Wednesday, May 25, 2022
Homeफ़ैक्ट चेकमीडिया फ़ैक्ट चेक'दलित युवक के माथे पर तेजाब से बना दिया त्रिशूल': मीडिया चला रहा है...

‘दलित युवक के माथे पर तेजाब से बना दिया त्रिशूल’: मीडिया चला रहा है खबर, फैक्ट-चेक में सामने आई सच्चाई

एसएसपी ने कहा, "एसिड से त्रिशूल बनाए जाने के मामले में जाँच में ये बात सामने आई है कि आरोप लगाने वाला व्यक्ति होली के दिन अपने दो दोस्तों के साथ शराब पी रहा था। शराब पीने के बाद तीनों ने एक दूसरे के चेहरे पर रंग लगाया, जिसका रिएक्शन तीनों के चेहरे पर दिखा।"

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सहारनपुर में होली के दिन (18 मार्च) एक दलित युवक के साथ मारपीट की गई थी। कई सारे मीडिया हाउस ये खबर चला रहे हैं कि होली के दिन उस युवक को बुलाकर उससे बर्तन धुलवाया गया। इस जब उसका पैर लगने से शराब का गिलास गिर गया तो नाराज दबंगों ने आदेश कुमार से मारपीट करने के बाद तेजाब से उसके माथे पर त्रिशूल का निशान बना दिया।

अमर उजाला प्रिंट ने छापा कि सहारनपुर के सदर थाना क्षेत्र के कांशीराम कालोनी के रहने वाले अनिल कुमार (पुलिस के अनुसार, आदेश नाम) ने एसएसपी आकाश तोमर से मिलकर शिकायत की थी। पुलिस अधिकारी को आदेश ने बताया कि उसने कृष्णापुरी कॉलोनी में नींव खोदने का ठेका लिया था। 18 मार्च को कमरे की सफाई के दौरान पैर लगने से शराब का गिलास गिर गया। इससे नाराज आरोपितों ने तेजाब से उसके माथे पर त्रिशूल बना दिया और गाल पर भी हैप्पी होली लिख दिया।

साभार: अमर उजाला

ईटीवी भारत ने लिखा कि आदेश कुमार के साथ विशाल और टिंकू व 4 अन्य ने तेजाब से उसके माथे पर त्रिशूल बना दिय़ा।

साभार: ईटीवी भारत

वहीं, द क्विंट ने इस घटना की ग्राउंड रिपोर्टिंग की है। क्विंट ने पीड़ित का वीडियो शेयर किया, जिसमें पीड़ित आदेश दावा करता है कि 18 तारीख को सुबह 10:30 बजे दबंगों ने उसे बुलाया औऱ कहा कि उनका काम कर दे। गिलास धोने को कहा गया और जब वह गिलास धोकर वहाँ से लौट रहा था तो शराब कि गिलास पैर लगने से गिर गई। इस पर टिंकू नाम के लड़के में आँख पर घूँसा मारा और गला दबाकर कहा कि ‘इसको ऐसा सबक सिखाओ, जिसे ये जिंदगी भर न भूले’।

यूपी पुलिस ने किया फैक्ट चेक

सहारनपुर पुलिस ने तेजाब से त्रिशूल बनाए जाने की घटना का फैक्ट चेक करते हुए स्पष्ट किया है कि पीड़ित का मेडिकल कराए जाने पर एसिड का पता नहीं चला है। ये विवाद पैसों के लेनदेन का बताया जा रहा है।

इस मामले में जिले के एसएसपी ने कहा, “एसिड से त्रिशूल बनाए जाने के मामले में जाँच में ये बात सामने आई है कि ये व्यक्ति होली के दिन अपने दो दोस्तों के साथ शराब पी रहा था। शराब पीने के बाद तीनों ने एक दूसरे के चेहरे पर रंग लगाया, जिसका रिएक्शन तीनों के चेहरे पर दिखा। ये जो आदेश है, इसने अपने दोस्तों से 10,000 रुपए उधार लिए थे और पैसों को न लौटाना पड़े, इसके लिए इसने झूठे आरोप लगाए हैं।”

खुद पुलिस द्वारा फैक्ट चेक किए जाने के बाद ये स्पष्ट हो गया है कि कई सारे मीडिया हाउस जबरन फेक न्यूज फैला रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मुस्लिम छात्रों के झूठे आरोपों पर अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी ने किया निलंबित’: हिन्दू छात्र का आरोप – मिली धर्म ने समझौता न करने की...

तिवारी और उनके दोस्तों को कॉलेज में सार्वजनिक रूप से संघी, भाजपा के प्रवक्ता और भाजपा आईटी सेल का सदस्य कहा जाता था।

आतंकी यासीन मलिक को उम्रकैद: टेरर फंडिग में सजा के बाद बजे ढोल, श्रीनगर में कट्टरपंथियों ने की पत्थरबाजी

कश्मीर में कश्मीरी हिंदुओं के नरसंहार के आरोपित यासीन मलिक को टेरर फंडिंग केस में 25 मई को सजा मुकर्रर हुई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,731FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe