Tuesday, March 2, 2021
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष लो भाई! बंगाल से TMC का जाना तय हो गया!

लो भाई! बंगाल से TMC का जाना तय हो गया!

बरखा दत्त के जीवन से कुछ चुनिन्दा और सबसे बेहतरीन बात जो अपनाने लायक है, वो यह कि इसके लिए उन्होंने कभी राष्ट्रवादियों से किसी प्रकार के ट्रोल भत्ते की अपेक्षा नहीं की और एक तपस्वी की भांति वह कारसेवा कर भाजपा विरोधियों की ईंट से ईंट भी बजा रही हैं।

बिहार चुनावों के नतीजे आखिरकार हम सबके सामने हैं। मगर कुछ हस्तियाँ ऐसी भी हैं, जिन्होंने इस नतीजे को समय से पहले ही भाँप लिया था। ये हस्तियाँ तमाम एग्जिट पोल, ओपिनियन पोल और राजनीतिक गुरुओं को हमेशा ही हेय दृष्टि से देखती आई हैं। हम किसी और की नहीं बल्कि मशहूर पत्रकार और युगद्रष्टा बरखा दत्त की बात कर रहे हैं।

विश्वकप फुटबॉल मुकाबलों के नतीजे पहले ही बता देने वाले ‘पॉल दी ऑक्टोपस’ का नाम तो सबने सुना होगा मगर आज हम आपको एक स्वदेशी ‘पॉल दी ऑक्टोपस’ से मिलवा रहे हैं, जिन्हें कि ‘बरखा दी गोविंदा’ के नाम से जाना जाता है। पॉल दी ऑक्टोपस की ही तर्ज पर बरखा दत्त चुनावी खेल के नतीजों को मात्र अपनी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल कर बता देती हैं। इन तस्वीरों में आगामी चुनाव में हार रहे प्रत्याशी की तस्वीर बरखा दत्त के साथ अपने-आप उभर आती है।

चुनाव चाहे संयुक्त राज्य अमेरिका में हों, उत्तर प्रदेश में हों, बिहार में हों, यूगांडा में हों, या किसी ऐसी आकाशगंगा में जिसका पता लगना अभी बाकी है, ऐसा कोई निर्वाचन क्षेत्र नहीं, जिसके प्रतिनिधि के साथ बरखा दत्त नजर आई और वो चुनाव जीता हो।

उदाहरण के तौर पर, हिलेरी क्लिंटन के साथ बरखा दत्त के नजर आने के बाद हिलेरी अमेरिका में राष्ट्रपति पद का चुनाव हारी थी। 2019 के आम चुनाव से ठीक पहले उर्मिला मातोंडकर ने कॉन्ग्रेस ज्वाइन की और तुरंत वो बरखा दत्त के साथ नजर आईं। हार ऐसी हुई कि आज उर्मिला ने कॉन्ग्रेस से ही नहीं, राजनीति से भी सन्यास ले लिया है।

उत्तर प्रदेश के टोंटी चोर की कुंडली में बरखा दत्त ऐसे स्थान में बैठी हैं कि उनका राहू ही अस्त हो गया और केतु भी फलदायी साबित नहीं हो पा रहा। जबकि स्वयं लालू प्रसाद यादव के साथ बरखा दत्त की एक दुर्लभ तस्वीर के बाद आज लालू की स्थिति जगजाहिर है।

देश-दुनिया के तमाम दुर्लभ किन्तु विचित्र संयोग

ऐसा ही कुछ इस बार बिहार के विधानसभा चुनावों में भी हुआ। मानो, सौ प्रतिशत नतीजे देने वाली बरखा दत्त ने पहले ही तय कर लिया था कि सत्ता एनडीए को ही दिलानी है। बरखा दत्त नजर आई चारा चोर लालू के पुत्र तेजस्वी यादव के साथ।

बरखा दत्त की निशानदेही और कार्य कुशलता को देखिए, उन्होंने किसी और को नहीं बल्कि सीधे महागठबंधन के नेता और वाम-उदारवादियों के नए मसीहा को चुना, घात लगाकर उसका साक्षात्कार करने पहुँची और नतीजा आपके सामने है।

बिहार चुनाव के नतीजों से कई सौ साल पहले तेजस्वी यादव के साथ बरखा दत्त, जिसे तमाम एग्जिट पोल नहीं देख पाए
बरखा दत्त की इसी मुलाकात ने चिराग की उम्मीदों का चिराग भी बुझाया

बरखा दत्त के जीवन से कुछ चुनिन्दा और सबसे बेहतरीन बात जो अपनाने लायक है, वो यह कि इसके लिए उन्होंने कभी राष्ट्रवादियों से किसी प्रकार के ट्रोल भत्ते की अपेक्षा नहीं की और एक तपस्वी की भांति वह कारसेवा कर भाजपा विरोधियों की ईंट से ईंट भी बजा रही हैं।

उनकी इसी अदा से खुश होकर ओवैसी को सूअर कहने वाले महान शायर मुनव्वर राणा ने भी कहा था-

“किसी को एग्जिट पोल मिला तो किसी के हिस्से EVM आई, मैं सबसे बकैत था, मेरे हिस्से बरखा आई।”

ऐसी ही एक तस्वीर में अब बरखा दत्त बंगाल की दीदी ममता बनर्जी के साथ नजर क्या आई कि अमित शाह ने बंगाल चुनावों के लिए रणनीति बनाने के फैसले को ही टाल दिया है। बिहार के बाद अब बंगाल चुनावों से पहले बरखा दत्त ने चुनाव नतीजों की घोषणा नहीं की बल्कि अपनी ये तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल करवा दी।

बंगाल में होने जा रहे चुनाव के ‘लीक्ड’ नतीजे

राजनीतिक पंडितों ने इस तस्वीर को देखते ही बंगाल चुनाव के फैसले सुना दिए हैं। अब भाजपा समर्थक सड़कों पर नाच रहे हैं और पटाखों की छुच्छी में आग लगा रहे हैं। इसी बीच एक गुप्त सूत्र से प्राप्त जानकारी के अनुसार, बूँदी वाले लड्डू के थोक्व विक्रेता और मशहूर हारमोनियम वादक अजीत भारती को बूँदी के लड्डुओं का भी ऑर्डर दे दिया गया है।

सोशल मीडिया पर एक ऐसी तस्वीर भी ‘वायरल’ होकर सामने आई है, जिसमें नरेंद्र भाई मोदी और योगी आदित्यनाथ ठहाके मारते देखे जा रहे हैं। लोग इसे ‘सुपा हॉट फायर’ का स्वदेशी मीम बता रहे हैं।

मोदी और योगी की एक वायरल तस्वीर

कहा जा रहा है कि यह तस्वीर मोदी जी और योगी जी के निजी मीटिंग की है, जब उन्होंने यह तस्वीर देखी तो स्वयं को रोक नहीं पाए। लेकिन कुछ दुष्ट लोग हैं जो इस तस्वीर को फोटोशॉप बता रहे हैं। ऐसे लोगों का नाम जुबैर और प्रतीक बताया जा रहा है।

होलसेल लड्डू विक्रेता अजीत भारती से जब हमने यह तस्वीर दिखा कर पूछा कि क्या वो छः महीने आगे का भी ऑर्डर लेते हैं? तो उन्होंने कहा, “देखिए, हमारे पास तो 2029 की मई का भी ऑर्डर पड़ा हुआ है और हमने केराव का बेसन मँगवा कर रख लिया है। तो छः महीने आगे का तो बिलकुल ले लेंगे।”

आगे हमने बात की कि क्या हमेशा भगवा रंग का ही लड्डू बनाते हैं? तो पूरे बेगूसराय में वर्ल्ड फेमस लड्डू दुकानदार श्री भारती ने कहा, “बनाने का तो हम हरे रंग का भी बनाते हैं, लेकिन कई बार सक्सेस नहीं हो पाता। लोग बियाना (अडवांस) दे कर पूरा पेमेंट नहीं करते। बारूद का लड्डू छोड़ कर हम हर रंग का बनाते हैं। भगवा वाला ज्यादा बिकता है, और प्योर होता है। उसमें रंग नहीं मिलाना पड़ता। बाकी, मोदी जी के आने से ‘बिजनिस’ ठीक जा रहा है।”

बता दें कि श्री भारती जी ने ही इस देश में सबसे पहले भगवा रंग के बूँदी के लड्डू बनाए थे। स्वतन्त्रता दिवस पर स्कूल, विद्यालय, कैंटीन आदि में बंटने वाली बूँदी उन्हीं के द्वारा तैयार की जाती हैं।

उनका लक्ष्य है कि आगामी वर्षों में वो JNU में भी स्वतन्त्रता दिवस के अवसर पर उन्हीं के द्वारा बनाए जाने वाले बूँदी के लड्डू वितरित किए जाएँ। फ़िलहाल उनका पूरा ध्यान बंगाल में बूँदी के लड्डुओं की सप्लाय पूरी करने पर केंद्रित है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेपाल के सेना प्रमुख ने ली ‘मेड इन इंडिया’ कोरोना वैक्सीन, पड़ोसी देश को भारत ने फिर भेजी 10 लाख की खेप

नेपाल के सेना प्रमुख पूर्ण चंद्र थापा ने 'मेड इन इंडिया' कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लेकर भारत में बनी वैक्सीन की विश्वसनीयता को आगे बढ़ाया।

वरवरा राव को बेल की करें समीक्षा, जज शिंदे की भी हो जाँच: कम्युनिस्ट आतंक के मारे दलित-आदिवासियों की गुहार

नक्सल प्रभावित क्षेत्र के दलितों और आदिवासियों ने पत्र लिखकर वरवरा राव को जमानत देने पर सवाल उठाए हैं।

फुरफुरा शरीफ के लिए ममता बनर्जी ने खोला खजाना, चुनावी गणित बिगाड़ सकते हैं ‘भाईजान’

पश्चिम बंगाल में आदर्श अचार संहित लागू होने से कुछ ही घंटों पहले ममता बनर्जी की सरकार ने फुरफुरा शरीफ के विकास के लिए करोड़ों रुपए आवंटित किए।

‘हिंदू होना और जय श्रीराम कहना अपराध नहीं’: ऑक्सफोर्ड स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष रश्मि सामंत का इस्तीफा

हिंदू पहचान को लेकर निशाना बनाए जाने के कारण रश्मि सामंत ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।

बंगाल ‘लैंड जिहाद’: मटियाब्रुज में शेख मुमताज और उसके गुंडों का उत्पात, दलित परिवारों पर टूटा कहर

हिंदू परिवारों को पीटा गया। महिला, बुजुर्ग, बच्चे किसी के साथ कोई रहम नहीं। पीड़ित अस्पताल से भी लौट आए कि कहीं उनके घर पर कब्जा न हो जाए।

रुपए भर की सिगरेट के लिए जब नेहरू ने फूँकवा दिए थे हजारों: किस्सा भोपाल-इंदौर और हवाई जहाज का

अनगिनत तस्वीरों में नेहरू धूम्रपान करते हुए दिखाई देते हैं। धूम्रपान को स्टेटस सिंबल या 'कूल' दिखने का एक तरीका माना जा सकता है लेकिन...

प्रचलित ख़बरें

गोधरा में जलाए गए हिंदू स्वरा भास्कर को याद नहीं, अंसारी की तस्वीर पोस्ट कर लिखा- कभी नहीं भूलना

स्वरा भास्कर ने अंसारी की तस्वीर शेयर करते हुए इस बात को छिपा लिया कि यह आक्रोश गोधरा में कार सेवकों को जिंदा जलाए जाने से भड़का था।

‘हिंदू होना और जय श्रीराम कहना अपराध नहीं’: ऑक्सफोर्ड स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष रश्मि सामंत का इस्तीफा

हिंदू पहचान को लेकर निशाना बनाए जाने के कारण रश्मि सामंत ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।

आस मोहम्मद पर 50+ महिलाओं से रेप का आरोप, एक के पति ने तलवार से काट डाला: ‘आज तक’ ने ‘तांत्रिक’ बताया

गाजियाबाद के मुरादनगर थाना क्षेत्र स्थित गाँव जलालपुर में एक फ़क़ीर की हत्या के मामले में पुलिस ने नया खुलासा किया है।

नमाज पढ़ाने वालों को ₹15000, अजान देने वालों को ₹10000 प्रतिमाह सैलरी: बिहार की 1057 मस्जिदों को तोहफा

बिहार स्टेट सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड में पंजीकृत मस्जिदों के पेशइमामों (नमाज पढ़ाने वाला मौलवी) और मोअज्जिनों (अजान देने वालों) के लिए मानदेय का ऐलान।

‘मैंने ₹11000 खर्च किया… तुम इतना नहीं कर सकती’ – लड़की के मना करने पर अंग्रेजी पत्रकार ने किया रेप, FIR दर्ज

“मैंने होटल रूम के लिए 11000 रुपए चुकाए। इतनी दूर दिल्ली आया, 3 सालों में तुम्हारा सहयोग करता रहा, बिल भरता रहा, तुम मेरे लिए...”

‘अल्लाह से मिलूँगी’: आयशा ने हँसते हुए की आत्महत्या, वीडियो में कहा- ‘प्यार करती हूँ आरिफ से, परेशान थोड़े न करूँगी’

पिता का आरोप है कि पैसे देने के बावजूद लालची आरिफ बीवी को मायके छोड़ गया था। उन्होंने बताया कि आयशा ने ख़ुदकुशी की धमकी दी तो आरिफ ने 'मरना है तो जाकर मर जा' भी कहा था।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,201FansLike
81,845FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe