Friday, June 18, 2021
Home संपादक की पसंद देशद्रोह क़ानून: थूक कर चाटने का नाम है कपिल सिब्बल

देशद्रोह क़ानून: थूक कर चाटने का नाम है कपिल सिब्बल

येक पे रहना - या घोड़ा बोलो या चतुर बोलो - देशद्रोह मामले में ई काला कोट गड़बड़ बोलता जी - 7 साल में पलट जाता जी!

महान गीतकार सिब्बल के बोल

2016 की एक सुपर डुपर फ्लॉप फ़िल्म है- शोरगुल। ₹1 करोड़ की कमाई को भी तरस गई इस फ़िल्म के निर्माण के दौरान कपिल सिब्बल से इसके गाने लिखने का अनुरोध किया गया। खाली बैठे बेरोज़गार सिब्बल के पास जब यह प्रस्ताव आया, तब वो अपने काले कोट के साथ घर की एक खूँटी से टंगे हुए थे। चूँकि काम-धाम तो कोई था नहीं, कॉन्ग्रेस की सत्ता जा चुकी थी, अवॉर्ड वापसी का दौर भी जा चुका था और भारतीय राजनीति के साथ-साथ उनके घर में भी उनके लायक ऐसा कोई कार्य नहीं बचा था, तो उन्होंने ये प्रस्ताव स्वीकार कर लिया। नरेंद्र मोदी रोज़गार गारंटी योजना के अंतर्गत भी वह अपने साप्ताहिक अवकाश पर थे। ऐसे में, मोदी के बारे में सोचते-सोचते कपिल सिब्बल ने गाने के बोल कुछ यूं लिखे-

तेरे बिना जी ना लगे, नजरों में भी तू ही दिखे…

कपिल सिब्बल के लिखे ये बोल आज भी उन पर फिट बैठते हैं। नरेंद्र मोदी के बिना उनका दिल नहीं लगता क्योंकि जब तक मोदी से जुड़ा कोई मुद्दा हाथ न आए, अपने काले कोट के साथ खूँटी पर टंगे होने के अलावे उनके पास कोई चारा नहीं बचता है। और उनकी नजरों में तो लगातार मोदी हैं ही, क्योंकि उनकी घड़ियाँ हमेशा इसी इन्तजार में बीतती हैं कि काश कोई ऐसा मुद्दा हाथ आ जाए, जिस पर खड़े-खड़े कुछ भी ABCD बोल कर 10 जनपथ की वफ़ादारी साबित कर सकें।

एक दशक पहले थूका, अब चाटा

ताजा मामला सिब्बल के थूक कर चाटने जैसा है। इस मामले में वो प्रशांत भूषण, योगेंद्र यादव जैसे महारथियों से सीधी टक्कर ले रहे हैं। उन्होंने इस बार कुछ अलग करने की सोच रखी है। इसी क्रम में सिब्बल ने ख़ुद को मीडिया के सामने खड़ा पाया। ये कॉन्ग्रेस नेताओं की विशेषता है। जैसे पीकू फिल्म में अमिताभ बच्चन किसी भी बात को पेट और कब्ज़ से जोड़ देते हैं, ठीक वैसे ही, कॉन्ग्रेस के नेतागण भी अपने घर में बिल्ली द्वारा फोड़े गए छीके के लिए भी मोदी को ही दोष देते हैं। बीवी से साधारण झगड़े के बाद भी वे खुद को कैमरे के सामने खड़ा हो कर मोदी को गाली देते हुए पाते हैं।

कॉन्ग्रेस के नेता कैमरे के सामने आते हैं या फिर कैमरा उनके पास आ जाता है- यह भी एक विवादित तथ्य है। भाजपा नेताओं की दिक्कत यह है कि कल को अगर कॉन्ग्रेस का कोई नेता यह बोल दे कि मोदीजी ने उनके घर की खिड़की का काँच तोड़ दिया है- तो भी मीडिया उसे इतना हाईलाइट करता है कि 10 भाजपा नेताओं को इसे झूठा साबित करने के लिए सबूतों के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस करने आना पड़ता है।

राम मंदिर मुद्दे पर सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड के वकील सिब्बल और उनके बाकी के प्रतिद्वंदियों के बीच अंतर यह है कि बाकी आज थूकते हैं तो कल चाट लेते हैं, कपिल बाबू थोड़ा समय लेते हैं, लेकिन चाटते जरूर हैं। जैसे कि प्रशांत भूषण ने पहले आलोक वर्मा का विरोध किया और बाद में समर्थन में उतर आए। बाकी लोग इतना ज्यादा गैप नहीं रखते। कपिल सिब्बल ने 2011-12 में थूका और उस थूक को भलीभाँति सड़ाया और सात सालों बाद उसे चाट लिया। ताजा ख़बरों के अनुसार प्रशांत भूषण ने भी यह बयान ज़ारी कर दिया है कि सिब्बल इस थूक कर चाटने वाली इंडस्ट्री के अगले युवा सुपरस्टार हैं।

कार्टून बनाने पर सिब्बल के क़ानून के तहत जेल

असीम त्रिवेदी याद होंगे आपको। कॉन्ग्रेस के एक से एक भ्रष्टाचार के मामलों पर उन्होंने कई कार्टून बनाए थे। कॉन्ग्रेस नेताओं को ‘कार्टून’ हमेशा से पसंद नहीं रहे हैं, सिवाय एक के जिसका वो हुकूम बजाते हैं। ऐसे में त्रिवेदी के इस कृत्य को दिल पर लेते हुए उस समय देशद्रोह सहित तीन चार्ज लगा दिए गए। इसमें कपिल सिब्बल या कॉन्ग्रेस नेताओं की गलती नहीं है क्योंकि उनके लिए उनका देश, राज्य, जिला और पंचायत- सब उनकी पार्टी ही है और एक ही परिवार दशकों से वहाँ का प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, डीएम और मुखिया- सब है। आलम यह है कि कभी-कभी वो अपने नेताओं के असली फोटो को भी कार्टून समझ कर देशद्रोह के चार्ज ठोक दिया करते थे।

असीम त्रिवेदी की वेबसाइट को भी सिब्बल के क़ानून का प्रयोग करते हुए बंद कर दिया गया था। इसके अलावा कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता पूरे अन्ना हज़ारे आंदोलन, जिनसे असीम जुड़े थे, को देशद्रोह के तहत घसीटने को आतुर थे। आज अगर सिब्बल का क़ानून होता तो शायद वह ख़ुद भी जेल की हवा खा रहे होते क्योंकि कई लोग उनके चेहरे से ही ऑफेण्डेड हैं।

IT से IT तक का सफ़र

तत्कालीन IT मिनिस्टर कपिल सिब्बल ने 2010 में एक क़ानून (IT एक्ट, सेक्शन 66A) बनवाया, जिसमें इंटरनेट पर पोस्ट किए गए किसी भी कंटेंट से अगर कोई नेता ‘ऑफेंड’ हो जाता है, तो पुलिस उस पोस्टकर्ता को सलाख़ों के पीछे भेज सकती है। सालों तक इस क़ानून के खूब दुरुपयोग हुए लेकिन सिब्बल मिर्ज़ापुर के उस ‘*#@वाले चचा’ की तरह नाचते रहे। कुछ लोगों ने तो यहाँ तक दावा किया कि ममता बनर्जी ने एक बार खुद की असली फोटो को ही कार्टून समझ लिया था और इसे पोस्ट करने वाले बेचारे तृणमूल कार्यकर्ता को जेल जाना पड़ा था।

पहले सिब्बल का नाता IT डिपार्टमेंट से था, आज भी उनका नाता IT से ही जुड़ा हुआ है। वो अलग बात है कि वो IT इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी थी और ये वाली IT इनकम टैक्स है। सिब्बल के इस IT से IT तक के सफ़र में फ़र्क सिर्फ इतना है कि उस वाले IT में वो अकेले थे जबकि इस वाली IT में उनका पूरा परिवार भी शामिल है।

जब सिब्बल से 66A के बारे में सवाल पूछा गया था तो उन्होंने कहा था कि मैंने नहीं, संसद ने ये क़ानून बनाया है। उसके बाद से पत्रकार कैमरा और माइक लिए ‘संसद भवन’ की प्रतिक्रया का इंतज़ार कर रहे हैं लेकिन संसद भवन ने पत्रकारों से बातचीत करने से साफ़ इनकार कर दिया है। वैसे कॉन्ग्रेस का निर्जीव चीजों पर ठीकरा फोड़ने का पुराना इतिहास रहा है। दस सालों तक तो ऐसा समय चला था, जब सरकार के अच्छे कार्यों का श्रेय 10 जनपथ में बैठीं मोहतरमा के पास जाता था और जहाँ भी सरकार निष्फल साबित होती थी- उस मुद्दे का ठीकरा एक न बोलने वाले ‘जीव’ पर फोड़ दिया जाता था।

ताज़ा ख़बरों के अनुसार 66A को सिब्बल का क़ानून कहने से उनकी अपनी ही पार्टी उनसे ऑफेंड हो गई है और उन पर सिडिशन का चार्ज ठोकने वाली है। कॉन्ग्रेस का कहना है कि जिस देशद्रोह का चार्ज लगा कर उसने 45 साल पहले ही उत्पल दत्त जैसे महान कलाकार को जेल में ठूँस दिया था, उसके साथ आजकल के लड़के सिब्बल का नाम कैसे जोड़ा सकता है! कॉन्ग्रेस का कहना है कि देशद्रोह का चार्ज लगा कर लोगों को जेल भेजने के पुरोधा तो हम हैं, सिब्बल तो बस उसके IT सेल का हेड रहा है।

येक पे रहना, या घोड़ा बोलो या चतुर बोलो

अब उसी सिब्बल ने नरेंद्र मोदी रोज़गार गारंटी योजना के तहत देशद्रोह वाले क़ानून को हटाने की वकालत की है। उन्होंने इसे अंग्रेजों का क़ानून बताया है। महान गीतकार ने ANI को बयान देते हुए कहा कि इस क़ानून को हटा देना चाहिए। उनका बयान जायज है क्योंकि अगर ऐसा नहीं होगा तो वो ‘हार्डिक’ जैसों को डिफेंड कैसे कर पाएंगे। वैसे भी कॉन्ग्रेस में राजद्रोह का मतलब है उनके आकाओं का विरोध, देश का नहीं।

देशद्रोह को अंग्रेजों का क़ानून बताने वाले सिब्बल ने 2012 के एक इंटरव्यू में IT एक्ट के सेक्शन 66A का बचाव करते हुए कहा था कि ये कानून सही है क्योंकि ये UK, USA जैसे देशों के क़ानून पर आधारित है और उन्होंने उन देशों से ‘सटीक शब्द’ उधार लिए हैं।

सिब्बल के इस क़ानून का ख़ूब दुरुपयोग हुआ। एक बार कुछ यूँ हुआ कि किसी ने सोनिया गाँधी के ख़िलाफ़ इंटरनेट पर कुछ पोस्ट कर दिया। इसके बाद घबराए सिब्बल ने माइक्रोसॉफ्ट, फेसबुक, गूगल सहित पूरे इंटरनेट जगत को तलब कर लिया। सोनिया के ख़िलाफ़ कुछ लिखना अपराध है। कॉन्ग्रेस सरकारों के अनगिनत भ्रष्टाचारों पर कार्टून बनाना अपराध है। लेकिन जब ‘हार्डिक’ जैसा कोई भटका हुआ युवा अपनी खोटी क्रांति शुरू करता है और उसमें 12 युवकों की मृत्यु हो जाती है, तब सिब्बल और उनका काला कोट- दोनों ही खूँटी से उतर आते हैं और अपने-आप को अदालत की दहलीज पर पाते हैं

12 हत्याओं पर बैठ कर अपनी राजनीतिक रोटी सेंकने वाले ‘हार्डिक’ के लिए पैरवी करने सुप्रीम कोर्ट जाते समय सिब्बल यह भूल जाते हैं कि इसी कोर्ट ने उनके मंत्रालय द्वारा बनाए गए IT एक्ट के सेक्शन 66A को 2015 में ख़त्म कर दिया था। अब इस बात पर सिब्बल टिप्पणी करते हुए अपने संसद वाले बयान की तरह यह बात भी कह सकते हैं: “हार्डिक को मैं नहीं, मेरी काली कोट डिफेंड कर रही है।” उनके इस बयान का अगर कोई नहीं तो गुरमेहर कौर तो जरूर समर्थन करेगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मोदी कैबिनेट में वरुण गाँधी की एंट्री के आसार, राजनाथ बोले- UP में 2022 का चुनाव योगी के नाम

मोदी सरकार में जल्द फेरबदल की अटकलें कई दिनों से लग रही है। 6 नाम सामने आए हैं जिन्हें जगह मिलने की बात कही जा रही है।

ताबीज की लड़ाई को दिया जय श्रीराम का रंग: गाजियाबाद केस की पूरी डिटेल, जुबैर से लेकर बौना सद्दाम तक की बात

गाजियाबाद में मुस्लिम बुजुर्ग के साथ हुई मारपीट की घटना में कब, क्या, कैसे हुआ। सब कुछ एक साथ।

टिकरी बॉर्डर पर शराब पिला जिंदा जलाया, शहीद बताने की साजिश: जातिसूचक शब्दों के साथ धमकी भी

जले हुए हालात में भी मुकेश ने बताया कि किसान आंदोलन में कृष्ण नामक एक व्यक्ति ने पहले शराब पिलाई और फिर उसे आग लगा दी।

‘अब मूत्रालय का भी फीता काट दो’: AAP का ‘स्पीडब्रेकर’ देख नेटिजन्स बोले- नारियल फोड़ने से धँस तो नहीं गया

AAP नेता शिवचरण गोयल ने स्पीडब्रेकर का सारा श्रेय मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को दिया। लेकिन नेटिजन्स ने पूछ दिए कुछ कठिन सवाल।

वैक्सीन पर बछड़े वाला प्रोपेगेंडा: कॉन्ग्रेस और ट्विटर में गिरने की होड़ या दोनों का ‘सीरम’ सेम

कोरोना वैक्सीन पर ताजा प्रोपेगेंडा से साफ है कि कॉन्ग्रेसी नेता झूठ फैलाने से बाज नहीं आएँगे। लेकिन उतना ही चिंताजनक इस विषय पर ट्विटर का आचरण भी है।

राजनीतिक आलोचना बर्दाश्त नहीं, ममता सरकार ने की बड़ी संख्या में सोशल मीडिया पोस्ट्स ब्लॉक करने की सिफारिश: सूत्र

राज्य प्रशासन के सूत्रों से पता चला है कि हाल ही में पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार ने बड़ी संख्या में सोशल मीडिया पोस्ट्स को ब्लॉक करने की सिफारिश की।

प्रचलित ख़बरें

BJP विरोध पर ₹100 करोड़, सरकार बनी तो आप होंगे CM: कॉन्ग्रेस-AAP का ऑफर महंत परमहंस दास ने खोला

राम मंदिर में अड़ंगा डालने की कोशिशों के बीच तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने एक बड़ा खुलासा किया है।

‘भारत से ज्यादा सुखी पाकिस्तान’: विदेशी लड़की ने किया ध्रुव राठी का फैक्ट-चेक, मिल रही गाली और धमकी, परिवार भी प्रताड़ित

साथ ही कैरोलिना गोस्वामी ने उन्होंने कहा कि ध्रुव राठी अपने वीडियो को अपने चैनल से डालें, ताकि जिन लोगों को उन्होंने गुमराह किया है उन्हें सच्चाई का पता चले।

‘चुपचाप मेरे बेटे की रखैल बन कर रह, इस्लाम कबूल कर’ – मृत्युंजय बन मुर्तजा ने फँसाया, उसके अम्मी-अब्बा ने धमकाया

मुर्तजा को धर्मान्तरण कानून-2020 के तहत गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित को कोर्ट में पेश करने के बाद उसे जेल भेज दिया गया है।

पल्लवी घोष ने गलती से तो नहीं खोल दी राहुल गाँधी की पोल? लोगों ने कहा- ‘तो इसलिए की थी बंगाल रैली रद्द’

जहाँ यूजर्स उन्हें सोनिया गाँधी को लेकर इतनी महत्तवपूर्ण जानकारी देने के लिए तंज भरे अंदाज में आभार दे रहे हैं। वहीं राहुल गाँधी को लेकर बताया जा रहा है कि कैसे उन्होंने बेवजह वाह-वाही लूट ली।

टिकरी बॉर्डर पर शराब पिला जिंदा जलाया, शहीद बताने की साजिश: जातिसूचक शब्दों के साथ धमकी भी

जले हुए हालात में भी मुकेश ने बताया कि किसान आंदोलन में कृष्ण नामक एक व्यक्ति ने पहले शराब पिलाई और फिर उसे आग लगा दी।

भाई की आँखें फोड़वा दी, बीवी 14वें बच्चे को जन्म देते मरी: मोहब्बत का दुश्मन था हिन्दू-मुस्लिम शादी पर प्रतिबंध लगाने वाला शाहजहाँ

माँ नूरजहाँ को निकाल बाहर किया। ससुर की आँखें फोड़वा डाली। बीवी 14वें बच्चे को जन्म देते हुए मरी। हिन्दुओं पर अत्याचार किए। आज वही व्यक्ति लिबरलों के लिए 'प्यार का मसीहा' है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,567FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe