Sunday, June 16, 2024
Homeव्हाट दी फ*जाम छलकाते बंदर से परेशान रायबरेली के लोग, ठेका खुलते ही ग्राहकों से छीन...

जाम छलकाते बंदर से परेशान रायबरेली के लोग, ठेका खुलते ही ग्राहकों से छीन कर पीता है दारू: वायरल हुआ वीडियो, वन विभाग से माँगी गई मदद

उसे बियर की इतनी बुरी लत है कि वह ठेका खुलते ही दुकान के बाहर बैठ जाता है और वहाँ पर आने-जाने वालों पर अपनी पैनी नजर रखता है।

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के रायबरेली से अजीबोगरीब खबर सामने आई है। यहाँ एक बंदर शराबियों के लिए मुसीबत बन गया है। उसे शराब की इतनी बुरी लत है कि ठे​का खुलते ही उसके बाहर खड़ा हो जाता है और लोगों के हाथों से शराब छीनकर उसे पी जाता है। उसकी वजह से ठेके पर शराब खरीदने वालों में काफी दहशत है। सोशल मीडिया पर बंदर का वीडियो वायरल होने के बाद आबकारी विभाग ने इस मामले पर संज्ञान लिया है। आबकारी अधिकारियों ने ठेके के पास से बंदर को हटाने के लिए वन विभाग से मदद माँगी है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह मामला दीनशाह गौरा ब्लाक के अचलगंज का है। यहाँ बियर का एक ठेका है, जहाँ पिछले करीब एक माह से बंदर ने शराब पीने वालों को परेशान कर रखा है। बताया जाता है कि उसे बियर की इतनी बुरी लत है कि वह ठेका खुलते ही दुकान के बाहर बैठ जाता है और वहाँ पर आने-जाने वालों पर अपनी पैनी नजर रखता है। इसके बाद मौका मिलते ही वह उनकी बियर छीनकर उन्हें अपने पीछे दौड़ाता है और फिर कुछ दूरी पर जाकर बियर पी जाता है।

वायरल वीडियो सोमवार (31 अक्टूबर, 2022) का बताया जा रहा है। वीडियो में आप देख सकते हैं कि बंदर कैसे बियर पी रहा है और स्थानीय लोग उसका वीडियो बना रहे हैं।

दुकान में काम करने वाले सेल्समैन श्याम सुंदर भी इस बंदर से काफी परेशान हैं। उन्होंने बताया, “हम इस बंदर से बहुत परेशान हैं। वह न केवल ग्राहकों से शराब छीन लेता है, बल्कि कई बार दुकान के अंदर रखी बोतलों को भी नुकसान पहुँचता है। हम उसे भगाने की कोशिश करते हैं तो वह हमें काटने के लिए दौड़ता है।”

वहीं, इस मामले को लेकर आबकारी अधिकारी रवींद्र प्रताप सिंह ने बताया कि बंदर ठेके के आसपास रहता है, जिसकी वजह से ठेकेदारों की बिक्री पर भी असर पड़ रहा है। उन्हें इसकी शिकायत मिली है। वन विभाग से मदद माँगी गई है, ताकि बंदर को ठेके के पास से हटाया जा सके।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गलत वीडियो डालने वाले अब नहीं बचेंगे: संसद के अगले सत्र में ‘डिजिटल इंडिया बिल’ ला सकती है मोदी सरकार, डीपफेक पर लगाम की...

नरेंद्र मोदी सरकार आगामी संसद सत्र में डीपफेक वीडियो और यूट्यूब कंटेंट को लेकर डिजिटल इंडिया बिल के नाम से पेश किया जाएगा।

आतंकवाद का बखान, अलगाववाद को खुलेआम बढ़ावा और पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा को बढ़ावा : पढ़ें- अरुँधति रॉय का 2010 वो भाषण, जिसकी वजह से UAPA...

अरुँधति रॉय ने इस सेमिनार में 15 मिनट लंबा भाषण दिया था, जिसमें उन्होंने भारत देश के खिलाफ जमकर जहर उगला था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -