Saturday, June 15, 2024
Homeव्हाट दी फ*'कोरोना संक्रमित होने के बाद मेरा लिंग 1.5 इंच छोटा हो गया': 30 वर्षीय...

‘कोरोना संक्रमित होने के बाद मेरा लिंग 1.5 इंच छोटा हो गया’: 30 वर्षीय व्यक्ति का हैरान करने वाला दावा, कहा- सेक्स पावर कम हो गया है

जुलाई 2021 में यह व्यक्ति चीनी कोरोना वायरस से संक्रमित हुआ था। इसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती होना पड़ा था। इस व्यक्ति के अनुसार कोरोना ने उसके वस्कुलर सिस्टम को नुकसान पहुँचाया है।

एक पोडकास्ट प्रोग्राम है- हाउ टू डू इट। इसमें सेक्स से जुड़ी सलाह दी जाती है। इसी कार्यक्रम में एक अमेरिकी व्यक्ति ने चौंकाने वाला दावा किया। उसका कहना है कि कोरोना संक्रमण की वजह से उसका लिंग करीब 4 सेंटीमीटर (1.5 इंच) सिकुड़ गया है। 30 वर्षीय इस व्यक्ति का कहना है इसकी वजह से उसका आत्मविश्वास प्रभावित हुआ है। साथ ही सेक्स की क्षमता भी प्रभावित हुई है।

जुलाई 2021 में यह व्यक्ति चीनी कोरोना वायरस से संक्रमित हुआ था। इसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती होना पड़ा था। इस व्यक्ति के अनुसार कोरोना ने उसके वस्कुलर सिस्टम को नुकसान पहुँचाया है। खून के प्रवाह के लिए यह सिस्टम जिम्मेदार होता है और इसमें नसें और धमनियाँ आती हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पीड़ित ने दावा किया, “मैं 30 साल का हूँ। मुझे जुलाई 2021 में कोरोना हुआ था। कुछ दिन मेरा इलाज अस्पताल में चला। अस्पताल से छुट्टी पाने के बाद मैंने पाया कि मेरा प्राइवेट पार्ट पहले के मुकाबले छोटा हो गया है। मुझे नपुंसकता (Erectile Dysfunction) की भी बीमारी हो गई थी। हालाँकि यह दवाओं से ठीक हो गई। पर मेरे छोटे हुए प्राइवेट पार्ट को डॉक्टरों ने कभी न ठीक हो पाने वाली दिक्क्त बताया है।”

अमेरिकी यूरोलॉजिस्ट एशले विंटर ने बताया, “किसी व्यक्ति की उत्तेजना की स्थिति में उसका दिमाग उसके प्राइवेट पार्ट की नसों में रक्त का प्रवाह भेजता है। पर जब यह नहीं हो पाता है तो प्राइवेट पार्ट तनाव न होने के चलते छोटा रह जाता है। इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की बीमारी से भी यही समस्या आती है। प्राइवेट पार्ट में खून को रोकने वाला यह COVID का एक बेहद दुर्लभ लक्षण है। बाद में यही नपुंसकता का कारण भी बन सकता है। इसी बीमारी से उबार चुके 2 अन्य पुरुषों के प्राइवेट पार्ट में भी वायरस के ट्रेसेस पाए गए थे। इससे उनका व्यक्तिगत जीवन प्रभावित हुआ। इसका इलाज करवाने के लिए उन्हें बाद में इम्प्लांट सर्जरी भी करवानी पड़ी थी।”

उल्लेखनीय है कि लंदन के यूनिवर्सिटी कॉलेज ने इसको लेकर एक अध्ययन भी किया था। कोरोना से संक्रमित 3400 लोगों पर हुए इसे अध्ययन में 200 लोगों के साथ यह दुर्लभ समस्या पाई गई थी। इसी तरह वर्ल्ड जर्नल ऑफ मेन्स हेल्थ में प्रकाशित अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ मियामी मिलर स्कूल ऑफ मेडिसिन के अध्ययन में भी कहा गया था कि लंबे समय तक संक्रमित रहने के कारण कुछ लोगों में नपुंसकता के लक्षण मिले हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आतंकवाद का बखान, अलगाववाद को खुलेआम बढ़ावा और पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा को बढ़ावा : पढ़ें- अरुँधति रॉय का 2010 वो भाषण, जिसकी वजह से UAPA...

अरुँधति रॉय ने इस सेमिनार में 15 मिनट लंबा भाषण दिया था, जिसमें उन्होंने भारत देश के खिलाफ जमकर जहर उगला था।

कर्नाटक में बढ़ाए गए पेट्रोल-डीजल के दाम: लोकसभा चुनाव खत्म होते ही कॉन्ग्रेस ने शुरू की ‘वसूली’, जनता पर टैक्स का भार बढ़ा कर...

अभी तक बेंगलुरु में पेट्रोल 99.84 रुपये प्रति लीटर और डीजल 85.93 रुपये प्रति लीटर बिक रहा था, लेकिन नए आदेश के बाद बढ़ी हुई कीमतें तत्काल प्रभाव से लागू हो गई हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -