Thursday, February 22, 2024
Homeसोशल ट्रेंडफिर जलील हुई 'पत्रकार' रोहिणी सिंह: UP पुलिस द्वारा महिला प्रदर्शनकारियों के उत्पीड़न के...

फिर जलील हुई ‘पत्रकार’ रोहिणी सिंह: UP पुलिस द्वारा महिला प्रदर्शनकारियों के उत्पीड़न के दावे को खुद पीड़िता ने नकारा

रोहिणी सिंह द्वारा कथित रूप से पुलिस कर्मियों के हाथों यौन उत्पीड़न के दावों का खंडन करते हुए, उन्होंने जोर देकर कहा, "उन्होंने मेरे साथ कुछ भी नहीं किया। कुछ भी जानबूझकर नहीं किया गया था। उनकी ऐसी कोई मंशा नहीं थी। जो भी हुआ है, भ्रमवश हुआ है।”

‘पत्रकार’ रोहिणी सिंह ने शुक्रवार (सितंबर 18, 2020) को ट्वीट करते हुए उत्तर प्रदेश में बेरोजगारी को लेकर विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिस कर्मियों के हाथों महिला प्रदर्शनकारियों के यौन उत्पीड़न का दावा किया।

एक महिला प्रदर्शनकारी की एक तस्वीर शेयर करते हुए रोहिणी सिंह ने ट्वीट किया, “अगर आप एक माँ हैं तो इस तस्वीर को देखकर आपको गुस्सा आना चाहिए। एक पिता हैं तो चिंतित होना चाहिए। एक भाई हैं तो खून खौलना चाहिए। बेटियाँ घर से निकले तो बलात्कार, छेड़खानी जैसी घटनाएँ तो अब उत्तर प्रदेश में आम बात थी। पर अब पुलिस द्वारा उनके साथ ऐसा बर्ताव? ये ‘रामराज्य’ है?”

हालाँकि, रोहिणी सिंह ने जिस महिला प्रदर्शनकारी का फोटो शेयर करते हुए उत्पीड़न का दावा किया था, उसने खुद ही इसका खंडन करते हुए कहा कि यह सब गलतफहमी की वजह से हुआ।

Screengrab of the tweet by Rohini Singh

महिला प्रदर्शनकारी जानबूझकर उत्पीड़न के दावों का खंडन करती है

पॉपुलर सोशल मीडिया यूजर अंकुर सिंह द्वारा शेयर किए गए वीडियो में महिला प्रदर्शनकारी कहती है, मेरा नाम कांची सिंह है। आज लखनऊ विश्वविद्यालय के गेट नंबर एक पर हम सभी लोगों के साथ मिलकर प्रदर्शन कर रहे थे। इस दौरान जैसे बाकी सभी लोगों को उठाकर पुलिस की गाड़ी में बैठा दिया, उसी तरह से मुझे भी बैठा दिया।

गलत पहचान का हवाला देते हुए, कांची सिंह ने स्पष्ट किया, “मेरे पहनावे के कारण पुलिस को थोड़ा सा भ्रम हो गया। उन्होंने मुझे लड़का समझ लिया और उठाकर गाड़ी में बैठा दिया।” रोहिणी सिंह द्वारा कथित रूप से पुलिस कर्मियों के हाथों यौन उत्पीड़न के दावों का खंडन करते हुए, उन्होंने जोर देकर कहा, “उन्होंने मेरे साथ कुछ भी नहीं किया। कुछ भी जानबूझकर नहीं किया गया था। उनकी ऐसी कोई मंशा नहीं थी। जो भी हुआ है, भ्रमवश हुआ है।”

UP पुलिस ने यौन उत्पीड़न के आरोपों से इनकार किया

पुलिस कमिश्नरेट लखनऊ ने एक बयान में स्पष्ट किया, “हम स्पष्ट करना चाहते हैं कि कानून व्यवस्था की स्थिति को बनाए रखने के लिए प्रदर्शनकारियों को हटाना अत्यंत आवश्यक था। चूँकि भीड़ बहुत बड़ी थी, इसलिए उनके पहनावे व वेशभूषा के आधार पर महिला एवं पुरुष बीच भेद करना मुश्किल था। अत: भूलवश, पुलिस कर्मी द्वारा महिला प्रदर्शनकारी को धरना स्थल से पुरुष प्रदर्शनकारी समझकर हटाया गया। यहाँ तक कि खुद महिला प्रदर्शनकारी ने भी बताया कि कि ऐसा वेशभूषा के चलते भ्रमवश हुआ। पुलिस कमिश्नरेट लखनऊ महिलाओं का सदैव सम्मान करती है और इस घटना पर खेद व्यक्त करती है।”

गौरतलब है कि यह पहली बार नहीं है कि पत्रकार ने भ्रामक समाचारों के साथ भाजपा की राज्य सरकारों को निशाना बनाने की कोशिश की है। इससे पहले मई में, रोहिणी सिंह ने, ‘द वायर’ के लिए एक लेख लिखा था, जिसका शीर्षक “Behind Ahmedabad’s Ventilator Controversy” था। इसमें आरोप लगाया गया था कि नरेंद्र मोदी सरकार राजकोट स्थित एक फर्म से 5000 वेंटिलेटर खरीद रही है, जिस पर पहले ही अहमदाबाद के सबसे बड़े COVID-19 अस्पताल में घटिया साँस लेने वाली मशीनों की आपूर्ति का आरोप है।

रिपोर्ट का लब्बोलुआब ये था कि खराब वेंटिलेटर बनाने वाली कंपनी के प्रमोटर भाजपा नेताओं के करीबी हैं। हालाँकि, भारतीय प्रेस सूचना ब्यूरो ने द वायर की रोहिणी सिंह द्वारा लगाए गए झूठ और का संज्ञान लिया। रिपोर्ट के संज्ञान में आने के बाद पीआईबी ने फैक्ट चेक किया है। पीआईबी ने पत्रकार रोहिणी सिंह के इस दावे को खारिज कर दिया था कि अहमदाबाद सिविल अस्पताल में खराब पाए गए वेंटिलेटर घटिया और खरीदे गए थे।

पीआईबी ने बताया था कि गुजरात सरकार के अनुसार, जिन वेंटिलेटर्स को खराब बताया गया, वो खरीदे नहीं गए थे। असल में ये दान में दिए गए थे, जो आवश्यक चिकित्सा मानकों पर खरे उतरते थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अलवर में जहाँ कटती थी गाय उस मंडी को चलाता था वारिस, बना रखा था IPS का फर्जी कार्ड: रिपोर्ट में बताया- सप्लाई के...

मकानों को ध्वस्त किया गया है, बिजली के पोल गिरा कर ट्रांसफॉर्मर हटाए गए हैं और खेती भी नष्ट की गई है। खुद कलक्टर अर्पिता शुक्ला ने दौरा किया।

खनौरी बॉर्डर पर पुलिस वालों को घेरा, पराली में भारी मात्रा में मिर्च डाल कर लगा दी आग… किसानों ने लाठी-गँड़ासे किया हमला, जम...

किसानों द्वारा दाता सिंह-खनौरी बॉर्डर पर पुलिसकर्मियों को घेर कर पुलिस नाके के आसपास भारी मात्रा में मिर्च पाउडर डाल कर आग लगा दी गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe