकाउंट के जरिए एक ओला कैब ड्राइवर के प्रति अपनी नफरत को जाहिर किया है।

कनव शर्मा ने अपने ट्वीट्स में लिखा है कि ओला कैब ड्राइवर ने उन्हें फोन पर बात करते हुए सुना, जिसमें कि वो भारत की आर्थिक स्थिति की आलोचना कर रहे थे। इस पर कैब ड्राइवर ने अपना विचार रखते हुए कनव शर्मा से कहा कि मोदी सरकार को तो अभी सिर्फ 6 साल हुए हैं और कॉन्ग्रेस द्वारा सत्तर सालों तक किए गए नुकसान के लिए मोदी को जिम्मेदार ठहरना गलत होगा। इस पर कनव शर्मा ने ड्राइवर से पूछा कि कॉन्ग्रेस ने क्या नुकसान किया?

कनव शर्मा के अनुसार, ड्राइवर ने उनसे कहा कि कॉन्ग्रेस ने JNU जैसी संस्थाएँ बनाई जो कि आज टुकड़े-टुकड़े गैंग के लिए वैश्यावृत्ति की जगह बन चुका है। कनव शर्मा ने लिखा है कि ड्राइवर ने उनसे कहा- “आपको पता है कि नेहरू कौन था? वो इंडिया के पहले प्रधानमंत्री थे लेकिन उनके दादा मुस्लिम थे जो कि हिन्दुओं को बेवकूफ बनाने के लिए कन्वर्ट होकर हिन्दू बन गए थे।”

इसके बाद कनव शर्मा ने लिखा कि उन्होंने ड्राइवर को तथ्यों को जाँचने की सलाह दी और कहा कि यह तथ्य उनकी आर्थिक स्थिति की समस्या का समाधान नहीं हो सकता है। इसके बाद कनव शर्मा ने लिखा है कि ड्राइवर ने उन्हें जवाब देते हुए कहा- “आप उन देशद्रोही लोगों में से एक हैं, जिन्हें सरकार की हर बात में बुराई नजर आती है। आप जरूर CAA और NRC के भी विरोध में होंगे।”

इस पर कनव शर्मा ने ट्वीट में लिखा है कि उन्होंने जवाब दिया कि हाँ वो CAA और NRC, दोनों के विरोध में हैं। इसके बाद कनव शर्मा ने कहा कि ओला ड्राइवर ने कहा- “आपने तब विरोध किया जब कश्मीरी पंडितों का बलात्कार और उनकी हत्या की जा रही थी?” इसके बाद कनव ने ड्राइवर को जवाब दिया कि उनके साथ गलत हुआ लेकिन वो जम्मू-कश्मीर से हैं और सभी धर्म के लोगों के साथ बड़े हुए हैं इसलिए वो उन सबकी इज्जत करते हैं।”

कनव शर्मा ने लिखा है कि इसके बाद ड्राइवर ने उनसे कहा- “तुम्हारा परिवार 1990 की घटना में बच गया, तुम लोग भी उनके साथ शामिल रहे होंगे।” कनव इस पर अपनी प्रतिक्रिया में लिखते हैं कि उसे यह पता नहीं रहा होगा कि वो एक कश्मीरी पंडित नहीं हैं, जिनके साथ ना 1990 की घटना हुई और ना ही कश्मीर से संबंध रखते हैं।”

कनव शर्मा ने ड्राइवर पर आरोप लगाया कि उसने उन्हें पाकिस्तान जाने की सलाह देते हुए यह भी कहा कि उनकी जैसी मानसिकता वाले लोगों के बिना यह देश ज्यादा साफ़ होता।” इसके बाद कनव शर्मा ने लिखा है कि वो अपनी जगह पर पहुँच चुके थे और उन्होंने Ola कैब सर्विस को टैग करते हुए ड्राइवर की शिकायत की। कनव ने Ola को टैग करते हुए लिखा कि बेहतर होता कि उनके ड्राइवर्स बजाए लोगों को देशद्रोही बताने के अपनी ड्राइविंग पर ज्यादा ध्यान दें।

इसके बाद कैब सर्विस Ola ने कनव शर्मा को आश्वस्त करते हुए ट्वीट का जवाब देकर लिखा है कि वो उनसे असुविधा के लिए क्षमा चाहते हैं। Ola ने लिखा कि उन्होंने अपने ड्राइवर पार्टनर से इस बारे में सम्पर्क किया है और वो उनके खिलाफ आवश्यक कार्रवाई करेंगे।

इसके बाद कुछ ट्विटर यूजर्स ने शिकायतकर्ता की बिना सुबूत के आरोप लगाने पर सवाल उठाए हैं और Ola से वापस सवाल किए हैं कि उनके पास क्या सबूत हैं कि कनव शर्मा द्वारा लगाए गए आरोप सच हैं? साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि यदि ड्राइवर ने यह कहा भी है तो यह उसकी अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता है, जो कि उससे नहीं छीनी जा सकती है।

एक नजर कैब ड्राइवर के समर्थन में किए जा रहे ट्वीट्स पर-

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमित शाह ने बना दी असम-मिजोरम के बीच की बिगड़ी बात, अब विवाद के स्थायी समाधान की दरकार

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के प्रयासों के पश्चात दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने जिस तरह की सतर्कता और संयम दिखाया है उसका स्वागत होना चाहिए।

वे POK क्रिकेट लीग के चीयरलीडर्स, इधर कश्मीर पर भी बजाते हैं ‘अमन’ का झुनझुना: Pak वालों से ही सीख लो सेलेब्रिटियों

शाहिद अफरीदी, राहत फ़तेह अली खान और शोएब अख्तर कभी इस्लाम और पाकिस्तान के खिलाफ नहीं जा सकते, गलत या सही। भारतीय सेलेब्स इनसे क्या सीखे, जानिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,775FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe