Tuesday, July 27, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेक31 दिसंबर है लास्ट डेट... RBI, IBPS और SSC में बिना परीक्षा भर्ती, होगा...

31 दिसंबर है लास्ट डेट… RBI, IBPS और SSC में बिना परीक्षा भर्ती, होगा सिर्फ इंटरव्यू: Fact Check

"SSC, IBPS और RBI में डायरेक्ट साक्षात्कार के जरिए भर्तियाँ होंगी, कोई परीक्षा नहीं ली जाएगी। आवेदन करने की अंतिम तारीख 31-12-2020 है। कुल वैकेंसी 8,64,383 है।" - इस सूचना के चक्कर में...

डिजिटल इंडिया की ओर आगे बढ़ते हुए इस समय भारत के सामने कई चुनौतियाँ हैं। साइबर क्राइम को अंजाम देने वाले इस डिजिटलाइजेशन का खूब फायदा उठा रहे हैं। ऑनलाइन फर्जीवाड़ा करने के लिए नए-नए तरीके खोजे जा रहे हैं। हाल का मामला देखें तो ऐसा प्रयास सरकारी नौकरी के नाम पर किया गया है।

दरअसल पिछले दिनों एक खबर सामने आई थी कि एसएससी, आईबीपीएस और आरबीआई में डायरेक्ट साक्षात्कार के जरिए भर्तियाँ होंगी, कोई परीक्षा नहीं ली जाएगी। इसमें आवेदन करने की अंतिम तारीख 31-12-2020 निर्धारित की गई थी। साथ ही कुल वैकेंसी संख्या भी 8,64,383 बताई गई थी। मतलब जो कोई भी सरकारी नौकरी के सपने देखने वाला इस पोस्ट को देखे, आवेदन करने के लिए तैयार हो जाए। 

अब इसी झूठ का पर्दाफाश पीआईबी फैक्ट चेक द्वारा किया गया है। ट्विटर पर पीआईबी ने बताया, “जो वेबसाइट दावा कर रही है कि राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी ने विभिन्न पोस्टों के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं, वह वेबसाइट फर्जी है। NRA ने कोई विज्ञापन और नोटिस इन वैकेंसियों की बाबत अभी तक जारी नहीं किए।”

गौरतलब है कि साइबर क्राइम को अंजाम देने के लिए ऐसे फर्जी वेबसाइट का इस्तेमाल अक्सर किया जाता रहा है। कई बार खबरों में हम ऑनलाइन फ्रॉड की खबरें पढ़ते हैं, बावजूद इसके नौकरी, डिस्काउंट आदि का लालच देख कर उनकी ओर आकर्षित हो जाते हैं। ऐसी वेबसाइट्स हमसे हमारी निजी डिटेल्स तो कलेक्ट करती ही हैं, साथ ही भुगतान राशि के नाम पर बैंक डिटेल्स की जानकारी भी ले लेती हैं।

अभी कुछ दिन पहले ही पीएम किसान योजना के नाम पर लोगों को 70000 रुपए का लालच देकर उनसे उनकी डिटेल्स माँगी जा रही थी। इस टेक्स्ट मैसेज का भंडा फोड़ते हुए पीआईबी फैक्ट चेक ने कहा था, “एक टेक्स्ट मैसेज में जो दावा किया जा रहा है कि पीएम पेंशन योजना 2020 के तहत योग्यता कन्फर्म हो गई है। वो पूरी तरह फेक है। केंद्र सरकार द्वारा ऐसी कोई स्कीम नहीं चलाई जा रही।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नाम: नूर मुहम्मद, काम: रोहिंग्या-बांग्लादेशी महिलाओं और बच्चों को बेचना; 36 घंटे चला UP पुलिस का ऑपरेशन, पकड़ा गया गिरोह

देश में रोहिंग्याओं को बसाने वाले अंतरराष्ट्रीय मानव तस्करी के गिरोह का उत्तर प्रदेश एटीएस ने भंडाफोड़ किया है। तीन लोगों को अब तक गिरफ्तार किया गया है।

‘राजीव गाँधी थे PM, उत्तर-पूर्व में गिरी थी 41 लाशें’: मोदी सरकार पर तंज कसने के फेर में ‘इतिहासकार’ इरफ़ान हबीब भूले 1985

इतिहासकार व 'बुद्धिजीवी' इरफ़ान हबीब ने असम-मिजोरम विवाद के सहारे मोदी सरकार पर तंज कसा, जिसके बाद लोगों ने उन्हें सही इतिहास की याद दिलाई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,464FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe