Thursday, June 13, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'गलती हो गई आपको इंटरव्यू देकर' : वामपंथी मीडिया को तसल्ली से इंटरव्यू देने...

‘गलती हो गई आपको इंटरव्यू देकर’ : वामपंथी मीडिया को तसल्ली से इंटरव्यू देने वाले सत्यपाल मलिक की क्यों पत्रकार के आगे बँध गई थी घिग्घी, वीडियो वायरल

इस वीडियो में सुशांत ने सत्यपाल मलिक से उनके उस बयान पर भी सवाल किया जिसमें उन्होंने पीएम के खिलाफ सिखों को उकासाया था। सत्यपाल मलिक ने इंदिरा गाँधी की हत्या याद दिलाते हुए कहा था कि अच्छा हुआ मोदी सरकार ने कृषि कानून वापस ले लिए वरना उनका हाल इंदिरा गाँधी जैसा होता।

आजकल अपने मोदी विरोधी बयानों के कारण लेफ्ट मीडिया में छाए जम्मू-कश्मीक, बिहार और मेघालय के पूर्व गवर्नर सत्यपाल मलिक का एक हैरान करने वाला इंटरव्यू वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया है। देख सकते हैं कि द वायर समेत तमाम वामपंथी संस्थानों को तसल्लीबख्स साक्षात्कार देने वाले सत्यपाल मलिक इस इंटरव्यू में न केवल पत्रकार सुशांत सिन्हा के सवालों से भाग रहे हैं बल्कि ऑन कैमरा कह रहे हैं- “आपको को इंटरव्यू देकर उन्होंने गलती कर दी।”

इस वीडियो में क्या है?

दरअसल, सुशांत और सत्यपाल मलिक का वीडियो साल 2021 में कथित किसांन आंदोलन को लेकर है। इस वीडियो में सुशांत उनके कुछ बयानों पर सवाल कर रहे हैं। सुशांत पूछते हैं कि यदि मलिक किसानों के साथ हो रहे बर्ताव के साथ खुश नहीं थे तो क्यों वह गवर्नर के पद पर आसित रहे।

इस पर सत्यपाल मलिक जवाब देने की जगह कहते नजर आए, “मैं आपके एटिट्यूड से खुश नहीं हूँ, मैंने आपको इंटरव्यू देने के लिए हाँ बोलकर गलती की। आपको मेरे साथ ऐसा व्यवहार नहीं करना चाहिए।” मलिक ने कहा, “मुझे गवर्र पीएम और राष्ट्रपति ने बनाया है अगर वो बोल देंगे तो मैं पद छोड़ दूँगा।”

जब सुशांत ने उनसे एमएसपी पर सवाल किया तो उन्होंने कहा, “मेरे मुँह में जबरदस्ती ये सब मत डालिए मैं आपको नमस्ते करता हूँ मुझे कहीं जाना है। मैं दिन भर पत्रकारों को भुगतता हूँ। आपके जैसा बर्ताव किसी ने नहीं किया।”

इस वीडियो में सुशांत ने सत्यपाल मलिक से उनके उस बयान पर भी सवाल किया जिसमें उन्होंने पीएम के खिलाफ सिखों को उकासाया था। सत्यपाल मलिक ने इंदिरा गाँधी की हत्या याद दिलाते हुए कहा था कि अच्छा हुआ मोदी सरकार ने कृषि कानून वापस ले लिए वरना उनका हाल इंदिरा गाँधी जैसा होता।

इस बयान पर सुशांत ने पूछा कि लोगों को ये बयान धमकी जैसा लगा जिस पर सत्यपाल मलिक सफाई देते हुए बोले कि जो लोगों को लग रहा है वो गलत है। उन्होंने सिर्फ बताया था कि ये लोग बहुत समय तक चीजों को याद रखते हैं। इसमें कोई धमकी देते हैं। बस मशवरा था कि इनके साथ हिंसा मत करिए, बातचीत करके चीजों को सुलझा लीजिए।

वीडियो में देख सकते हैं कि जैसे ही सुशांत पूछते हैं कि आपके एक बयान के बाद अगर पीएम पर कोई हमला हो तो क्या वो जिम्मेदारी लेंगे इस पर सत्यपाल मलिक अपना पल्ला झाड़ कहते हैं कि उनकी क्यों जिम्मेदारी होगी और कोई हमला भी क्यों होगा। वीडियो के अंत में मिल को अपना माइक उतारते टाइम कहते सुना जा सकता है- ‘ले भाई गलती हो गई आगे से इनको कभी भी कोई इंटरव्यू नहीं देना न बुलाना।’

वामपंथी मीडिया में सत्यपाल मलिक

बता दें कि सत्यपाल मलिक इन दिनों वामपंथी मीडिया समूहों में काफी छाए हुए हैं। वो कभी द वायर के करण थापर को इंटरव्यू देते दिखते हैं तो कभी आरफा खानुम शेरवानी को। कुछ समय पहले उनकी मुलाकात रवीश कुमार से भी हुई थी। साक्षात्कारों में देखने को मिलता है कि वो काफी शांति से पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हैं और कुछ भी ऐसा कहते हैं जो लेफ्ट मीडिया के लिए बड़ी हेडलाइन होती है जबकि एक साल पुराने इस इंटरव्यू में उन्हें समझ नहीं आ रहा वो क्या जवाब दें। ये वीडियो सोशल मीडिया पर पिछले साल भी वायरल हुआ था और अब भी लोग इसे दोबारा शेयर करने लगे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़की हिंदू, सहेली मुस्लिम… कॉलेज में कहा, ‘इस्लाम सबसे अच्छा, छोड़ दो सनातन, अमीर कश्मीरी से कराऊँगी निकाह’: देहरादून के लॉ कॉलेज में The...

थर्ड ईयर की हिंदू लड़की पर 'इस्लाम' का बखान कर धर्म परिवर्तन के लिए प्रेरित किया गया और न मानने पर उसकी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी गई।

जोशीमठ को मिली पौराणिक ‘ज्योतिर्मठ’ पहचान, कोश्याकुटोली बना श्री कैंची धाम : केंद्र की मंजूरी के बाद उत्तराखंड सरकार ने बदले 2 जगहों के...

ज्तोतिर्मठ आदि गुरु शंकराचार्य की तपोस्‍थली रही है। माना जाता है कि वो यहाँ आठवीं शताब्दी में आए थे और अमर कल्‍पवृक्ष के नीचे तपस्‍या के बाद उन्‍हें दिव्‍य ज्ञान ज्‍योति की प्राप्ति हुई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -