Sunday, May 22, 2022
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकFACT CHECK: अमेज़न जंगल में लगी आग को लेकर अंतरराष्ट्रीय हस्तियों ने शेयर की...

FACT CHECK: अमेज़न जंगल में लगी आग को लेकर अंतरराष्ट्रीय हस्तियों ने शेयर की सालों पुरानी तस्वीरें

अगर हम अमेज़न में आग लगने की बात करें तो यह हर साल होता रहा है। इस बार लगे आग की बात करें तो सैटेलाइट द्वारा प्राप्त आँकड़ों के अध्ययन से पता चलता है कि यह राष्ट्रीय औसत से 7% ही ज्यादा है।

हाल ही में अमेज़न जंगल में लगी आग को लेकर सोशल मीडिया पर लोगों ने पर्यावरण को लेकर चिंता जताई। कई सेलेब्रिटीज ने सोशल मीडिया के माध्यम से एक से एक फोटो शेयर कर बताया कि अमेज़न दुनिया की 20% ऑक्सीजन की सप्लाई करता है और वहाँ आग लगना दुःखद है। सेलेब्रिटीज के कूदने से उन फोटोज को लोगों ने भी हाथोंहाथ शेयर किया। टाइम्स पत्रिका ने साफ़-साफ़ कहा है कि हालिया आग का कारण क्लाइमेट चेंज नहीं है।

वैज्ञानिक डेनियल नैप्स्टड (Daniel Nepstad) ने अमेज़न के जंगलों पर ख़ासा अध्ययन किया है। वे अमेज़न द्वारा दुनिया की 20% ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली बात को बेहूदगी बताते हैं। डेनियल नैप्स्टड के अनुसार, ये पेड़ जितनी मात्रा में ऑक्सीजन की सप्लाई करते हैं, रेस्पिरेशन के तहत उतनी ही मात्रा में ऑक्सीजन का प्रयोग भी कर लेते हैं। रेस्पिरेशन वह प्रक्रिया है, जिसके तहत पेड़-पौधे मिटटी में स्थित नुट्रिएंट्स को ऊर्जा में बदलते हैं। फोटोसिंथेसिस के बारे में भी पढ़ा है, जिसके तहत पेड़-पौधे सूर्यकिरण को केमिकल एनर्जी में बदलते हैं।

अगर हम अमेज़न में आग लगने की बात करें तो यह हर साल होता रहा है। इस बार लगे आग की बात करें तो सैटेलाइट द्वारा प्राप्त आँकड़ों के अध्ययन से पता चलता है कि यह राष्ट्रीय औसत से 7% ही ज्यादा है। नीचे संलग्न किए गए ग्राफ में आप देख सकते हैं कि 2005 और 2010 में स्थिति कही गुना ज्यादा भयावह थी:

सैटेलाइट द्वारा प्राप्त आँकड़ों के अध्ययन से पता चलता है कि विश्व ने तब ध्यान नहीं दिया, जब स्थिति सही में भयावह थी

अब आते हैं उन सेलेब्रिटीज पर, जिन्होंने ग़लत फोटो शेयर किया। महानतम फुटबॉल खिलाड़ियों में से एक क्रिस्टिआनो रोनाल्डो ने अमेज़न जंगल में लगी आग के बारे में ट्वीट करते हुए जो फोटो शेयर किया, वो काफ़ी पुरानी है। वो फोटो दक्षिण ब्राजील के टैम इकोलॉजिकल गार्डन में लगी आज की फोटो है जिसे 2013 में ही क्लिक किया गया था। यह इलाक़ा भी अमेज़न जंगल से बहुत दूर है।

इसी तरह ऑस्कर विजेता अभिनेता लियोनार्डो डी कैप्रियो ने जो फोटो शेयर की, वह 20 वर्ष पुरानी है। फ्रांस के राष्ट्रपति इमानुअल मैक्रॉन ने भी इसी फोटो को शेयर किया। जबकि, इस फोटो को क्लिक करने वाले फोटोग्राफर की 2003 में ही मृत्यु हो चुकी है। स्टॉकफोटो वेबसाइट के अनुसार, उस फोटोजर्नलिस्ट ने इस फोटो को काफ़ी पहले क्लिक किया था। अब जाहिर है उन्होंने मृत्यु के बाद लौट कर 2019 में तो या फोटो नहीं ही क्लिक की।

ऑस्कर विजेता अभिनेता ने शेयर की 20 वर्ष पुरानी तस्वीर

इसी तरह गायिका मैडोना ने भी काफ़ी पुरानी तस्वीर शेयर की

मैडोना ने भी शेयर की पुरानी तस्वीर

मैडोना ने जिस तस्वीर को 2019 में अमेज़न के जंगल में लगी आग की बता कर शेयर किया, वह तीन दशक पुरानी है। इसी तरह कई अंतरराष्ट्रीय सेलेब्रिटीज व नेताओं ने अमेज़न जंगल में लगी आग को लेकर पुरानी तस्वीरों को शेयर किया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ज्ञानवापी में सिर्फ शिवलिंग ही नहीं, हनुमान जी की भी मूर्ति: अमेरिका के म्यूजियम में 154 साल पुरानी तस्वीर, नंदी भी विराजमान

ज्ञानवापी विवादित ढाँचे को लेकर जारी विवाद के बीच सामने आई तस्वीर में हनुमान जी के मिलने से हिन्दू पक्ष का दावा और मजबूत हो गया है।

नौगाँव थाने में आग लगाने वाले 5 आरोपितों के घरों पर चला असम सरकार का बुलडोजर: शराबी शफीकुल की मौत पर 2000 कट्टरपंथियों ने...

असम में एक व्यक्ति की मौत के शक में थाने को जलाने के 5 आरोपितों के घरों को प्रशासन ने बुलडोजर से ढहा दिया है। तीन को गिरफ्तार भी किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,078FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe