Monday, July 22, 2024
Homeव्हाट दी फ*हाथ में सर्टिफिकेट, माथे पर 'पवित्रता का टीका': अफ्रीका के चर्च में हुआ लड़कियों...

हाथ में सर्टिफिकेट, माथे पर ‘पवित्रता का टीका’: अफ्रीका के चर्च में हुआ लड़कियों का वर्जिनिटी टेस्ट, पास होने पर खुशी का ठिकाना नहीं

सोशल मीडिया पर कई अकॉउंट्स से वर्जिनिटी टेस्ट में सफल हुई लड़कियों की सर्टिफिकेट के साथ की तस्वीरें खूब शेयर हो रही हैं। इनमें लड़कियों को ये सर्टिफिकेट उपलब्धि की तरह दिखाते हुए देखा जा सकता है।

दक्षिण अफ्रीका के एक चर्च में पिछले दिनों लड़कियों की पवित्रता चेक करने के लिए वर्जिनिटी टेस्ट आयोजित कराए जाने का मामला सामने आया है। खबरों के अनुसार, ये परीक्षण दक्षिण अफ्रीका के दूसरे सबसे बड़े चर्च यानी कि डर्बन के नजरेथ बैप्टिस्ट चर्च (Nazareth Baptist Church) द्वारा आयोजित किया गया। ऐसे आयोजन की जब वजह पूछी गई तो कहा गया कि इसे समाज की महिलाओं के बीच पवित्रता को प्रोत्साहित करने का प्रयास कहा जाता है। 

बता दें कि 1910 में बना यह चर्च डर्बन के उत्तरी भाग एभुलेनी में स्थित है। रिपोर्ट्स बताती हैं कि चर्च द्वारा आयोजित कराए गए वर्जिनिटी टेस्ट में जिन लोगों ने भाग लिया वो चर्च में आने वाली 18 साल या उसके ऊपर की लड़कियाँ ही थीं।

बताया जा रहा है कि फ्री वर्जिनिटी टेस्ट का आयोजन वार्षिक कार्यक्रम के तौर पर कराया गया और जैसे ही प्रक्रिया खत्म हुई तो टेस्ट में पास हुई लड़कियों को सर्टिफिकेट दिए गए। साथ ही पवित्रता की पहचान के नाम पर माथे पर सफेद टीका भी लगाया गया।

ये टेस्ट 2022/2023 सत्र के लिए था। नीचे देख सकते हैं कि इसी तरह के सर्टिफिकेट टेस्ट में पास लड़कियों को दिए गए हैं। इनपर चर्च के शीर्ष के साथ-साथ उस विशेषज्ञ के भी हस्ताक्षर हैं जिन्होंने ये टेस्ट किया।

सोशल मीडिया पर कई अकॉउंट्स से वर्जिनिटी टेस्ट में सफल हुई लड़कियों की सर्टिफिकेट के साथ की तस्वीरें खूब शेयर हो रही हैं। 

अफ्रीका फैक्ट जोन नाम के ट्विटर हैंडल से भी इस टेस्ट में पास लड़कियों की तस्वीर साझा की गई है। इनमें देख सकते हैं कि जिस तरह लोग अपनी हर उपलब्धि वाले कागज साझा करते हैं वैसे ही इन लड़कियों ने इस सर्टिफिकेट को दिखा रखा है। इसके अलावा तस्वीरों में चर्च में इकट्ठा भीड़ देख अंदाजा लगा सकते हैं कि टेस्ट में भाग लेने के लिए लड़कियाँ कितनी उत्सुक थीं। 

वहीं सोशल मीडिया पर अन्य यूजर्स इस सर्टिफिकेट को देख पूछ रहे हैं कि क्या कोई ये बताएगा कि सर्टिफिकेट किस तरह काम आता है और वर्जिनिटी चेक करने के लिए कैसे टेस्ट किए जाते हैं। 

यूजर्स का कहना है कि ये बेहद अजीब बात है कि धार्मिक संस्थानों में महिलाओं की पवित्रता चेक करने के लिए टेस्ट हो रहे हैं। कई मुद्दों पर मुखर होकर लिखने वाले तारेक फतेह ने कहा, “अविश्वसनीय। साउथ अफ्रीका का चर्च महिलाओं को वर्जिनिटी टेस्ट का सर्टिफिकेट दे रहा है वो भी तब जब वो उसमें पास हो रही हैं।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

15 अगस्त को दिल्ली कूच का ऐलान, राशन लेकर पहुँचने लगे किसान: 3 कृषि कानूनों के बाद अब 3 आपराधिक कानूनों से दिक्कत, स्वतंत्रता...

15 सितंबर को जींद और 22 सितंबर को पीपली में किसानों की रैली प्रस्तावित है। किसानों ने पूर्व केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा 'टेनी' के बेटे आशीष को जमानत दिए जाने की भी निंदा की।

केंद्र सरकार ने 4 साल में राज्यों को की ₹1.73 लाख करोड़ की मदद, फंड ना मिलने पर धरना देने वाली ममता सरकार को...

वित्त मंत्रालय ने बताया है कि केंद्र सरकार 2020-21 से लेकर 2023-24 तक राज्यों को ₹1.73 लाख करोड़ विशेष मदद योजना के तहत दे चुकी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -