Thursday, May 30, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकAlt News वाले गंजे प्रतीक सिन्हा की होगी शादी? पूर्व पत्रकार ने शेयर की...

Alt News वाले गंजे प्रतीक सिन्हा की होगी शादी? पूर्व पत्रकार ने शेयर की अखबार की फोटोशॉप तस्वीर

अविनाश ने अपने ट्वीट में हिंदुस्तान टाइम्स के फ्रंट पेज की तस्वीर शेयर की, जिसमें हेयर ट्रांस्प्लांट का विज्ञापन था और उसमें दावा था कि गंजेपन का स्थायी समाधान मात्र 2 घंटे में होगा। इस प्रचार में बड़ा-बड़ा लिखा था- हाय हैंडसम और ये भी लिखा था- गंजों की शादी हम कराएँगे।

पत्रकारिता का पेशा छोड़कर फिल्मी दुनिया में बतौर डायरेक्टर एंट्री लेने वाले अविनाश दास एक बार फिर सोशल मीडिया पर फेक चीजें फैलाते पकड़े गए हैं। दिलचस्प बात ये है कि इस बार उनकी फेक न्यूज का मुख्य कंटेंट आल्ट न्यूज के संस्थापक प्रतीक सिन्हा हैं। वैसे तो प्रतीक को उनके बाल्ड लुक के कारण सभी यूजर्स पहचानते हैं लेकिन अविनाश ने तो प्रतीक के इस लुक पर मजाक ही बना दिया और इस मजाक के लिए उन्होंने इस्तेमाल किया हिंदुस्तान टाइम्स का विज्ञापन।

अविनाश ने अपने ट्वीट में हिंदुस्तान टाइम्स के फ्रंट पेज की तस्वीर शेयर की, जिसमें हेयर ट्रांस्प्लांट का विज्ञापन था और उसमें दावा था कि गंजेपन का स्थायी समाधान मात्र 2 घंटे में होगा। इस प्रचार में बड़ा-बड़ा लिखा था- हाय हैंडसम और ये भी लिखा था- गंजों की शादी हम कराएँगे। इसी तस्वीर के एडिटिड वर्जन में प्रतीक सिन्हा की तस्वीर का इस्तेमाल किया गया और दिखाया गया कि हेयर ट्रांसप्लान्ट के बाद अब उनके सिर पर घने केश आ चुके हैं।

अविनाश ने तस्वीर के साथ लिखा, “भाई प्रतीक सिन्हा आप अपने बालों वाली तस्वीर को प्रोफाइल पिक बनाइए। बालांतरण के बाद शादी की डेट भी बताइए, हम भी आएँगे और पक्का नागिन डांस करेंगे।”

अब ट्वीट की भाषा साफ बताती है कि ये कोई मजाक है। लेकिन सोचिए जिन्हें ये मजाक न समझ आए या जिन्हें फोटोशॉप्ड तस्वीरों का ज्ञान न हो क्या उनके लिए ये मान लेना मुश्किल है कि यदि हिंदुस्तान जैसे प्रतिष्ठित समाचार पत्र में विज्ञापन छपा है तो ये सही ही होगा।

ये तस्वीर अविनाश के पास फॉर्वर्ड होकर आई है या फिर उन्होंने इसे खुद एडिट करके शेयर किया है। इसकी पुष्टि ऑपइंडिया नहीं करता लेकिन वास्तविक विज्ञापन की तस्वीर में देख सकते हैं कि कोई अन्य शख्स हेयर ट्रांस्पलांट के मॉडल के तौर पर पेश किया गया है न कि प्रतीक सिन्हा।

असली तस्वीर

यहाँ ये बात मालूम हो कि अविनाश पहली दफा बरगलाने वाली तस्वीर शेयर करते नहीं पाए गए हैं। इससे पहले उन्होंने योगी आदित्यनाथ और संबित पात्रा को लेकर साल 2018 में फेक न्यूज फैलाई थी। उन पर आरोप लग चुके हैं कि जब वह ‘डीबी स्टार’ से बतौर एडिटर जुड़े, जो कि हिंदी दैनिक भाष्कर का टैबलॉयड है। वहाँ काम करते हुए जर्नलिज्म और मास क्मुनिकेशन की एक महिला विद्यार्थी ने उनके खिलाफ यौन शोषण की लिखित शिकायत की थी। 

अविनाश अतिथि शिक्षक के रूप में भोपाल की माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय में पढ़ाने के लिए जाते थे। विश्वविद्यालय के एक दल द्वारा मामले की जाँच किए जाने पर आरोप सही पाए गए थे और अविनाश दास को दैनिक भाष्कर द्वारा उनकी नौकरी से निकाल दिया गया था। इसके अलावा दास के विरुद्ध श्रीपाल शेखावत ने एक मानहानि केस दायर किया था और पिछले दिनों एक महिला पत्रकार ने उनके साथ चैट भी सोशल मीडिया पर शेयर कर दी थी। इसमें वह उसे कह रहे थे कि वो खुद को अकेला न समझे।  

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जो पुराना फोन आप यूज नहीं करते उसके बारे में मुझे बताइए… कहीं अपनी ‘दुकानदारी’ में आपकी गर्दन न नपवा दे न्यूजलॉन्ड्री वाला ‘झबरा’

अभिनंदन सेखरी ने बताया है कि वह फोन यहाँ बेघर लोगों को देने जा रहा है। ऐसे में फोन देने वाले को नहीं पता होगा कि फोन किसके पास जा रहा है।

कौन हैं पुणे के रईसजादे को बेल देने वाले एलएन दावड़े, अब मीडिया से रहे भाग: जिसने 2 को कुचल कर मार डाला उसे...

पुणे पोर्श कार के आरोपित को बेल देने वाले डॉक्टर एल एन दावड़े की एक वीडियो सामने आई है इसमें वो मीडिया से भाग रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -