Saturday, May 25, 2024
Homeबड़ी ख़बरझारखंड: नक्‍सलियों ने बम से उड़ाया BJP कार्यालय, मिले चुनाव बहिष्कार के पर्चे

झारखंड: नक्‍सलियों ने बम से उड़ाया BJP कार्यालय, मिले चुनाव बहिष्कार के पर्चे

इस घटना ने स्थानीय लोगों में दहशत का माहौल फैला दिया है। भाजपा के जिस कार्यालय को विस्फोट से उड़ाया गया है, उसे राष्ट्रीय राजमार्ग 98 के समीप कृष्णा गुप्ता के मकान से संचालित किया जाता था।

लोकसभा चुनावों के दौरान झारखंड में पलामू जिले के नक्सल प्रभावित क्षेत्र हरिहरगंज से उग्रवादी घटना की खबर आई है। यहाँ गुरुवार (अप्रैल 25, 2019) की रात भाकपा माओवादी के 12 उग्रवादियों ने बस स्टैंड स्थित बीजेपी चुनावी कार्यालय को बम से उड़ा दिया।

ये घटना रात 12:25 की है। खबर के अनुसार घटनास्थल पर नक्सलियों ने एक चिट्ठी भी छोड़ी है जिसपर राफेल सौदा, नोटबंदी, भगौड़े विजय माल्या, नीरव मोदी का जिक्र है। पर्चे में राज्य और केंद्र सरकार पर पहाड़ों और मूलनिवासियों को विस्थापित करके प्राकृतिक संसाधनों व खनिज संपदा को कॉरपोरेट घरानों को सौंपने का भी आरोप लगाया गया है।

घटनास्थल से प्राप्त पर्चा। आभार: दैनिक जागरण

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के मुताबिक डीएसपी शंभू कुमार ने बताया है कि भाकपा माओवादियों ने बीजेपी के कार्यालय को उड़ा दिया, जिसके कारण भवन को काफ़ी नुकसान पहुँचा है। उनके अनुसार इस हमले में कोई हताहत नहीं हुआ है। हायरगंज थाना पुलिस दल-बल समेत घटनास्थल पर पहुँच कर मामले की जाँच कर रही है। डीएसपी ने घटनास्थल पर मिले पर्चे के बारे में बताते हुए कहा कि उस पर्चे में 17वें लोकसभा चुनाव बहिष्कार की घोषणा की गई है।

इस घटना ने स्थानीय लोगों में दहशत का माहौल फैला दिया है। भाजपा के जिस कार्यालय को विस्फोट से उड़ाया गया है, उसे राष्ट्रीय राजमार्ग 98 के समीप कृष्णा गुप्ता के मकान से संचालित किया जाता था। ये इलाका बिहार सीमा से बिलकुल सटा हुआ है। भाजपा कार्यालय से पुलिस थाना 400 मीटर की दूरी पर है।

गौरतलब है कि यहाँ पर नक्सली पहले भी इस तरह की घटनाओं को अंजाम दे चुके हैं। गत वर्ष यहाँ सरकारी भवन को विस्फोटक से उड़ाने से लेकर थाने पर हमले की घटनाएँ हो चुकी हैं। कुछ दिनों पहले बिहार में भी माओवादियों ने डाइनामाइट से भाजपा नेता का घर उड़ा दिया था, वहाँ से भी चुनाव बहिष्कार के पर्चे मिले थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

18 साल से ईसाई मजहब का प्रचार कर रहा था पादरी, अब हिन्दू धर्म में की घर-वापसी: सतानंद महाराज ने नक्सल बेल्ट रहे इलाके...

सतानंद महाराज ने साजिश का खुलासा करते हुए बताया, "हनुमान जी की मोम की मूर्ति बनाई जाती है, उन्हें धूप में रख कर पिघला दिया जाता है और बच्चों को कहा जाता है कि जब ये खुद को नहीं बचा सके तो तुम्हें क्या बचाएँगे।""

‘घेरलू खान मार्केट की बिक्री कम हो गई है, इसीलिए अंतरराष्ट्रीय खान मार्केट मदद करने आया है’: विदेश मंत्री S जयशंकर का भारत विरोधी...

केंद्रीय विदेश मंत्री S जयशंकर ने कहा है कि ये 'खान मार्केट' बहुत बड़ा है, इसका एक वैश्विक वर्जन भी है जिसे अब 'इंटरनेशनल खान मार्केट' कह सकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -