Friday, July 23, 2021
Homeवीडियोविकास दुबे एनकाउंटर पर लिबरलों का अनर्गल प्रलाप शुरू: अजीत भारती ने खोली कलई...

विकास दुबे एनकाउंटर पर लिबरलों का अनर्गल प्रलाप शुरू: अजीत भारती ने खोली कलई | Ajeet Bharti on Vikas Dubey encounter

अगले दिन कहा जाता है कि पुलिस उसका एनकाउंटर कर देगी और उसके साथ ही बड़े-बड़े राज दफन हो जाएँगे। द वायर ने अपने एक लेख में बताया कि योगी राज में ऐसे दुर्दांत अपराधियों का एनकाउंटर नहीं हो पाता है। और जैसे ही उसका एनकाउंटर होता है, लिबरल चिल्लाने लगता है कि उसके सीने में कई राज दफन थे, जो उसी के साथ चले गए।

60 से अधिक मामलों में वांछित और 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपित विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद लिबरल गैंग सक्रिय हो गया और कहने लगा कि यूपी में गुंडा राज आ गया। जब पुलिस विकास दुबे को पकड़ने में सफल नहीं हो पा रही थी तो लिबरलों ने कहा कि योगी सरकार ब्राह्मण अपराधियों को बचाना चाह रही है। लिबरलों ने नैरेटिव फैलाया कि छोटे अपराधियों का एनकाउंटर किया जाता है, ऐसे दुर्दांत अपराधियों को पकड़ा जाता है, ताकि वो जेल में बैठकर शासन कर सके।

फिर अगले दिन कहा जाता है कि पुलिस उसका एनकाउंटर कर देगी और उसके साथ ही बड़े-बड़े राज दफन हो जाएँगे। द वायर ने अपने एक लेख में बताया कि योगी राज में ऐसे दुर्दांत अपराधियों का एनकाउंटर नहीं हो पाता है। और जैसे ही उसका एनकाउंटर होता है, लिबरल चिल्लाने लगता है कि उसके सीने में कई राज दफन थे, जो उसी के साथ चले गए।

पूरा वीडियो यहाँ क्लिक कर के देखें।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कौन है स्वरा भास्कर’: 15 अगस्त से पहले द वायर के दफ्तर में पुलिस, सिद्धार्थ वरदराजन ने आरफा और पेगासस से जोड़ दिया

इससे पहले द वायर की फर्जी खबरों को लेकर कश्मीर पुलिस ने उनको 'कारण बताओ नोटिस' जारी किया था। उन पर मीडिया ट्रॉयल में शामिल होने का भी आरोप है।

जिस भास्कर में स्टाफ मर्जी से ‘सूसू-पॉटी’ नहीं कर सकते, वहाँ ‘पाठकों की मर्जी’ कॉर्पोरेट शब्दों की चाशनी है बस

"भास्कर में चलेगी पाठकों की मर्जी" - इस वाक्य में ईमानदारी नहीं है। पाठक निरीह है, शब्दों का अफीम देकर उसे मानसिक तौर पर निर्जीव मत बनाइए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,862FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe