Tuesday, July 27, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकवुहान में मच्छरों पर प्रयोग, दिया जाता था वियाग्रा... गलती से निकल भागे हजारों:...

वुहान में मच्छरों पर प्रयोग, दिया जाता था वियाग्रा… गलती से निकल भागे हजारों: Fact Check

“वुहान: उच्च सुरक्षा प्रयोगशाला से वियाग्रा वाली वैक्सीन लगे हजारों मच्छर भाग निकले।” यह आर्टिकल 2 जून को प्रकाशित हुई। इसके बाद यह वायरल हो गई है।

कोविड महामारी के बीच फेक न्यूज फैलाने वालों का कारोबार चरम पर है। हाल में एक खबर सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुई, जिसमें दावा किया गया कि वुहान की एक हाई-सिक्योरिटी लैब से ऐसे हजारों मच्छर भाग गए हैं, जिन्हें वियाग्रा का इंजेक्शन लगाया गया था।

अब खबर कितनी सच्ची है, इसका पता इसी बात से चल जाता है कि दावे को साबित करने के लिए एक ऐसी वेबसाइट का लिंक शेयर किया जा रहा है, जो अपने व्यंग्य लेखों के लिए जानी जाती है। जिसके डिस्क्लेमर में साफ लिखा है कि साइट पर व्यंग्य पब्लिश होते हैं। 

शेयर किए जा रहे आर्टिकल का शीर्षक था-  “वुहान: उच्च सुरक्षा प्रयोगशाला से वियाग्रा वाली वैक्सीन लगे हजारों मच्छर भाग निकले।” ये आर्टिकल साइट पर 2 जून को प्रकाशित हुआ था। 

व्यंग्य साइट ने अपने इस लेख में लिखा था कि वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी ने कल सुरक्षा उल्लंघन की घोषणा करते हुए दावा किया कि आनुवांशिक रूप से संशोधित मच्छर आबादी के लिए हानिरहित थे।

अब सोशल मीडिया पर कई यूजर इस खबर को अलग-अलग तरह से शेयर करने लगे। जबकि असल में ऐसी कोई घटना हुई ही नहीं है। दरअसल पिछले दिनों कोरोना संक्रमण के पीछे वुहान का नाम आने के बाद अब लोग वुहान से नाम पर फैली हर खबर को हकीकत मान ले रहे हैं। लोगों का पूछना है कि आखिर दुनिया की हर मुसीबत चीन के वुहान शहर से ही क्यों शुरू होती है। कुछ कह रहे हैं कि ये चीन जो न करे, वो सब थोड़ा है।

उल्लेखनीय है कि World News Daily Report के पेज के नीचे एक डिस्क्लेमर दिया गया है, जो साबित करता है कि खबर झूठी है। इसमें लिखा है, “इस वेबसाइट में लिखे सभी लेख काल्पनिक व्यंग्य हैं। यहाँ तक कि लेखों में जिन नामों का जिक्र है, वे भी पूरी तरह से काल्पनिक लोगों के हैं। अगर किसी जीवित या मृत व्यक्ति से इनकी समानता होती है, तो इसे मात्र एक करिश्मा कहा जाएगा।”

साइट के डिस्क्लेमर में लिखी गई बात, फिर भी लोग सच मान लेते हैं

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe