Friday, July 19, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकनाबालिग औलाद ने ही अपने इमाम अब्बा का किया सिर तन से जुदा: कट्टर...

नाबालिग औलाद ने ही अपने इमाम अब्बा का किया सिर तन से जुदा: कट्टर इस्लामी-वामी मचा रहे ‘मुस्लिम टारगेट किलिंग’ का शोर, पुलिस जाँच में सब क्लियर

मस्जिद के इमाम फजलुर्रहमान की सिर काट कर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने महज 6 घंटों में ही इमाम फजलुर्रहमान की हत्या का खुलासा कर दिया। पुलिस ने मृतक के नाबालिग बेटे को ही अपने अब्बा की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया है।

उत्तर प्रदेश के शामली जिले में मस्जिद के एक इमाम की हत्या कर दी गई है। इस हत्या को सोशल मीडिया के कई वामपंथी और कट्टर मुस्लिम हैंडल सांप्रदायिक रंग दे रहे। इसे उत्तर प्रदेश में इस्लामी स्कॉलर्स की टारगेट किलिंग के तौर पर बता कर सनसनी फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। पुलिस की जाँच में हालाँकि अब तक किसी भी प्रकार के साम्प्रदायिक एंगल अथवा टारगेट किलिंग जैसी घटना की पुष्टि नहीं हुई है। शामली की घटना में तो मौलाना की हत्या के केस में उनके बेटे को ही जेल भेजा गया है।

यह मामला शामली जिले के थानाक्षेत्र झिंझाना का है। यहाँ के गाँव बल्ला माजरा में 11 जून (मंगलवार) को मस्जिद के इमाम फजलुर्रहमान की सिर काट कर हत्या कर दी गई थी। धड़ से अलग शव लगभग आधे किलोमीटर दूर बरामद हुआ था। इस घटना के सामने आते ही आए दिन भ्रामक खबर उड़ाने वाले तमाम कट्टर मुस्लिम हैंडल फ़ौरन एक्टिव हो गए। उन्होंने इस घटना को फ़ौरन ही टारगेट किलिंग का रूप और रंग देना शुरू कर दिया। निगार परवीन के ट्वीट पर हक की आवाज ने लिखा, “जानबूझकर मुस्लिम धर्मगुरुओं को निशाना बनाया जा रहा है पर अभी तक कुछ नहीं हुआ, आखिर इसके पीछे क्या कारण है?”

इसके अलावा कविश अजीज ने भी इस घटना को अपने शब्दों से हवा दी। उन्होंने इसे प्रतापगढ़ की कड़ी से जोड़ा और उत्तर प्रदेश में सब ठीक होने का व्यंग्य किया।

भ्रामक खबरों में अक्सर अपनी हाजिरी दर्ज करवाने वाले कथित पत्रकार मीर फैज़ल भी इस मामले में पीछे नहीं रहे। उन्होंने भी शामली की इस घटना को प्रतापगढ़ के मौलाना की हत्या की अगली कड़ी के तौर पर दिखाने का प्रयास किया।
इन सभी के हैंडलों पर हालाँकि शामली पुलिस जाँच जारी होने की बात कह रही थी। इन सभी को पुलिस यह भी बता रही थी कि शक के आधार पर मृतक के बेटे को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। बावजूद इसके भ्रामक खबरें फैलाने का सिलसिला जारी रहा।

बेटे ने ही की थी अपने अब्बा की हत्या

आखिरकार पुलिस ने महज 6 घंटों में ही इमाम फजलुर्रहमान की हत्या का खुलासा कर दिया। 11 जून (मंगलवार) को पुलिस ने मृतक के नाबालिग बेटे को ही अपने अब्बा की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया है।

पुलिस की जाँच में निकल कर सामने आया कि 50 वर्षीय इमाम फजलुर्रहमान मंगलवार को अपने बेटे के साथ काम करने पास की बाग में गए थे। यहाँ सुबह 10 बजे बाप-बेटे में किसी बात को लेकर बहस हो गई थी। इसके बाद तैश में आए बेटे ने पास रखे फावड़े से अपने अब्बा पर ताबड़तोड़ वार शुरू कर दिए।

कुछ ही देर में फजलुर्रहमान की मौत हो गई। हत्या के बाद भी मृतक के बेटे का गुस्सा शांत नहीं हुआ। उसने अपने अब्बा का सिर फावड़े से काट लिया और उसे लेकर मौके से फरार हो गया। गाँव वालों ने इमाम की लाश देख कर पुलिस को सूचना दी।

पुलिस ने मृतक के बेटे को खोज निकला और हिरासत में ले लिया। कुछ ही देर की पूछताछ में आरोपित ने अपना गुनाह कबूल कर लिया। हत्या में प्रयोग हुआ फावड़ा भी बरामद कर लिया गया है। कुछ रिपोर्ट्स में नाबालिग आरोपित को मानसिक रूप से बीमार भी बताया जा रहा है। पुलिस इन सभी पहलुओं पर जाँच कर रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -