Sunday, July 14, 2024
Homeसोशल ट्रेंडब्रिटेन में क्यों हुआ 400 पार, एक 'बिल्ली' दे रही ग्राउंड रिपोर्ट: PM बनने...

ब्रिटेन में क्यों हुआ 400 पार, एक ‘बिल्ली’ दे रही ग्राउंड रिपोर्ट: PM बनने से पहले किएर स्टार्मर को थमाया ‘टाइमटेबल’, कहा- बीच बीच में चाहिए स्नैक्स

लैरी 17 वर्षीय बिल्ली है। वह ब्रिटेन के प्रधानमंत्री आवास में रहती है। उसे 'चीफ माउसर टू द कैबिनेट' का दर्जा मिला हुआ है। यह दर्जा आधिकारिक है। उसे 2011 में यह पदवी मिली थी। वह 2011 से ही प्रधानमंत्री आवास पर रहती है।

ब्रिटेन के आम चुनावों में 14 साल से सत्तारूढ़ कंजर्वेटिव पार्टी को करारी हार का सामना करना पड़ा है। इन चुनावों में लेबर पार्टी ने कंजर्वेटिव को मात देते हुए 400 सीटों से अधिक पर जीत हासिल की है। लेबर को इसी के साथ प्रचंड बहुमत मिल गया है।

कंजर्वेटिव पार्टी की हार के बाद ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनाक ने अपना इस्तीफ़ा राजा को दे दिया है। अब लेबर पार्टी के नेता किएर स्टार्मर ब्रिटेन के नए प्रधानमंत्री बन रहे हैं। उनकी पार्टी ने कुल 650 में से 412 सीटें जीत ली हैं।

ब्रिटेन के चुनावों में में कंजर्वेटिव पार्टी की इस हार के अनुमान पहले से लगाए जा रहे थे। अब इस हार को लेकर राजनीतिक विश्लेषक अलग-अलग तरीके से देख रहे हैं। कुछ राजनीतिक विश्लेषक इसे एंटी इनकम्बेंसी तो कुछ इसे कंजर्वेटिव की नीतियों का परिणाम बता रहे हैं। कुछ राजनीतिक विश्लेषकों ने इस हार के पीछे बढ़ती महँगाई और कोविड संकट को कारण बताया है। लेकिन इन सबसे अलग एक बिल्ली ‘लैरी द कैट’ ने भी बताया है कि कंजर्वेटिव क्यों हारे।

क्या कहा ‘लैरी द कैट’ ने?

लैरी द कैट ब्रिटेन की राजनीति पर समयसामयिक टिप्पणी करने वाला एक एक्स (पूर्व में ट्विटर) अकाउंट है। इसे ब्रिटेन के प्रधानमंत्री आवास 10, डाउनिंग स्ट्रीट पर रहने पली एक बिल्ली लैरी के नाम से बनाया गया है। यह अकाउंट लैरी के माध्यम से ब्रिटेन की राजनीति पर टिप्पणियाँ करता है।

लैरी द कैट के इस अकाउंट से ब्रिटेन में कंजर्वेटिव की हार पर कई टिप्पणियाँ लिखी गईं। एक ऐसे ही ट्वीट में लैरी ने लिखा, 4 जुलाई वो तारीख है जिस दिन देश ने बिना कोई सुविधा दिए टैक्स बढ़ाने वाले एक अलोकप्रिय और जमीन से दूर शासक को सत्ता से बाहर कर दिया।

दूसरे एक ट्वीट में लैरी ने लिखा कि कंजर्वेटिव पार्टी के तीन बड़े नेताओं ने पार्टी के लिए प्रचार तक नहीं किया, ऐसे में पार्टी की हार सुनिश्चित ही थी। यह बात ऋषि सुनाक के एक ट्वीट के जवाब में लिखी गई थी, जिसमें उन्होंने कंजर्वेटिव पार्टी में एकता बताई थी। इसमें ऋषि के अलावा ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री डेविड कैमरून और बोरिस जॉनसन के साथ ही डेविड गोव की तस्वीरें थी। यह तीनों कंजर्वेटिव पार्टी के बड़े नेता हैं।

लैरी ने एक और ट्वीट में लिखा, “मैं कोई राजनीतिज्ञ विशेषज्ञ नहीं हूँ, लेकिन जब कैबिनेट मंत्री ही विपक्ष के भारी बहुमत से जीतने का दावा करने की बात कर रहे हैं, तो ऐसा लगता नहीं कि कंजर्वेटिव का चुनाव अभियान ढंग से चल रहा है।”

कंजर्वेटिव पार्टी के अभियान को लेकर लैरी ने यह भी लिखा, “कंजर्वेटिव्स का चुनाव अभियान इस बात पर आधारित है कि लोग भूल जाएँ कंजर्वेटिव 14 साल से सत्ता में नहीं हैं। हो सकता है कि वो लोग कंजर्वेटिव के शासनकाल को भले भूल जाएँ लेकिन वह उन्हें माफ़ नहीं करेंगे।” लैरी की इन टिप्पणियों को ब्रिटेन समेत दुनिया भर में देखा गया है।

कौन है लैरी?

लैरी 17 वर्षीय बिल्ली है। वह ब्रिटेन के प्रधानमंत्री आवास में रहती है। उसे ‘चीफ माउसर टू द कैबिनेट’ का दर्जा मिला हुआ है। यह दर्जा आधिकारिक है। उसे 2011 में यह पदवी मिली थी। वह 2011 से ही प्रधानमंत्री आवास पर रहती है। लैरी द कैट को डेविड कैमरून में कार्यकाल में प्रधानमंत्री आवास में लाया गया था। उसे कैमरून ने एक नौकरशाह का दर्जा दिया था। लैरी का मुख्य काम प्रधानमंत्री आवास पर चूहे पकड़ना है।

लैरी लगातार प्रधानमंत्री आवास और उसके आसपास घूमा करती है। कहा जाता है कि उसे फोटो खिंचाना भी काफी पसंद है। उसके लगातार कई फोटो सामने आते रहते हैं। उसके यहाँ रहते हुए प्रधानमंत्री आवास में पाँच प्रधानमंत्री और उनके परिवार रहने आ चुके हैं। लैरी ने नए प्रधानमंत्री किए स्टार्मर से भी अपनी माँगे स्पष्ट कर दी है। लैरी के नाम से चलाए जाने वाले एक्स अकाउंट ने स्टार्मर को बधाई देते हुए लिखा कि लैरी के नाश्ते का वक्त सुबह 10 बजे, दोपहर के खाने का वक्त 11 बजे और रात के खाने का वक्त 3 बजे, 5 बजे और 7 बजे है।

लैरी ने लिखा कि इस बीच उसे कई बार हल्का फुल्का खाना भी चाहिए। लैरी ने कहा कि उसे ये मिलता रहे तो किएर की गद्दी को कोई आँच नहीं आने वाली। अब किएर लैरी के प्रधानमंत्री आवास पर रहते हुए छठे प्रधानमंत्री होंगे। लैरी की तस्वीरें लगातार अब सोशल मीडिया पर प्रसारित हो रही हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अर्पित त्रिपाठी
अर्पित त्रिपाठीhttps://hindi.opindia.com/
अवध से बाहर निकला यात्री...

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जगन्नाथ मंदिर के ‘रत्न भंडार’ और ‘भीतरा कक्ष’ में क्या-क्या: RBI-ASI के लोगों के साथ सँपेरे भी तैनात, चाबियाँ खो जाने पर PM मोदी...

कहा जाता है कि इसकी चाबियाँ खो गई हैं, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सवाल उठाया था। राज्य में भाजपा की पहली बार जीत हुई है, वर्षों से यहाँ BJD की सरकार थी।

मांस-मछली से मुक्त हुआ गुजरात का पालिताना, इस्लाम और ईसाइयत से भी पुराना है इस शहर का इतिहास: जैन मंदिर शहर के नाम से...

शत्रुंजय पहाड़ियों की यह पवित्रता और शीर्ष पर स्थित धार्मिक मंदिर, साथ ही जैन धर्म का मूल सिद्धांत अहिंसा है जो पालिताना में मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने की मांग का आधार बनता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -