Tuesday, November 29, 2022
Homeसोशल ट्रेंड'नंगा ही रहना चाहिए तुम्हें' - कॉन्ग्रेसी नेता डॉ उदित राज के लिए कट्टरपंथी...

‘नंगा ही रहना चाहिए तुम्हें’ – कॉन्ग्रेसी नेता डॉ उदित राज के लिए कट्टरपंथी मुस्लिम क्यों लिख रहे असंसदीय भाषा?

"अगर ईश्वर की मर्जी होती कि औरत मुँह व नाक ढकें तो पैदा ही ढक कर करता... बुर्का में कैद और ड्रग बेच कर पैसा... क्या यही इस्लाम है?"

अफगानिस्तान की महिलाओं को लेकर ‘विशेष रूप से चिंतित’ रहने वाले कॉन्ग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता उदित राज ने एक बार फिर तालिबान और इस्लाम पर प्रश्न उठाया है। हाल ही में उन्होंने अफगानिस्तान में धर्मांधता के कारण महिलाओं की दयनीय स्थिति पर ट्वीट कर चिंता जताई थी लेकिन उन्हें मुस्लिम कट्टरपंथियों की गंदी गालियों का सामना करना पड़ा था।

उदित राज ने एक बार फिर तालिबान के बहाने इस्लाम की बात की। उन्होंने ट्वीट करके कहा:

“तालिबानी महिलाओं का शोषण करें, बुर्का में कैद और ड्रग बेचकर पैसा कमाएँ, क्या यही इस्लाम है?”

इस ट्वीट के रिएक्शन में उदित राज को कट्टरपंथी मुस्लिम गालियाँ दे रहे थे। गालियाँ फिर भी ऐसी नहीं थीं, जिसे पचाया नहीं जा सके लेकिन… उदित राज पचा नहीं पाए। एक और ट्वीट कर दिया।

कट्टरपंथियों के लिए नया वाला ट्वीट एकदम जहरीला। कुल मिला कर गालियों का उड़ता तीर अब उदित राज ने अपनी ओर मोड़ लिया। देखिए इसके बाद कैसे-कैसे ट्वीट (गाली बेहतर शब्द) से डॉक्टर उदित राज का सामना हुआ।

इश्तियाक अली नाम के कट्टरपंथी इंसान ने उदित राज की भावना को बिना समझे लिख दिया, “जब तुम नंगा जन्म लिया तो कपड़े क्यों पहनता है, नंगा ही रहना चाहिए तुम्हें”

यह शायद कोई महिला हैं। दिल पर ले लीं। इस्लामी बातों पर रिएक्शन देने तक सही था लेकिन जाति वाली बात भी लिख दीं। उदित राज चाहें तो इस महिला को SC/ST एक्ट में गिरफ्तार करवा सकते हैं। यह लिखती हैं:

“मैं हिज़ाब अपने मर्जी से पहनती हूँ, अगर आपको अपनी पत्नी बच्चों को नंगा रखना है तो आप शौक से रखें। कोई जबरदस्ती नहीं है, लेकिन ऐसी वाहियात पोस्ट कर के अपनी मानसिकता जाहिर ना करें। खैर कुछ भी हो, दलित ही रहोगे।”

# उदितवा नंगा है – यह लिख कर इस शख्स ने मानो कॉन्ग्रेसी नेता डॉ उदित राज के खिलाफ ट्रेंड ही चला दिया।

पहले वाले ट्वीट पर उदित राज को क्या-क्या गालियाँ पड़ीं, देखते हैं। और हाँ, गालियों के अलावा उनके कुछ सदाबहार ‘प्रशंसक’ भी हैं, जो उन्हें कॉन्ग्रेस अध्यक्ष बनाने पर तुले हैं, उनके भी ट्वीट देखिए जरा!

उदित राज के ट्वीट का स्क्रीनशॉट

हालाँकि इस ट्वीट के बाद उन्हें मुस्लिमों की आलोचना झेलनी पड़ी और कई ऐसे यूजर्स ने उनसे इस्लाम की तुलना तालिबान से करने के लिए मना किया तो कुछ यूजर अपने स्वभाव के मुताबिक RSS की विचारधारा तक पहुँच गए।

हालाँकि कॉन्ग्रेस का सदस्य होने के नाते उदित राज के इस्लाम पर प्रश्न उठाए जाने के साहस की कई यूजर्स द्वारा प्रशंसा की गई और उन्होंने उदित राज को कॉन्ग्रेस का अध्यक्ष बनाए जाने की माँग की। एक यूजर ने तो यहाँ तक लिख दिया, ‘सोनिया गाँधी इस्तीफा दो, उदित जी को कॉन्ग्रेस का प्रेसिडेंट बनाओ।”

ज्ञात हो कि हाल ही में अपने एक ट्वीट में कॉन्ग्रेस के प्रवक्ता डॉ. उदित राज ने कुछ छात्राओं की फोटो पोस्ट की थी, जो स्कर्ट में थीं और उनके बारे में लिखा था कि यह 1960 के दशक के अफगानिस्तान के कॉलेज का दृश्य है लेकिन धर्मांधता ने आज कहाँ पहुँचा दिया। उन्होंने आगे लिखा था कि आज वहाँ महिलाएँ गुलामी व बुर्का में कैद हो गई हैं और भारत भी इसी ओर बढ़ रहा है। लेकिन उदित राज के इस पोस्ट के बाद कई कट्टरपंथी मुस्लिमों को उनकी यह बात पसंद नहीं आई और उन्होंने उदित राज के लिए अपशब्द कहे थे और कमेंट में गालियाँ भी दी थीं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

8 दिसंबर तक चुप रहो, वरना जेल में ही होगी हत्या… ‘सत्येंद्र जैन और मनीष सिसोदिया परिवार को दे रहे धमकियाँ’: महाठग के नए...

सुकेश ने दावा किया है कि मनीष सिसोदिया और सत्येंद्र जैन के मोबाइल नंबरों से परिवार पर दबाव बनाया जा रहा है। इसके अलावा धमकी दी जा रही है।

एक सप्ताह से हैक पड़ा है AIIMS का सर्वर, क्रिप्टोकरेंसी में ₹200 करोड़ माँग रहे हैकर्स: मैन्युअली हो रहा सारा काम, 4 करोड़ मरीजों...

एम्स के सर्वर में कई वीआईपी मरीजों के डेटा भी मौजूद हैं। इसमें पूर्व प्रधानमंत्री, मंत्री, समेत कई बड़े अधिकारी भी शामिल हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
235,969FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe