Sunday, July 5, 2020
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष वामपंथियों का पैतृक गाँव है चीन, अकबर का खजांची ठेले पर गिन रहा नोट:...

वामपंथियों का पैतृक गाँव है चीन, अकबर का खजांची ठेले पर गिन रहा नोट: लॉकडाउन में खुले 11 बड़े राज

लॉकडाउन के कारण पता चला कि निज़ामुद्दीन में सिर्फ़ फाया कुन, फाया कुन नहीं होता, बल्कि एक 'अमीर' की स्वघोषित समानांतर सत्ता भी चलती है और उस सत्ता से बात सीधे NSA लेवल पर होती है। पता तो यह भी चला कि भारत से लोग पढ़ने पाकिस्तान भी जाते हैं। क्या पढ़ने जाते हैं, इस बात का खुलासा होना चाहिए।

ये भी पढ़ें

कोरोना एकदम संत वाइरस है। बिल्कुल समाजवादी, सेक्युलर। सभी लोगों में बराबर फैलता है। यह किसी के धर्म, जाति, लिंग, विचारधारा या आर्थिक स्थिति के कारण भेदभाव किए बिना सबको हो सकता है। सेक्युलरिज़्म की तरह ही कोरोना पहले उतना ही संवेदनशील था, जितना लोगों ने उसे संवेदनशील समझा, जिसने नहीं समझा उसने नहीं समझा। कुछ लोग पहले दिन से गंभीर दिखे तो कुछ लोगों को लगा कोरोना किसी किताब से निकल कर आ गया है। कुछ ने तो यह घोषित कर दिया कि उनके तथाकथित आंदोलन को दबाने के लिए सरकार ने ही इस रोग का भ्रम फैलाया। 

शाहीन बाग़ उपद्रव
Go कोरोना Go कोरोना… लेकिन इस भीड़ की ट्रैफिक में फँसा कोरोना!

अगर देश मे आंदोलन समाप्त हो जाएँ तो आधे बुद्धिजीवी भूखे ही मर जाएँ, इसलिए उन्होंने इस आपात स्थिति में भी प्रयास किया कि आंदोलन चलता रहे। जब वामपंथी लोगों को पता चला कि कोरोना भारतीय मूल का नहीं है बल्कि उनके पैतृक गाँव चीन से आया है, जहाँ कम्युनिस्ट सरकार है, तो उनको बड़ा अपनापन सा लगा। इसीलिए भारत में विलुप्त होते वामपंथियों ने इसके विरुद्ध कोई आंदोलन वग़ैरह नहीं किया, अन्यथा भारत में कोई घटना बिना वामपंथियों के आंदोलन के कैसे हो सकती है।

लेकिन लॉकडाउन होना था, सो हो गया। हो सकता है विरोध, धरना, प्रदर्शन आदि का आयोजन बाद में कर लिया जाए। दूसरी तरह के जो लोग हैं, वो हैं सेक्युलर लोग। इनके अंदर दो ही चीज़ें होती हैं एक तो गुस्सा और दूसरा नखरा। इनके नखरे न उठाओ तो गुस्सा हो जाते हैं और जब इनको गुस्सा नहीं आ रहा होता तो इनके नखरे चालू रहते हैं। सरकारें इनका नखरा उठाना ही श्रेयस्कर समझती है, क्योंकि गुस्से में तो ये लोग कुछ भी कर सकते हैं।

सरकार अंदर से, और उस अंदर के अंदर से भी सेक्युलर ही है, लेकिन कोरोना भारी पड़ गया। जिन्हें गलती करने पर भी छूना राजनीति में पाप समझा जाता था, उन्हें बिना किसी भेदभाव के खुलकर धोया गया। इससे हमें पता चला कि सरकार चाहे तो क़ानून का राज भी इस देश में चल सकता है। संविधान में पर्याप्त प्रावधान हैं कि देश में अपराधी पकड़े जा सकते हैं। पहली बार पता चला कि सरकार चाहे तो हमारी पुलिस NYPD, FBI से कम नहीं है। एक वेब-सीरीज़ इन पर भी बनाई जा सकती है।

जनता की माँग पर दूरदर्शन ने रामायण का प्रसारण किया तो पता चला कि रामायण को लेकर जितना उत्साह लोगों में है, उतना किसी और कार्यक्रम को लेकर नहीं है। रामायण के पुनः प्रसारण ने दूरदर्शन के दिन बदलने का रास्ता दिखाया है। दूरदर्शन चलाने वाले कितना समझ पाते हैं, यह भविष्य बताएगा। दूरदर्शन पर भूतकाल से वर्तमान में आए कार्यक्रम वास्तव में पारिवारिक मनोरंजन के लिए स्वस्थ और स्वच्छ हैं। 

रामायण वर्ल्ड रिकॉर्ड वामपंथी
रामायण का वर्ल्ड रिकॉर्ड पच नहीं रहा वामपंथियों को!

पहली बार पता चला कि बादशाह अकबर के खजांची आजकल संतरे बेच रहे हैं, उनको अकबर के जमाने से नोट गिनने की आदत थी और संतरे गिनते समय भी वी वैसे ही गिनती करते हैं जैसे नोट। बैंक वाले अलग ही परेशन हो गए, पहली बार पता चला कि अगर सरकार खाते में पाँच सौ रुपया डाल दे तो लाल किले और ताजमहल के मालिक-मलकाइन भी लाइन में लगे दिख जाते हैं।

लॉकडाउन के कारण एक और बात पता चली कि निज़ामुद्दीन में सिर्फ़ फाया कुन, फाया कुन नहीं होता, बल्कि एक ‘अमीर’ की स्वघोषित समानांतर सत्ता भी चलती है और उस सत्ता से बात सीधे NSA लेवल पर होती है। आश्चर्य तो तब हुआ, जब पता चला कि इस सत्ता के राजदूत देश के कोने-कोने में फैले हुए हैं, और तो और विदेशों के भी राजदूत विशेष विषयों पर चर्चा करने सीधे यहीं पहुँचते हैं। सरकार को खबर हो या न हो, जनता को खबर पहली बार लगी कि ऐसा भी कुछ होता है।

कुछ नए शब्द सीखने को मिले, मरकज, तबलीगी, जमात। सरकार ने भी इनके लिए नए शब्द गढ़ दिया – सिंगल सोर्स। पहली बार ऐसा देखने को मिला कि बीमार भाग रहे हैं और डॉक्टर भी इलाज़ करने के लिए उनके पीछे-पीछे भाग रहे हैं। सरकार मुफ्त इलाज करना चाहती है और लोग करवाना नहीं चाहते। किंचित उन्हें लगा हो कि यह सरकार की कोई संजय गाँधी “कनेक्शन कटवाओ रेडियो पाओ” योजना है, इसलिए भाग रहे हों। या फिर लोगों ने इसे ऐसा रोग समझ लिया, जिसे बताने में लज्जा आती हो और लोग रोग को छुपा कर रखने का प्रयास करने लगे।

लेकिन स्वास्थ्यकर्मियों पर हुए पथराव को कोई नहीं समझ पाया। तरह-तरह के मरीज़ सामने आए। कुछ अमानवीय थे – इलाज करने वालों की कुटाई कर डाली। वहीं कुछ मजदूर ऐसे थे कि जहाँ रहे, वहाँ की रंगाई-पुताई कर डाली। कहीं एक मजदूर पैदल अपने गाँव को निकला और भूख से चल बसा और कहीं सरकारी दामाद बने मरीज खाने को नट बोल्ट माँगते दिखे। जिस तरह से हर एक घर, हर एक आदमी का ध्यान रखा गया, मरीजों और उनके संपर्क में आए लोगों को ट्रैक किया गया, उससे यह भी पता चला कि सरकार का तंत्र कितना सशक्त है। लेकिन दूसरी तरफ पालघर की घटना ने यह आइना भी दिखाया कि देश में छोटे-छोटे पाकिस्तान ही नहीं, छोटे-छोटे अबूझमाड़ भी फल-फूल रहे हैं। 

कोरोना-इंदौर
इंदौर में कोरोना वायरस जाँच को लेकर जब डॉक्टरों की टीम पहुँची तो उन पर हमला कर दिया गया था।

‘संकट के समय में राजनीति मत करें’ कहते हुए कुछ राजनेता राजनीति करते रहे। पहली बार पता चला कि केन्द्र सरकार के पास इतने अधिकार तो हैं कि पाकिस्तान में घुस सकती है। लेकिन इतने अधिकार नही हैं कि पश्चिम बंगाल मे घुस सके। पता तो यह भी चला कि भारत से लोग पढ़ने पाकिस्तान भी जाते हैं। क्या पढ़ने जाते हैं, इस बात का खुलासा होना चाहिए। दुनिया में कहीं भी पढ़ने चले जाओ लेकिन पाकिस्तान के पास ऐसा कौन सा पाठ्यक्रम है, जिसके लिए लोग वहाँ चले जाते हैं? इसके बाद कुछ और बड़े वाले लोग पढ़ने के लिए बांग्लादेश भी गए थे। ये और ग़ज़ब की बात थी। लॉकडाउन न हुआ होता तो पता ही नहीं चलता। 

ममता बनर्जी कोरोना
ममता बनर्जी की सरकार में ‘ममता’ कहाँ?

यह भी पता चला कि लोग जितनी खरीददारी करते हैं, उतनी खरीददारी की आवश्यकता वास्तव में है नहीं। लोगों की आवश्यकता अब भी रोटी और मकान हैं। जब घर में ही बैठे रहना है तो आदमी कच्छे बनियान में भी जीवन निकाल सकता है। इसलिए कपड़ा प्राथमिकता नहीं है। अदालत में वकील हों तो बात अलग है। दवा ज़रूरी है लेकिन जितनी माँग लोगों ने सरकार से दारू की की, दवा की नहीं की। इससे लोगों की प्राथमिकताओं का पता चलता है।  

आईटी सेक्टर ने बिना समय व्यर्थ किए घर से काम करने को सामान्य मान लिया। यह संतोष की बात रही कि देश में कई क्षेत्र ऐसे थे, जिनका काम नहीं रुका। बहुत से सरकारी दफ़्तर भी काम करते रहे। जब भीड़ शहरों से गाँवों की ओर भागी तब डर था कि कहीं कोरोना देहात में न पहुँच जाए, लेकिन गाँवों ने संभाल लिया। लोगों को एक बार फिर यह अहसास हुआ कि गाँव अधिक सुरक्षित और संपन्न हैं, हमारे गाँव इतने सक्षम हैं कि पूरे देश को घर बिठा कर खिला सकते हैं।

लॉकडाउन भारत भविष्य
मास्क पहनो, सुरक्षा-स्वास्थ्य का ध्यान रखो और काम करो: कुछ ऐसी ही होगी जिंदगी!

मोबाइल बेचकर रोटी खिलाने के दिन हमारे देश को नहीं देखने पड़ेंगे। अब लॉकडाउन कई क्षेत्रों में खुलने वाला है, जीवन पुनः पटरी पर उतरेगा। लेकिन यह अंत नहीं है, अभी कोरोना समाप्त नहीं हुआ है। सरकार अपने स्तर पर लड़ चुकी है, अब लड़ाई में लोगों को प्रत्यक्ष उतरना है। अगले दो से तीन महीने आसान नहीं होने वाले। बस उत्सवधर्मी संस्कृति के संवाहकों से इतनी ही अपेक्षा है कि लॉकडाउन में ढील मिलते ही कोरोना पर विजय का उत्सव न मनाने लगें।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

जाकिर नाइक की तारीफ वाला महेश भट्ट का वीडियो वायरल, भगोड़े इस्लामी प्रचारक को बताया था- गौरव, बेशकीमती खजाना

फ़िल्म सड़क-2 की रिलीज डेट आने के बाद सोशल मीडिया में फिल्म डायरेक्टर महेश भट्ट का एक वीडियो वायरल हो रहा है।

हॉस्पिटल से ₹4.21 लाख का बिल, इंश्योरेंस कंपनी ने चुकाए सिर्फ ₹1.2 लाख: मनोज इलाज की जगह ‘कैद’

मनोज कोठारी पर यह परेशानी अकेले नहीं आई। उनके परिवार के 2 और लोग कोरोना संक्रमित हैं। दोनों का इलाज भी इसी हॉस्पिटल में। उनके बिल को लेकर...

CARA को बनाया ईसाई मिशनरियों का अड्डा, विदेश भेजे बच्चे: दीपक कुमार को स्मृति ईरानी ने दिखाया बाहर का रास्ता

CARA सीईओ रहते दीपक कुमार ने बच्चों के एडॉप्शन प्रक्रिया में धाँधली की। ईसाई मिशनरियों से साँठगाँठ कर अपने लोगों की नियुक्तियाँ की।

नक्सलियों की तरह DSP का काटा सर-पाँव, सभी 8 लाशों को चौराहे पर जलाने का था प्लान: विकास दुबे की दरिंदगी

विकास दुबे और उसके साथी बदमाशों ने माओवादियों की तरह पुलिस पर हमला किया था। लगभग 60 लोग थे। जिस तरह से उन लोगों ने...

बकरीद के पहले बकरे से प्यार वाले पोस्टर पर बवाल: मौलवियों की आपत्ति, लखनऊ में हटाना पड़ा पोस्टर

"मैं जीव हूँ मांस नहीं, मेरे प्रति नज़रिया बदलें, वीगन बनें" - इस्लामी कट्टरपंथियों को अब पोस्टर से भी दिक्कत। जबकि इसमें कहीं भी बकरीद या...

उनकी ही संतानें थी कौरव और पांडव: जानिए कौन हैं कृष्ण द्वैपायन, जिनका जन्मदिन बन गया ‘गुरु पूर्णिमा’

वो कौरवों और पांडवों के पितामह थे। महाभारत में उनकी ही संतानों ने युद्ध किया। वो भीष्म के भाई थे। कृष्ण द्वैपायन ने ही वेदों का विभाजन किया। जानिए कौन थे वो?

प्रचलित ख़बरें

जातिवाद के लिए मनुस्मृति को दोष देना, हिरोशिमा बमबारी के लिए आइंस्टाइन को जिम्मेदार बताने जैसा

महर्षि मनु हर रचनाकार की तरह अपनी मनुस्मृति के माध्यम से जीवित हैं, किंतु दुर्भाग्य से रामायण-महाभारत-पुराण आदि की तरह मनुस्मृति भी बेशुमार प्रक्षेपों का शिकार हुई है।

गणित शिक्षक रियाज नायकू की मौत से हुआ भयावह नुकसान, अनुराग कश्यप भूले गणित

यूनेस्को ने अनुराग कश्यप की गणित को विश्व की बेस्ट गणित घोषित कर दिया है और कहा है कि फासिज़्म और पैट्रीआर्की के समूल विनाश से पहले ही इसे विश्व धरोहर में सूचीबद्द किया जाएगा।

‘…कभी नहीं मानेंगे कि हिन्दू खराब हैं’ – जब मानेकशॉ के कदमों में 5 Pak फौजियों के अब्बू ने रख दी थी अपनी पगड़ी

"साहब, आपने हम सबको बचा लिया। हम ये कभी नहीं मान सकते कि हिन्दू ख़राब होते हैं।" - सैम मानेकशॉ की पाकिस्तान यात्रा से जुड़ा एक किस्सा।

काफिरों को देश से निकालेंगे, हिन्दुओं की लड़कियों को उठा कर ले जाएँगे: दिल्ली दंगों की चार्ज शीट में चश्मदीद

भीड़ में शामिल सभी सभी दंगाई हिंदुओं के खिलाफ नारे लगा रहे और कह रहे थे कि इन काफिरों को देश से निकाल देंगे, मारेंगे और हिंदुओं की लड़कियों को.......

इजरायल ने बर्बाद किया ईरानी परमाणु ठिकाना: घातक F-35 विमानों ने मिसाइल अड्डे पर ग‍िराए बम

इजरायल ने जोरदार साइबर हमला करके ईरान के परमाणु ठिकानों में दो विस्‍फोट करा दिए। इनमें से एक यूरेनियम संवर्धन केंद्र है और दूसरा मिसाइल निर्माण केंद्र।

नेपाल के कोने-कोने में होऊ यांगी की घुसपैठ, सेक्स टेप की चर्चा के बीच आज जा सकती है PM ओली की कुर्सी

हनीट्रैप में नेपाल के पीएम ओली के फँसे होने की अफवाहों के बीच उनकी कुर्सी बचाने के लिए चीन और पाकिस्तान सक्रिय हैं। हालॉंकि कुर्सी बचने के आसार कम बताए जा रहे हैं।

जाकिर नाइक की तारीफ वाला महेश भट्ट का वीडियो वायरल, भगोड़े इस्लामी प्रचारक को बताया था- गौरव, बेशकीमती खजाना

फ़िल्म सड़क-2 की रिलीज डेट आने के बाद सोशल मीडिया में फिल्म डायरेक्टर महेश भट्ट का एक वीडियो वायरल हो रहा है।

हॉस्पिटल से ₹4.21 लाख का बिल, इंश्योरेंस कंपनी ने चुकाए सिर्फ ₹1.2 लाख: मनोज इलाज की जगह ‘कैद’

मनोज कोठारी पर यह परेशानी अकेले नहीं आई। उनके परिवार के 2 और लोग कोरोना संक्रमित हैं। दोनों का इलाज भी इसी हॉस्पिटल में। उनके बिल को लेकर...

1 दिन के मॉंगे ₹1.15 लाख, बना रखा है बंधक: कोरोना संक्रमित डॉक्टर ने निजी अस्पताल पर लगाए आरोप

हैदराबाद में एक संक्रमित महिला डॉक्टर ने अस्पताल पर एक दिन के 1.15 लाख रुपए मॉंगने और बंधक बनाने का आरोप लगाया है।

उत्तराखंड: रात में 15 साल की बच्ची को घर से उठाया, जुनैद और सुहैब ने किया दुष्कर्म

रेप की यह घटना उत्तराखंड के लक्सर की है। आरोपित एक दारोगा के सगे भाई बताए जा रहे हैं। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

उस रात विकास दुबे के घर दबिश देने गई पुलिस के साथ क्या-क्या हुआ: घायल SO ने सब कुछ बताया

बताया जा रहा है कि विकास दुबे भेष बदलने में माहिर है और अपने पास मोबाइल फोन नहीं रखता। राजस्थान के एक नेता के साथ उसके बेहद अच्छे संबंध की भी बात कही जा रही है।

अपने रुख पर कायम प्रचंड, जनता भी आक्रोशित: भारत विरोधी एजेंडे से फँसे नेपाल के चीनपरस्त PM ओली

नेपाल के PM ओली ने चीन के इशारे पर नाचते हुए भारत-विरोधी बयान तो दे दिया लेकिन अब उनके साथी नेताओं के कारण उनकी अपनी कुर्सी जाने ही वाली है।

काली नागिन के काटने से जैसे मौत होती है उसी तरह निर्मला सीतारमण के कारण लोग मर रहे: TMC सांसद कल्याण बनर्जी

टीएमसी नेता कल्याण बनर्जी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को लेकर विवादित बयान दिया है। उनकी तुलना 'काली नागिन' से की है।

‘अल्लाह ने अपने बच्चों को तनहा नहीं छोड़ा’: श्रीकृष्ण मंदिर में मालिक ने की तोड़फोड़, ‘हीरो’ बता रहे पाकिस्तानी

पाकिस्तान के स्थानीय मुसलमानों ने इस्लामाबाद में बन रहे श्रीकृष्ण मंदिर में तोड़फोड़ मचाने वाले मलिक को एक 'नायक' के रूप में पेश किया है।

रोती-बिलखती रही अम्मी, आतंकी बेटे ने नहीं किया सरेंडर, सुरक्षा बलों पर करता रहा फायरिंग, मारा गया

कुलगाम में ढेर किए गए आतंकी से उसकी अम्मी सरेंडर करने की गुहार लगाती रही, लेकिन वह तैयार नहीं हुआ।

CARA को बनाया ईसाई मिशनरियों का अड्डा, विदेश भेजे बच्चे: दीपक कुमार को स्मृति ईरानी ने दिखाया बाहर का रास्ता

CARA सीईओ रहते दीपक कुमार ने बच्चों के एडॉप्शन प्रक्रिया में धाँधली की। ईसाई मिशनरियों से साँठगाँठ कर अपने लोगों की नियुक्तियाँ की।

हमसे जुड़ें

234,684FansLike
63,120FollowersFollow
269,000SubscribersSubscribe