Wednesday, November 25, 2020
Home फ़ैक्ट चेक मीडिया फ़ैक्ट चेक 'फैक्ट-चेकर' ने छिपाया फैक्ट, मीडिया गिरोह ने फैलाया झूठ: मोदी इंटरव्यू पर प्रतीक सिन्हा...

‘फैक्ट-चेकर’ ने छिपाया फैक्ट, मीडिया गिरोह ने फैलाया झूठ: मोदी इंटरव्यू पर प्रतीक सिन्हा की ‘नंगई’

‘स्क्रिप्टेड इंटरव्यू’ का मतलब होता है सिर्फ सवाल ही तय नहीं हो बल्कि सवाल पूछने वाले ने ही जवाब भी बनाकर दिया हो - अपनी लॉबी, अपने मालिक के अनुसार। और इसी के बहाने झूठ परोसा जा रहा है।

स्वघोषित ‘फैक्ट-चेकर’ प्रतीक सिन्हा आजकल इतने रौले में हैं कि वह झूठ ही नहीं, सामान्य से सच का भी फैक्ट-चेक करने लगे हैं। सच को भी ऐसे ‘रहस्यात्मक’ अंदाज में ट्वीट करते हैं जैसे कोई बहुत बड़ा ‘खुलासा’ कर रहे हों। मोदी के न्यूज़ नेशन को दिए इंटरव्यू पर भी उन्होंने यही ‘कला’ आजमाने की कोशिश की। बिना कोई सीधा दावा या हमला किए ऐसे दिखाया मानो इंटरव्यू में सवाल पहले से तय होना कोई दबा-छुपा गुप्त रहस्य था, कोई केजीबी-सीआईए की साजिश थी, जिसका उन्होंने पर्दाफ़ाश कर दिया।

पत्रकारिता के समुदाय विशेष ने भी सामान्य ज्ञान को “ब्रेकिंग न्यूज़” बनाने में देर नहीं लगाई

पर (प्रतीक सिन्हा और स्क्रॉल के) दुर्भाग्य से कुछ लोगों को आज भी याद है कि पत्रकारिता का असली स्वरूप क्या है। तो आदरणीय(?) प्रतीक सिन्हा जी, इंटरव्यू ऐसे ही होता है- यही नियम है इंटरव्यू का कि कोई भी औड़म-बौड़म सवाल झटके में नहीं पूछा जा सकता। इंटरव्यू में सवाल पहले से ही बताए जाते हैं, ताकि जिसका इंटरव्यू हो रहा है उसे अपने जवाब के लिए विस्तृत दस्तावेज, तथ्य आदि जुटाने का मौका मिल सके।

इंटरव्यू और प्रेस कॉन्फ्रेंस में अंतर

इंटरव्यू यानी साक्षात्कार लेने के लिए जब पत्रकारिता से ग्रेजुएशन कर रहा कोई छात्र अपने प्रिंसिपल के पास भी जाता है तो पहले से सवाल उसे बता देने होते हैं। साक्षात्कार का यही सामान्य शिष्टाचार भी होता है, और मान्य प्रणाली भी। अतः आप “अरे, देखो, मोदी के पास सवालों की लिस्ट पहले से थी” दिखाकर कोई नई बात नहीं बता रहे, बल्कि बड़े सधे तरीके से फेक न्यूज़ फैला रहे हैं, वह भी बिना खुद कोई झूठ बोले। जिन आम लोगों को पत्रकारिता के गहरे डिटेल्स नहीं पता, आप उन्हें बरगलाना चाहते थे। उन्हें ऐसा महसूस कराना चाहते हैं कि मोदी को सवाल पहले से मिले होना कोई नई या अनोखी (और गलत) बात हो गई, जबकि यही पत्रकारिता का दस्तूर है।

इंटरव्यू के पहले इंटरव्यू में किन-किन चीजों पर बात होगी, इसकी मोटी-मोटी रूपरेखा तैयार कर ली जाती है। प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री जैसे लोग, जिनका एक शब्द भी इधर-उधर होना मुसीबत कर सकता है, आम तौर पर सवालों की सूची पहले से ही ले लेते हैं। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि जिसका इंटरव्यू लिया जा रहा है उसे अपने जवाब के पक्ष में दस्तावेज, आँकड़े आदि जुटाने का समय मिल सके। फॉलो-अप सवाल भी जवाब में आए आँकड़ों/दस्तावेज के इर्द-गिर्द या फिर उनका सीधा खंडन करते हुए आँकड़े/दस्तावेज को केंद्र में रखकर ही होते हैं।

इसके अलावा उनके कार्यालय द्वारा हर सवाल की पड़ताल होती है- देखा जाता है कि कुछ ऐसा तो नहीं जिसे बिना संदर्भ के कहीं चिपका दिया जाए तो जनसामान्य के लिए ही समस्या खड़ी हो जाए। यहाँ तक कि राहुल गाँधी के एनडीटीवी को दिए गए दोनों (हिंदी और अंग्रेजी) ‘औचक’ इंटरव्यू के लिए भी एक मोटी रूपरेखा पहले से दी गई होगी।

इतने सब के बाद भी अंतिम इंटरव्यू प्रकाशित/प्रसारित होने के पहले जिसका इंटरव्यू हुआ है, उसे या उसके कार्यालय को अंतिम जाँच के लिए भेजा जाता है। वहाँ इस बात को चेक किया जाता है कि कहीं इंटरव्यू में कोई घालमेल, कुछ आगे-पीछे करना या कोई दुर्भावनापूर्ण एडिटिंग तो नहीं हुई है। याद करिए बाबा रामदेव का एनडीटीवी को ही दिया हुआ इंटरव्यू। अगर रामदेव ने उसे खुद चुपचाप रिकॉर्ड न कर लिया होता तो एनडीटीवी ने सब आगे-पीछे करके बाबा के शब्दों से ही फेक न्यूज़ चला दी थी

यह पत्रकारिता की मानक पद्धति है- स्टैंडर्ड प्रोसीजर। और इसे ‘फिक्सिंग’ वही मान सकता है जो या तो पत्रकारिता के बारे में काला अक्षर भैंस बराबर हो, या जानबूझकर बना ‘बकलोल’।

लगे हाथ आपको प्रेस कॉन्फ्रेंस के बारे में भी बता देते हैं, जिसका आप इंटरव्यू के साथ घालमेल कर रहे थे। तो जनाब! ऐसा है कि प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी पत्रकार झटके में सवाल तो पूछ सकता है लेकिन उसके भी अपने कुछ कायदे-कानून होते हैं। जैसे सवाल पहले कौन पूछेगा, कौन-कौन सवाल पूछेगा यह प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे व्यक्ति का सहायक ही तय करता है, खुद से “पहले मैं, पहले मैं” नहीं करते। इसी तरह प्रेस कॉन्फ्रेंस अगर अंडे के आयात-निर्यात पर हो रही हो तो आप “वॉट अबाउट 2002”, “इनटॉलेरेंस”, “बालाकोट का सबूत क्या है?” नहीं पूछ सकते। वहाँ आपको अंडे के व्यापार से संबंधित सवाल ही पूछ सकते हैं। आपके जैसे पत्रकार तुर्रे खाँ बनने के लिए शायद पूछ भी लें उट-पटांग लेकिन जवाब नहीं मिलेगा, इसकी गारंटी है।

अगर ‘छुपाना’ होता तो कैमरे के सामने मोदी क्यों माँगते ‘फाइल’

चलिए, पत्रकारिता के कायदे वगैरह साइड में कर दीजिए, कॉमन सेंस की बात करते हैं। अगर मोदी कोई ‘गुनाह’ कर रहे होते, उनको सवाल पहले से मालूम होने की बात को ‘छुपाना’ ही होता तो क्या वे कैमरे पर फाइल माँगते? फिर इसके अलावा उनके कविता लेकर चलने का तुक क्या था? मोदी क्या कोई कुमार विश्वास जैसे फुलटाइम कवि, पार्टटाइम नेता हैं, जो अपनी कविताओं की डायरी लेकर चलते? या वाजपेयी जैसे कविता के लिए मशहूर नेता, जो पता होता कि सामने वाला एक कविता तो पूछ ही देगा? उनका कविता वाली फाइल कैमरे पर माँगना ही अपने आप में यह बता सकता है कि उन्हें सवाल पता होने की बात छिपानी नहीं थी।

‘सवाल फिक्स थे’ से ‘Scripted interview’ तक का सफर: तथ्य-आधारित फेक न्यूज़

मशहूर गणितज्ञ, लेखक और राजनीतिक टिप्पणीकार नासिम निकोलस तालेब ने एक बार पत्रकारों के ही संदर्भ में कहा था, “The Facts are True, the News is Fake” (तथ्य सही हैं पर खबर झूठी है)। पत्रकारिता का समुदाय विशेष आज इसे ही चरितार्थ कर रहा है। पहले प्रतीक सिन्हा ने पत्रकारिता के सामान्य-से तथ्य और आम चलन को मोदी के लिए बनाया गया कोई अपवाद दिखाने की कोशिश की, और उसके ऊपर एनडीटीवी की पत्रकार झूठ की चाशनी पोतकर सीधे-सीधे फेक न्यूज़ बना देती हैं। यह और बात है कि ‘बेचारी’ समोसा पत्रकारिता के लिए आज बहुत फेमस हो गईं।

‘स्क्रिप्टेड इंटरव्यू’ का मतलब होता है सिर्फ सवाल ही तय नहीं हो बल्कि सवाल पूछने वाले ने ही जवाब भी बनाकर दिया हो – अपनी लॉबी, अपने मालिक के अनुसार। यह व्यावसायिक कदाचार होता है। पीएम को भूल जाइए, क्या अपने साथी पत्रकारों पर कदाचार जैसा संगीन आरोप लगाने के लिए सबूत है कोई कादम्बिनी शर्मा के पास? कोई सबूत है कि दीपक चौरसिया ने सवालों के जवाब भी भेजे, और मोदी को ‘ये वाली’ कविता भी भेजी कैमरे पर पढ़ने के लिए? अगर दीपक चौरसिया या न्यूज़ नेशन मानहानि का दावा कर दें तो ‘स्क्रिप्टेड’ शब्द कादम्बिनी शर्मा को भारी पड़ेगा…

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पहले सिर्फ ऐलान होते थे, 2014 के बाद हमने सोच बदली’: जानिए लखनऊ यूनिवर्सिटी के स्‍थापना दिवस पर क्या बोले PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को लखनऊ विश्वविद्यालय के शताब्दी वर्ष समारोह को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित किया। इस दौरान राजनाथ सिंह और योगी आदित्यनाथ के साथ ही अन्य मंत्री भी आनलाइन जुड़े रहे।

सरकार ने लक्ष्मी विलास बैंक के डीबीएस बैंक में विलय को दी मंजूरी: निकासी की सीमा भी हटाई, 6000 करोड़ के निवेश को स्वीकृति

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने लक्ष्‍मी विलास बैंक (Lakshmi Vilas Bank) के डीबीएस बैंक इंडिया लिमिटेड (DBS Bank India Limited)के साथ विलय के प्रस्‍ताव को मंजूरी दे दी है।

अहमद पटेल की मौत का कॉन्ग्रेस को कितना दुख? सुबह किया पहले राहुल को कोट, फिर जताया अपने नेता की मृत्यु पर शोक

कॉन्ग्रेस के लिए पहला काम था-राहुल गाँधी का संदेश शेयर करना ताकि किसी मायने में उसकी गंभीरता सोशल मीडिया यूजर्स के सामने न दब जाए और लोग अहमद पटेल के गम में राहुल गाँधी के कोट को पढ़ना न भूल जाएँ।

उत्तर प्रदेश में 9357 करोड़ रुपए का निवेश करेंगी 28 विदेशी कंपनियाँ: कोरोना काल में मिलेगा लाखों लोगों को रोजगार

28 विदेशी कंपनियों ने 9357 करोड़ रुपए के निवेश के लिए करार किया है। एक जूता बनाने वाली कंपनी ऐसी है, जो चीन से शिफ्ट होकर भारत आई है और तीन सौ करोड़ रुपए के निवेश से आगरा में उत्पादन शुरू किया है।

वो सीक्रेट बैठक, जिससे उड़ी इमरान खान की नींद: तुर्की की गोद में बैठा कंगाल Pak अब चीन के लिए होगा खिलौना

पाकिस्तान समेत ज़्यादातर मुस्लिम देश इजरायल को अपना दुश्मन नंबर एक मानते हैं। सऊदी अरब व इजरायल के रिश्ते मजबूत होने से इमरान की उड़ी नींद।

‘PFI वाले मुझे घर, नौकरी और रुपए देंगे’: इस्लाम अपनाने की घोषणा करने वाली केरल की दलित महिला

केरल की दलित महिला ऑटोरिक्शा ड्राइवर चित्रलेखा ने इस्लामी धर्मांतरण की घोषणा की थी। अब सामने आया है कि PFI ने उन्हें इसके लिए प्रलोभन दिया।

प्रचलित ख़बरें

‘मेरे पास वकील रखने के लिए रुपए नहीं हैं’: सुप्रीम कोर्ट में पूर्व सैन्य अधिकारी की पत्नी से हरीश साल्वे ने कहा- ‘मैं हूँ...

साल्वे ने अर्णब गोस्वामी का केस लड़ने के लिए रिपब्लिक न्यूज नेटवर्क से 1 रुपया भी नहीं लिया। अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में उन्होंने कुलभूषण जाधव का केस भी मात्र 1 रुपए में लड़ा था।

बहन से छेड़खानी करता था ड्राइवर मुश्ताक, भाई गोलू और गुड्डू ने कुल्हाड़ी से काट डाला: खुद को किया पुलिस के हवाले

गोलू और गुड्डू शाम के वक्त मुश्ताक के घर पहुँच गए। दोनों ने मुश्ताक को उसके घर से घसीट कर बाहर निकाला और जम कर पीटा, फिर उन्होंने...

इतिहास में गुम हैं मुगलों को 17 बार हराने वाले अहोम योद्धा: देश भूल गया ब्रह्मपुत्र के इन बेटों को

राजपूतों और मराठों की तरह कोई और भी था, जिसने मुगलों को न सिर्फ़ नाकों चने चबवाए बल्कि उन्हें खदेड़ कर भगाया। असम के उन योद्धाओं को राष्ट्रीय पहचान नहीं मिल पाई, जिन्होंने जलयुद्ध का ऐसा नमूना पेश किया कि औरंगज़ेब तक हिल उठा। आइए, चलते हैं पूर्व में।

कंगना को मुँह तोड़ने की धमकी देने वाले शिवसेना MLA के 10 ठिकानों पर ED की छापेमारी: वित्तीय अनियमितता का आरोप

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मंगलवार को शिवसेना नेता प्रताप सरनाईक के आवास और दफ्तर पर छापेमारी की। यह छापेमारी सरनाईक के मुंबई और ठाणे के 10 ठिकानों पर की गई।

‘मुस्लिमों ने छठ में व्रती महिलाओं का कपड़े बदलते वीडियो बनाया, घाट पर मल-मूत्र त्यागा, सब तोड़ डाला’ – कटिहार की घटना

बिहार का कटिहार मुस्लिम बहुत सीमांचल का हिस्सा है, जिसकी सीमाएँ पश्चिम बंगाल से लगती हैं। वहाँ के छठ घाट को तहस-नहस कर दिया गया।

रहीम ने अर्जुन बनकर हिंदू विधवा से बनाए 5 दिन शारीरिक संबंध, बाद में कहा- ‘इस्लाम कबूलो तब करूँगा शादी’

जब शादी की कोई बात किए बिना अर्जुन (रहीम) महिला के घर से जाने लगा तो पीड़िता ने दबाव बनाया। इसके बाद रहीम ने अपनी सच्चाई बता...
- विज्ञापन -

‘पहले सिर्फ ऐलान होते थे, 2014 के बाद हमने सोच बदली’: जानिए लखनऊ यूनिवर्सिटी के स्‍थापना दिवस पर क्या बोले PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को लखनऊ विश्वविद्यालय के शताब्दी वर्ष समारोह को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित किया। इस दौरान राजनाथ सिंह और योगी आदित्यनाथ के साथ ही अन्य मंत्री भी आनलाइन जुड़े रहे।

सरकार ने लक्ष्मी विलास बैंक के डीबीएस बैंक में विलय को दी मंजूरी: निकासी की सीमा भी हटाई, 6000 करोड़ के निवेश को स्वीकृति

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने लक्ष्‍मी विलास बैंक (Lakshmi Vilas Bank) के डीबीएस बैंक इंडिया लिमिटेड (DBS Bank India Limited)के साथ विलय के प्रस्‍ताव को मंजूरी दे दी है।

TRP मामले में रिपब्लिक की COO प्रिया मुखर्जी को 20 दिन की ट्रांजिट बेल, कर्नाटक हाईकोर्ट ने मुंबई पुलिस की दलील को नकारा

कर्नाटक हाई कोर्ट ने बुधवार (नवंबर 25, 2020) को रिपब्लिक टीवी के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर (COO) प्रिया मुखर्जी को 20 दिन का ट्रांजिट बेल दिया है।

ऑस्ट्रेलिया ने आतंकी हरकतों में लिप्त मौलाना की नागरिकता छीनी, गृह मंत्री ने कहा- देश की सुरक्षा के लिए कोई भी कार्रवाई करेंगे

गृह मंत्री पीटर बटन ने कहा है कि ऑस्ट्रेलिया के लोगों को बचाने के लिए मौलाना अब्दुल नसीर बेनब्रीका की नागरिकता छीनना एक उचित कदम है।

‘ये प्राचीनतम है, सभी भाषाओं की जननी है’: न्यूजीलैंड में सत्ताधारी लेबर पार्टी के सांसद ने संस्कृत में ली शपथ, आलोचकों को लताड़ा

एक आलोचक ने ने संस्कृत को अत्याचार, जातिवाद, रूढ़िवादिता और हिंदुत्व की भाषा करार दिया। जानिए नव-निर्वाचित सांसद ने इसका क्या जवाब दिया....

‘भाजपा को हिंदुत्व की लौ लगी है, लव जिहाद उनका नया हथियार, बंगाल चुनाव के बाद ये भंगार में चले जाएँगे’: शिवसेना मुखपत्र

"सच कहें तो वैचारिक ‘लव जिहाद’ के कारण देश और हिंदुत्व का सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। कश्मीर में पाक समर्थक, अनुच्छेद 370 प्रेमी महबूबा मुफ्ती से भाजपा ने सत्ता का निकाह किया, इसलिए इसे भी वैचारिक लव जिहाद क्यों न माना जाए?"

अहमद पटेल की मौत का कॉन्ग्रेस को कितना दुख? सुबह किया पहले राहुल को कोट, फिर जताया अपने नेता की मृत्यु पर शोक

कॉन्ग्रेस के लिए पहला काम था-राहुल गाँधी का संदेश शेयर करना ताकि किसी मायने में उसकी गंभीरता सोशल मीडिया यूजर्स के सामने न दब जाए और लोग अहमद पटेल के गम में राहुल गाँधी के कोट को पढ़ना न भूल जाएँ।

उत्तर प्रदेश में 9357 करोड़ रुपए का निवेश करेंगी 28 विदेशी कंपनियाँ: कोरोना काल में मिलेगा लाखों लोगों को रोजगार

28 विदेशी कंपनियों ने 9357 करोड़ रुपए के निवेश के लिए करार किया है। एक जूता बनाने वाली कंपनी ऐसी है, जो चीन से शिफ्ट होकर भारत आई है और तीन सौ करोड़ रुपए के निवेश से आगरा में उत्पादन शुरू किया है।

रोशनी घोटाला में महबूबा मुफ्ती का नाम: जम्मू में सरकारी जमीन कब्ज़ा कर बनाया गया PDP का दफ्तर, CBI कर रही जाँच

गुजरे जमाने की फ़िल्मी हस्तियाँ फिरोज खान और संजय खान की बहन दिलशाद शेख ने भी राजधानी श्रीनगर में 7 कनाल सरकारी जमीन पर कब्ज़ा जमा लिया।

10 साल में 800% बढ़ी संपत्ति: उद्धव ठाकरे के बेहद करीबी सरनाईक कभी ऑटो रिक्शा चलाते थे, आज करोड़ों के मालिक

सरनाईक पर वित्तीय अनियमितता का आरोप है, जिसके कारण ईडी ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया। तलाशी अभियान के बाद ईडी के अफसरों ने ठाणे स्थित ठिकाने से सरनाईक के बेटे विहंग सरनाईक को हिरासत में ले लिया।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,380FollowersFollow
357,000SubscribersSubscribe