Saturday, July 20, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकतसव्वर हसन की दीवार में दब कर मर गईं 4 महिलाएँ-2 बच्चे, प्रोपेगेंडाबाज 'हिंदू...

तसव्वर हसन की दीवार में दब कर मर गईं 4 महिलाएँ-2 बच्चे, प्रोपेगेंडाबाज ‘हिंदू शादी के DJ’ को दे रहे दोष: जानिए सच

FIR में उन्होंने तसव्वर हसन के साथ गयासुद्दीन को नामजद किया। शिकायत में उन्होंने बताया कि तसव्वर हसन की जर्जर दीवाल के पास गयासुद्दीन ने गिट्टी और मोरंग आदि जमा कर के रखा हुआ था।

सोशल मीडिया पर सोमवार (18 दिसंबर, 2023) से उत्तर प्रदेश का बता कर एक वीडियो तेज़ी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में कुछ महिलाएँ जमीन पर घायल अवस्था में पड़ी दिख रहीं हैं और आसपास चीख-पुकार मची हुई है। वीडियो को शेयर करने वाले अधिकतर इस्लामी या वामपंथी हैंडल हैं। उनका दावा है कि UP की एक शादी में DJ की आवाज बहुत अधिक होने के चलते एक दीवार ढह गई और हादसा हो गया।

खुद को पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता बताने वाले शहवाज अंजुम ने 27 सेकेंड के इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखा, “शादी में DJ की तेज़ आवाज़ से दीवार गिर गई और ये हादसा हो गया।” इस वीडियो में लग रहा है कि कुछ महिलाओं की जान जा चुकी है। कई अन्य घायल दिख रहीं हैं जिन्हे जल्दी अस्पताल ले जाने की बात चल रही है।

आए दिन हिन्दू विरोधी पोस्ट करने वाले विक्रम ने भी यही वीडियो शेयर किया है। उन्होंने लिखा, “उत्तर प्रदेश में शादी में हाई वॉल्यूम DJ बजाने के कारण गिरी दीवार। कई लोग जख्मी। DJ को देश भर में बैन कर देना चाहिए। यह अत्यंत खतरनाक है।”

‘भीम आर्मी’ के मुखिया चंद्रशेखर ‘रावण’ की प्रशंसक वंदना सोनकर ने भी यही वीडियो शेयर किया है। उन्होंने लिखा, “उत्तर प्रदेश में ही रहे एक शादी मे DJ बजाया जा रहा था जिसका डेसिबल ज्यादा होने की वजह से दीवार गिर गई। इसमें बुरी तरह से महिलाएँ घायल हो गईं।”

यही वीडियो रियाज़ खान ने भी शेयर किया है। उन्होंने लिखा, “उत्तर प्रदेश की वीडियो बताई जा रही है। शादी मे DJ बजाया गया था ओर डेसिबल ज्यादा होने की वजह से दीवार गिर गई। इससे कई महिलाओं को गंभीर चोट आई है। शादी में DJ जगराता में DJ इन लोगों का बिना DJ बजाय कोई काम नहीं होता है। इन लोगों की वजह से दिल के बीमार मरीज मर जाते है या सहते हैं।”

तसव्वर हसन और गयासुद्दीन हैं औरतों-बच्चों की मौत के जिम्मेदार

ऑपइंडिया ने इस मामले की पड़ताल की। यह घटना उत्तर प्रदेश के मऊ जिले में आने वाले घोसी थाना क्षेत्र की है। हादसा 8 दिसंबर 2023 को शाम लगभग 3 बजे हुआ। तब घोसी के ही बालेंदु गुप्ता की हल्दी की रस्म पूरी करने महिलाएँ मांगलिक गीत गाते हुए गली से गुजर रहीं थीं। जैसे ही महिलाएँ तसव्वर हसन के घर के बगल से गुजरीं, उनकी दीवार भरभरा कर महिलाओं पर गिर पड़ी। इस दर्दनाक हादसे में 4 महिलाएँ और 2 बच्चों की मौत हो गई जबकि लगभग 20 अन्य घायल हो गए।

मृतकों में चंदा देवी, पूनम शर्मा, माधव, पूजा, मीरा और सुशीला देवी शामिल हैं। इस मामले की FIR घोसी नगर पंचायत के क्लर्क राकेश कुमार पांडेय ने दर्ज करवाई। FIR में उन्होंने तसव्वर हसन के साथ गयासुद्दीन को नामजद किया। शिकायत में उन्होंने बताया कि तसव्वर हसन की जर्जर दीवाल के पास गयासुद्दीन ने गिट्टी और मोरंग आदि जमा कर के रखा हुआ था। मार्ग पड़ने की वजह से बार-बार गयासुद्दीन और तसव्वर से सामन हटवाने के लिए कहा गया लेकिन उन्होंने लापरवाही दिखाई।

FIR कॉपी

तसव्वर ने अधिकारियों द्वारा अपनी दीवार बनवा लेने के भी कई बार मिले निर्देशों को अनदेखा किया। FIR में हादसे में हुई मौतों का जिम्मेदार तसव्वर और गयासुद्दीन की लापरवाही को बताया गया है। आखिरकार पुलिस ने तसव्वर हसन और गयासुद्दीन पर IPC की धरा 304 और 268 के तहत केस दर्ज किया। दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर के जेल भेज दिया गया है। इस बीच ताजा समाचार के मुताबिक गयासुद्दीन और तसव्वर हसन की जमानत याचिका सेशन जज रामेश्वर ने ख़ारिज कर दी है। ऑपइंडिया के पास FIR कॉपी मौजूद है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली हाईकोर्ट ने शिव मंदिर के ध्वस्तीकरण को ठहराया जायज, बॉम्बे HC ने विशालगढ़ में बुलडोजर पर लगाया ब्रेक: मंदिर की याचिका रद्द, मुस्लिमों...

बॉम्बे हाईकोर्ट ने मकबूल अहमद मुजवर व अन्य की याचिका पर इंस्पेक्टर तक को तलब कर लिया। कहा - एक भी संरचना नहीं गिराई जाए। याचिका में 'शिवभक्तों' पर आरोप।

आरक्षण पर बांग्लादेश में हो रही हत्याएँ, सीख भारत के लिए: परिवार और जाति-विशेष से बाहर निकले रिजर्वेशन का जिन्न

बांग्लादेश में आरक्षण के खिलाफ छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। वहाँ सेना को तैनात किया गया है। इससे भारत को सीख लेने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -