Thursday, May 23, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेक'भक्तों को ₹2 प्रति ट्वीट': जिस ऑडियो पर द वायर की रोहिणी सिंह चला...

‘भक्तों को ₹2 प्रति ट्वीट’: जिस ऑडियो पर द वायर की रोहिणी सिंह चला रही थीं प्रोपेगेंडा, वो निकला फेक, 2 गिरफ्तार

इस फेक वायरल ऑडियो पर तंज कसते हुए द वायर की प्रोपेगेंडा पत्रकार रोहिणी सिंह ने ट्वीट किया और कहा कि आखिरकार भक्तों ने स्वीकार लिया कि उन्हें ट्वीट करने के 2 रुपए मिलते हैं। रोहिणी ने इसे टूलकिट की संज्ञा देते हुए लिखा कि अधिकारी करोड़ों ले रहे हैं और भक्तों को 2 रुपए ही मिल रहे हैं।

हाल ही में सोशल मीडिया पर एक ऑडियो वायरल हुआ जिसमें यह दावा किया गया कि भाजपा के समर्थन में ट्वीट करने के लिए प्रति ट्वीट के हिसाब से 2 रुपए मिल रहे हैं। इस वायरल ऑडियो में अभिनेता गजेन्द्र चौहान का नाम लेकर कहा गया कि वो ट्वीट आरटी करेंगे। अब इस ऑडियो के बारे में यह सूचना आई है कि यह एडिटेड है और इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है।

इस वायरल ऑडियो में एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति को ट्वीट करने के नियम समझा रहा है और बता रहा है कि एक आईडी से कम से कम 25 ट्वीट करने होंगे।

इस फेक वायरल ऑडियो पर तंज कसते हुए द वायर की प्रोपेगेंडा पत्रकार रोहिणी सिंह ने ट्वीट किया और कहा कि आखिरकार भक्तों ने स्वीकार लिया कि उन्हें ट्वीट करने के 2 रुपए मिलते हैं। रोहिणी ने इसे टूलकिट की संज्ञा देते हुए लिखा कि अधिकारी करोड़ों ले रहे हैं और भक्तों को 2 रुपए ही मिल रहे हैं।

रोहिणी सिंह के ट्वीट का स्क्रीनशॉट

रोहिणी सिंह के इस ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए रिटायर्ड आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने भी लिखा कि सूचना विभाग बताए, हजारों ऐसे ट्रेंड जो करवाए जाते हैं उनमें कितने पैसे खर्च कर रही है सरकार? सूर्य प्रताप सिंह ने यह भी लिखा कि जनता का पैसा उड़ाया जा रहा है और गरीब दाने-दाने को मोहताज है।

सूर्य प्रताप सिंह के ट्वीट का स्क्रीनशॉट

अब जाँच में यह पता चला है कि यह ऑडियो फेक था और जानबूझकर एडिट करके बनाया गया था। सोशल मीडिया मैनेजमेंट का कार्य करने वाले अतुल कुशवाहा ने इस मामले में थाने में शिकायत दर्ज कराई थी। अतुल का आरोप था कि उसे बदनाम करने के लिए यह योजना बनाई गई। अंततः जाँच में एक अन्य सोशल मीडिया मैनेजर आशीष पाण्डेय का नाम सामने आया जिसने अतुल के बिजनेस को नीचे करने के लिए यह योजना बनाई।

कानपुर नगर मीडिया सेल द्वारा जारी वक्तव्य में यह बताया गया कि आशीष पाण्डेय ने अपने अधीनस्थ काम करने वाले हिमांशु सैनी के साथ इस योजना पर काम किया। हिमांशु ने पहले पटना के एक 15 वर्षीय लड़के से सोशल मीडिया पर दोस्ती की फिर उससे फोन पर बात करके ऑडियो रिकॉर्ड कर लिया और एडिट करके उसे वायरल करने लायक बना दिया। इस वायरल ऑडियो के संदर्भ में ही सूर्य प्रताप सिंह और रोहिणी सिंह समेत कई अन्य लोगों द्वारा ट्वीट किया गया। मामले में गिरफ्तार हिमांशु सैनी और आशीष पाण्डेय लखनऊ के निवासी हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

SRH और KKR के मैच को दहलाने की थी साजिश… आतंकियों ने 38 बार की थी भारत की यात्रा, श्रीलंका में खाई फिदायीन हमले...

चेन्नई से ये चारों आतंकी इंडिगो एयरलाइंस की फ्लाइट से आए थे। इन चारों के टिकट एक ही PNR पर थे। यात्रियों की लिस्ट चेक की गई तो...

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -