Tuesday, June 25, 2024
Homeव्हाट दी फ*'पहले मेरा भटूरे पकड़ो यार': सोसायटी की लिफ्ट में फँसे लोग हाथों में प्लेट...

‘पहले मेरा भटूरे पकड़ो यार’: सोसायटी की लिफ्ट में फँसे लोग हाथों में प्लेट लेकर निकले, वायरल वीडियो देख बोले यूजर- जान जाए, पर छोले-भटूरे ना जाए

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें लिफ्ट में फँसे हुए लोग खुद बाहर निकलने के बजाय अपने हाथ में लिए हुए छोले-भटूरे की चिंता करते हुए नजर आ रहे हैं। उत्तर प्रदेश के इस वीडियो के वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर लोग तरह-तरह के कमेंट कर रहे हैं।

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें लिफ्ट में फँसे हुए लोग खुद बाहर निकलने के बजाय अपने हाथ में लिए हुए छोले-भटूरे की चिंता करते हुए नजर आ रहे हैं। उत्तर प्रदेश के इस वीडियो के वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर लोग तरह-तरह के कमेंट कर रहे हैं।

मामला ग्रेटर नोएडा का है। वहाँ की एक सोसायटी में स्थित एक ऊँची इमारत की लिफ्ट में कुछ लोग फँस गए। उन्होंने लिफ्ट का आपातकालीन बटन दबाया, लेकिन वह भी काम करता नहीं दिखा। वे लोग लगभग 30 मिनट तक उस लिफ्ट में फँसे रहे। आखिरकार फँसे लोगों ने अपने पड़ोसियों को कॉल करके मदद माँगी।

पड़ोसियों ने इसके बारे में सुरक्षा गार्ड को जानकारी दी। इसके बाद सुरक्षा गार्ड और पड़ोसी फँसे हुए लोगों की सहायता के लिए आ गए। जब लिफ्ट के दरवाजे को खोला गया तो उसमें तीन युवक दिखाई दिए और उनके दोनों हाथों में छोले-भटूरे से भरी प्लेटें थीं।

इस दौरान लिफ्ट में फँसा एक व्यक्ति मजाकिया अंदाज में बाहर खड़े लोगों से कहता है, “पहले मेरा भटूरे पकड़ो यार”। इसके बाद वहाँ खड़े लोगों को तुरंत हँसी आ जाती है। इस वीडियो को देखकर नेटिजन्स भी अपनी हँसी नहीं रोक पा रहे हैं।

इस वीडियो को ‘सच कड़वा है’ नाम के यूजर ने इंस्टाग्राम पर शेयर किया है। इस पोस्ट के कैप्शन में लिखा है, “बताया गया कि ये तीन लोग छोले-भटूरे लेकर लिफ्ट में घुसे थे जो अचानक बंद हो गई।” इसे लगभग तीन महीने पहले पोस्ट किया गया था, जो अब वायरल हो रहा है।

इस पोस्ट पर एक यूजर ने कमेंट किया, “लेडिज और बच्चे फर्स्ट? नहीं, छोले-भटूरे फर्स्ट।” एक अन्य यूजर ने लिखा, “जान जाए, पर छोले-भटूरे ना जाए।” एक अन्य यूजर ने लिखा, “वे पुरुष, जिनकी प्राथमिकताएँ तय होती हैं।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जूलियन असांजे इज फ्री… विकिलीक्स के फाउंडर को 175 साल की होती जेल पर 5 साल में ही छूटे: जानिए कैसे अमेरिका को हिलाया,...

विकिलीक्स फाउंडर जूलियन असांजे ने अमेरिका के साथ एक डील कर ली है, इसके बाद उन्हें इंग्लैंड की एक जेल से छोड़ दिया गया है।

‘जिन्होंने इमरजेंसी लगाई वे संविधान के लिए न दिखाएँ प्यार’: कॉन्ग्रेस को PM मोदी ने दिखाया आईना, आपातकाल की 50वीं बरसी पर देश मना...

इमरजेंसी की 50वीं बरसी पर पीएम मोदी ने कॉन्ग्रेस पर निशाना साधा। साथ ही लोगों को याद दिलाया कि कैसे उस समय लोगों से उनके अधिकार छीने गए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -