Monday, July 26, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेक'15 जून से देश भर में दोबारा लॉकडाउन लागू होगा' - सोशल मीडिया पर...

’15 जून से देश भर में दोबारा लॉकडाउन लागू होगा’ – सोशल मीडिया पर वायरल हुई खबर का Fact Check

गृह मंत्रालय ने देश में फिर से लॉकडाउन को लागू करने के संबंध में कोई भी घोषणा नहीं की है। दोबारा लॉकडाउन को लेकर जिस फोटो को इंटरनेट पर फैलाया जा रहा है, उसको जानबूझकर अफवाह फैलाने के लिए बनाया गया है। जिस चैनल की खबर को दिखा कर यह दावा किया जा रहा, खुद उस चैनल को इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है।

देश में कोरोना वायरस के चलते हुए लॉकडाउन को अब धीरे-धीरे खोला जा रहा है। अनलॉक फेज-1 के लागू होने के बाद से ही इंटरनेट पर एक फ़ोटो तेजी से वायरल हो रही है, जिसमें यह दावा किया जा रहा कि देशव्यापी लॉकडाउन एक बार फिर 15 जून से लागू होने जा रहा है।

सोशल मीडिया के अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर इस वक्त तेज़ी से एक हिंदी न्यूज़ चैनल की फ़ोटो को वायरल किया जा रहा, जिसमें यह दावा किया गया है कि लॉकडाउन 15 जून से दोबारा शुरू होने वाला है। उस फ़ोटो में यह खबर लिखी गई है कि गृह मंत्रालय ने 15 जून से देशव्यापी लॉकडाउन लागू करने की दिशा में संकेत दिया है, जिसमें दोबारा से उड़ानों और ट्रेनों पर प्रतिबंध भी शामिल है।

हालाँकि, बाद में यह पता चला कि कथित तौर पर एक हिंदी समाचार चैनल से संबंधित तस्वीर फर्जी और लोगों को गुमराह करने के लिए फैलाई जा रही थी। 15 जून से देश में एक और लॉकडाउन की अफवाहों को आधिकारिक तौर पर प्रेस सूचना ब्यूरो (PIB) की फैक्ट-चेक टीम ने खारिज किया है।

पीआईबी फैक्ट चेक के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट ने लॉकडाउन के फिर से शुरू होने की खबर को फर्जी घोषित किया है। यह जरूरी था ताकि लॉकडाउन को लेकर लोगों के बीच फैलाए जा रहे भ्रम को खत्म किया जा सके।

गौरतलब है कि गृह मंत्रालय ने देश में फिर से लॉकडाउन को लागू करने के संबंध में कोई भी घोषणा नहीं की है। इसके अलावा लॉकडाउन को लेकर जिस खबर की फोटो को इंटरनेट पर फैलाया जा रहा है, उसको जानबूझकर अफवाह फैलाने के लिए बनाया गया है। यहाँ तक जिस चैनल की तरफ से यह दावा किया जा रहा, उसे भी इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है।

बता दें कि 1 जून से केंद्र सरकार द्वारा दोबारा से अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने और आम जीवन को सामान्य करने लिए अनलॉक किए जाने वाले फैसले के बाद से ही लॉकडाउन को फिर से लागू करने वाली अफवाहें सामने आई थीं।

8 जून तक स्थानीय कानून प्रवर्तन अधिकारियों द्वारा अपने क्षेत्र की स्थिति के आधार पर कार्यालयों, मॉल, रेस्तरां और धार्मिक स्थलों को फिर से खोलने सहित देश ने सभी तीन चरणों को पूरा कर लिया था। सुरक्षा को मद्देनजर रखते हुए सरकार द्वारा फ्लाइट और ट्रेनों को दोबारा से चलाने के लिए नए-नए तरीके भी अपनाए जा रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,215FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe