Wednesday, June 19, 2024
Homeसोशल ट्रेंडदिल्ली में CAA प्रदर्शनकारियों ने किया Zee न्यूज़ के पत्रकारों पर हमला

दिल्ली में CAA प्रदर्शनकारियों ने किया Zee न्यूज़ के पत्रकारों पर हमला

समाचार चैनल ज़ी न्यूज़ के एडिटर सुधीर चौधरी ने यह जानकारी ट्विटर पर शेयर करते हुए लिखा है- "इतनी असहनशीलता?" ज़ी न्यूज़ के पत्रकारों पर हमले की यह घटना दिल्ली के सुखदेव विहार की बताई जा रही है।

CAA विरोध धीरे-धीरे अपने वास्तविक स्वरूप में आने लगा है। हाल ही में न्यूज़ नेशन के संपादक दीपक चौरसिया पर शाहीन बाग़ में हुए हमले के बाद दिल्ली में ही प्रदर्शनकारियों ने ज़ी न्यूज़ के पत्रकारों पर हमला कर दिया। प्रदर्शनकारियों ने बैरकेडिंग तोड़कर पत्रकारों को घेरकर पीटा, यही नहीं उन्हें लात-घूँसे मारे गए।

समाचार चैनल ज़ी न्यूज़ के एडिटर सुधीर चौधरी ने यह जानकारी ट्विटर पर शेयर करते हुए लिखा है- “इतनी असहनशीलता?”

ज़ी न्यूज़ के पत्रकारों पर हमले की यह घटना दिल्ली के सुखदेव विहार की बताई जा रही है। पत्रकारों पर हमले की इस तरह की घटनाएँ अब आए दिन घटने लगी हैं। खासतौर से उन पत्रकारों पर सुनियोजित तरीके से हमला किया जा रहा है जो प्रदर्शनकारियों की बातों से इत्तेफाक नहीं रखते। या उनसे अलग बात प्रस्तुत करते हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -