Tuesday, October 19, 2021
Homeहास्य-व्यंग्य-कटाक्षयादों के झरोखों से: जब कारसेवकों ने बाबरी की रक्षा के लिए बना डाली...

यादों के झरोखों से: जब कारसेवकों ने बाबरी की रक्षा के लिए बना डाली थी ‘बेंगलुरु मॉडल’ वाली ह्यूमन चेन

किसी भी विरासत को बचाने के लिए बनाई गई यह अब तक की सबसे बड़ी (बेंगलुरु मॉडल से भी बड़ी) और सबसे ज्यादा सेक्युलर मानव श्रृंखला है। गुप्त सूत्रों का कहना है कि इसी की तर्ज पर ह्युमन चेन काशी और मथुरा के लिए भी रवाना होने वाली है।

इस देश में धर्म निरपेक्षता और पंथ निरपेक्षता की चर्चा अक्सर होती आई है। लेकिन जब भी बाबरी की याद आती है तो मुझे उसके सामने बाकी सभी लोगों की धर्म निरपेक्षता बनावटी और आडंबर ही महसूस होती है। इसके पीछे कारण वो चंद जज्बाती लोग थे, जिन्होंने भविष्य में होने वाली बातों की परवाह ना करते हुए ‘ह्यूमन चेन’ यानी मानव श्रृंखला बनाकर बाबरी की सुरक्षा की पूरी तैयारी की थी। हालाँकि, इस चेन में कहाँ चूक हुई, वह राज भी बाबरी के साथ ही चला गया।

याद कीजिए दिसम्बर, 1992 का वो दिन, जब जो कुछ भी बिना किसी षड्यंत्र के हुआ, और उसके चारों ओर प्रहरी की तरह खड़े कारसेवकों की तस्वीरों को। ये वो लोग थे, जो बेंगलुरु में हुए दंगों में बनी ह्यूमन चेन से कई साल पहले ही ह्युमन चेन बना डाली थी।

चश्मदीदों का कहना है कि उनकी जुबान पर जो ‘एक धक्का और दो’ के नारे थे, उनका मतलब धक्का देकर इस ह्यूमन चेन की मजबूती का फैक्ट चेक करने से था। उन्होंने कहा कि इतिहास के पन्नों में आडवाणी जी को ‘ह्यूमन चेन का जनक’ कहा जाएगा।

इतिहास के पन्नों से मिली हुई एक दुर्लभ तस्वीर आप इस ट्वीट में देख सकते हैं –

कारसेवकों द्वारा यह ‘बेस्ट मानव श्रृंखला’ तब बना दी गई थी, जब मानव श्रृंखला बनाना ‘कूल’ नहीं हुआ करता था। और फिर याद कीजिए कि किस तरह कट्टरपंथी मजहबी भीड़ ने पूरे बेंगलुरु को जलाने के बाद एक मंदिर के बाहर अपने ही आतंक से मंदिर को बचाने के लिए ऐसी ही ह्यूमन चेन बनाकर सेक्युलर भारत की नींव रखी थी। लेकिन बाबरी वालों को संघी और बेंगलुरु वालों को सेक्युलर कहा जाता रहा।

पुरातत्वविदों का कहना है कि अयोध्या में एक ‘ह्यूमन चेन’ के अवशेष प्राप्त हुए हैं। खोजी पत्रकारों का दावा है कि किसी भी विरासत को बचाने के लिए बनाई गई यह अब तक की सबसे बड़ी और सबसे ज्यादा सेक्युलर मानव श्रृंखला है। यूनेस्को भी इस मानव श्रृंखला को बेस्ट मानव श्रृंखला घोषित करने पर विचार कर रहा है।

वहीं, कुछ गुप्त सूत्रों का कहना है कि इसी की तर्ज पर अभी एक और ह्युमन चेन काशी और मथुरा के लिए भी रवाना की जानी हैं। विशेषज्ञों का दावा है कि यह ‘बेस्ट सेक्युलर मानव श्रृंखला’ भजन-कीर्तन के साथ ही सूफी संगीत और कव्वालियों का आयोजन कर पौराणिक दीवारों की सुरक्षा करेगी।

यह रिपोर्ट लिखे जाने तक मानव श्रृंखला के अवशेषों को निकालने का काम प्रगति पर था। और बाकि किसी भी सूचना के मिलते ही इस पर आगे लिखा जाएगा।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान हारे भी न और टीम इंडिया गँवा दे 2 अंक: खुद को ‘देशभक्त’ साबित करने में लगे नेता, भूले यह विश्व कप है-द्विपक्षीय...

सृजिकल स्ट्राइक का सबूत माँगने वाले और मंच से 'पाकिस्तान ज़िंदाबाद' का नारा लगवाने वाले भारत-पाकिस्तान क्रिकेट मैच रद्द कराने की माँग कर 'देशभक्त' बन जाएँगे?

धर्मांतरण कराने आए ईसाई समूह को ग्रामीणों ने बंधक बनाया, छत्तीसगढ़ की गवर्नर का CM को पत्र- जबरन धर्म परिवर्तन पर हो एक्शन

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में ग्रामीणों ने ईसाई समुदाय के 45 से ज्यादा लोगों को बंधक बना लिया। यह समूह देर रात धर्मांतरण कराने के इरादे से पहुँचा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
130,026FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe