Wednesday, October 20, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकपीड़िता के पिता को उठा कर ले जाने वाले वीडियो की उन्नाव पुलिस ने...

पीड़िता के पिता को उठा कर ले जाने वाले वीडियो की उन्नाव पुलिस ने बताई सच्चाई, कहा- भ्रामक खबरें फैलाने पर होगी कार्रवाई

“वीडियो के संदर्भ में की गई जाँच से प्रकाश में आया कि पीड़िता के पिता को चक्कर आ जाने एवं अस्वस्थ महसूस होने पर ग्राम प्रधान द्वारा उठा कर अन्य स्थान पर ले जाया जा रहा था। वीडियो में कोई पुलिस/ SOGकर्मी नहीं है। निवेदन है कि मामले की संवेदनशीलता को दृष्टिगत रखते हुए भ्रामक तथ्यों को प्रसारित करने से बचें।”

उन्नाव में दो दलित लड़कियों की मौत ने राजनीतिक रंग ले लिया है। इस बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो काफी तेजी से वायरल हो रहा है। जिसमें एक व्यक्ति को उठाकर ले जाते हुए देखा जा सकता है। सोशल मीडिया पर इस वीडियो को इस दावे के साथ शेयर किया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश के योगी आदित्यनाथ की सरकार पीड़िता के पिता को किसी अज्ञात स्थान पर ले जा रही है।

कई मीडिया संस्थानों और सोशल मीडिया यूजर्स इस वीडियो को धड़ल्ले से शेयर कर रहे हैं। वायरल हो रहे वीडियो पर अब उन्नाव पुलिस ने स्पष्टीकरण जारी कर सोशल मीडिया पर चल रहे नैरेटिव को खारिज कर दिया।

उन्नाव पुलिस ने ‘भारत समाचार’ की रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा, “वीडियो के संदर्भ में की गई जाँच से प्रकाश में आया कि पीड़िता के पिता को चक्कर आ जाने एवं अस्वस्थ महसूस होने पर ग्राम प्रधान द्वारा उठा कर अन्य स्थान पर ले जाया जा रहा था। वीडियो में कोई पुलिस/ SOGकर्मी नहीं है। निवेदन है कि मामले की संवेदनशीलता को दृष्टिगत रखते हुए भ्रामक तथ्यों को प्रसारित करने से बचें।”

बता दें कि भारत समाचार ने वीडियो शेयर करते हुए दावा किया था, “उन्नाव पुलिस का बड़ा कारनामा सामने। पीड़िता के पिता को उठा ले गई पुलिस। सादी वर्दी में आई पुलिस पिता को उठा ले गई। पिता को किसी से भी मिलने पर रोक लगाई। रोते-बिलखते पिता को टाँग कर ले गई पुलिस। पिता को जबरन उठा ले जाने का वीडियो।”

ऑल इंडिया महिला कॉन्ग्रेस ने भी इस वीडियो को शेयर किया। उन्होंने लिखा, उन्नाव की पीड़िता के पिता को जबरन उठाकर ले जा रही अजय सिंह बिष्ट की कठपुतली पुलिस। पीड़िता के परिवार को नज़रबंद कर, मानवधिकार कूड़े में डाल  दिए गए हैं।”

ईस्ट उत्तर प्रदेश कॉन्ग्रेस सेवादल ने वीडियो को शेयर करते हुए लिखा, “उत्तर प्रदेश में मानवाधिकार का खुलेआम मजाक उड़ाया जा रहा है। उन्नाव में पीड़िता के पिता को अजय बिष्ट की पुलिस उठा के ले जा रही है। अपने देश में तो इस पर आवाज़ नहीं उठेगी, कोई बाहर वाला उठाया तो ये ‘इंटर्नल मैटर’ हो जाएगा।”

इसके साथ ही भीम आर्मी के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनय रतन सिंह ने इसे शेयर करते हुए लिखा, “उन्नाव में हाथरस कांड को दोहराया जा रहा है। पीड़िता के पिता को पुलिस जबरन उठाकर ले जा रही है। ये यूपी पुलिस की अत्यंत ही भयावह छवि है। योगी सरकार पर भरोसा नहीं।” इसके अलावा भी कई लोग धड़ल्ले से वीडियो को शेयर कर रहे हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अभी जेल में ही गुजरेंगी आर्यन खान की रातें, SRK के लाडले को नहीं मिली जमानत: पेश हुए थे दो-दो बड़े वकील

ड्रग्स मामले में शाहरुख़ खान के बेटे आर्यन खान को बुधवार (20 अक्टूबर, 2021) को भी जमानत नहीं मिली। स्पेशल NDPS कोर्ट ने नहीं दिया बेल।

‘इस्लाम ही एकमात्र समाधान है’: कानपुर में बिल की पर्ची से भी मजहबी प्रसार, IAS इफ्तिखारुद्दीन की भी यही भाषा

उत्तर प्रदेश स्थित कानपुर के कुछ कारोबारी व्यापारिक प्रतिष्ठानों के माध्यम से जिहादी विचारधारा फैला रहे हैं। ये लोग इस्लामी धर्मांतरण को बढ़ावा देने वाले IAS इफ्तिखारुद्दीन से प्रेरित हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
130,199FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe