Thursday, July 18, 2024
Homeवीडियोआखिर आम आदमी को इस बजट से क्या मिल गया? Just usual promises or...

आखिर आम आदमी को इस बजट से क्या मिल गया? Just usual promises or realistic vision?

ऑपइंडिया ने बजट को सरल भाषा में समझने के लिए के लिए SRCC (दिल्ली विश्वविद्यालय) के Dept of Economics में सहायक प्रोफेसर अभिनव प्रकाश से बात की। इस दौरान हमने उनसे यह जानने की कोशिश की बजट आम आदमी के जीवन को किस तरह से प्रभावित करता है।

सोमवार (फरवरी 01, 2021) को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आम बजट 2021-2022 पेश किया। इसके बाद हर कोई अपने-अपने तरीके से इस बजट की समीक्षा करने में लगा हुआ है। इस वर्ष बजट में सरकार ने किसानों और खेती से जुड़े सेक्‍टर्स के साथ ही इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर पर भी खासा ध्‍यान दिया है।

ऑपइंडिया ने बजट को सरल भाषा में समझने के लिए के लिए SRCC (दिल्ली विश्वविद्यालय) के Dept of Economics में सहायक प्रोफेसर अभिनव प्रकाश से बात की। इस दौरान हमने उनसे यह जानने की कोशिश की बजट आम आदमी के जीवन को किस तरह से प्रभावित करता है।

बात-चीत की पूरी वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ सब हैं भोले के भक्त, बोल बम की सेवा जहाँ सबका धर्म… वहाँ अस्पृश्यता की राजनीति मत ठूँसिए नकवी साब!

मुख्तार अब्बास नकवी ने लिखा कि आस्था का सम्मान होना ही चाहिए,पर अस्पृश्यता का संरक्षण नहीं होना चाहिए।

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -