Tuesday, April 13, 2021
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष कॉन्ग्रेस क्या तो बचाए... अपनी खोई हुई राजनीतिक जमीन, RaGa को या फिर इंदिरा...

कॉन्ग्रेस क्या तो बचाए… अपनी खोई हुई राजनीतिक जमीन, RaGa को या फिर इंदिरा गाँधी की नाक?

सवाल यह है कि इंदिरा की नाक यानी प्रियंका गाँधी तो सबको नजर आती हैं, लेकिन किसी को फ़िरोज गाँधी जैसा कोई क्यों नहीं याद आता है? क्या कॉन्ग्रेस अब राहुल गाँधी को भूल जाना चाहती है?

“वही दूरदर्शित, वही निष्ठा, वही इच्छाशक्ति…. इंदिरा इज़ बैक” यानी, इंदिरा वापस आ चुकी है। यह हम नहीं बल्कि आज के दैनिक भास्कर अखबार का पहला पन्ना कह रहा है। कहने वाले सज्जन मध्य प्रदेश कॉन्ग्रेस में पर्यावरण एवं लोकनिर्माण मंत्री सज्जन सिंह वर्मा हैं। सज्जन सिंह यह बातें किसी और के लिए नहीं बल्कि इंदिरा की ही पोती और उन्हीं की नाक के जैसे दिखने वाली प्रियंका गाँधी के लिए कह रहे हैं। वही प्रियंका गाँधी जो कुछ दिन पहले ट्विटर पर अकाउंट से आधी रात को दुर्गा सप्तशती के मन्त्र ‘ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडाय विच्चे’ को ट्वीट कर रहीं थीं।

प्रियंका गाँधी के जन्मदिन की सुबह दैनिक भास्कर अख़बार के पहले पन्ने पर ही इंदिरा गाँधी के साथ उनकी तुलना करते हुए कॉन्ग्रेस के नेता जी द्वारा लिखी गई प्रशंसा तो यही बता रही है कि ट्विटर पर आधी रात को किए गए उनके मन्त्र जाप का असर प्रियंका गाँधी पर जल्द ही होने वाला है। जन्मदिन तो आज स्वामी विवेकानंद का भी है लेकिन मंत्री जी की प्राथमिकताएँ तय हैं, उन्हें पहले इंदिरा गाँधी को इस वसुंधरा पर उतारना है, उसके बाद अन्य कामों पर नजर डाली जाएगी।

नवंबर में ही मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ का भी जन्मदिन था, लेकिन ख़ास बात यह रही कि पूरे गाँधी परिवार ने उन्हें बधाई सन्देश नहीं दिया था। हो सकता है सज्जन सिंह इसी आंतरिक कलह का फायदा उठाना चाह रहे हों।

लेकिन सवाल यह है कि किसी के जन्मदिन पर शुभकामना संदेशों से किसी को क्यों आपत्ति हो सकती है? वो भी तब जब राहुल गाँधी के कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष पद पर दोबारा नियुक्त होने की खबरें बाजार में चल रही हों। यह तो निश्चित है कि अपनी जमीन तलाश रही कॉन्ग्रेस और उसके नेता अब जल्दी ही किसी दिन इस वंशवाद में डूबी हुई पार्टी के पतन पर फूट पड़ेंगे। लेकिन कॉन्ग्रेस और उसके क्रियाकलापों पर सवाल उठाने पर जब शशि थरूर जैसे नेता को माफ़ी माँगने पर विवश होना पड़ता है तो फिर किसी और की क्या मजाल? बाकी सज्जन तो इंदिरा गाँधी को प्रसन्न करने में व्यस्त हैं ही।

सवाल यह है कि इंदिरा की नाक यानी प्रियंका गाँधी तो सबको नजर आती हैं, लेकिन किसी को फ़िरोज गाँधी जैसा कोई क्यों नहीं याद आता है? क्या कॉन्ग्रेस अब राहुल गाँधी को भूल जाना चाहती है। कॉन्ग्रेस के भीतर समय-समय पर प्रियंका गाँधी को मुख्य कमान सौंपे जाने की बातें उठती रहती हैं, लेकिन तब कॉन्ग्रेस नेता यह कहकर पल्ला झाड़ लेते हैं कि यह माँग बस कॉन्ग्रेस के छुटभइया नेता ही करते हैं। हालाँकि मणि शंकर अय्यर जैसे नेता भी प्रियंका गाँधी को कॉन्ग्रेस के भीतर मुख्य भूमिका में देखने की अपनी इच्छा कब की जाहिर कर चुके हैं। लेकिन मणि शंकर अय्यर को गंभीरता से लेता ही कौन है?

लोकसभा चुनाव 2019 के समय भी देखा गया था कि प्रियंका गाँधी ने शुरू में तो नरेंद्र मोदी के खिलाफ खूब हल्ला बोला लेकिन चुनाव के दौरान ही धीरे-धीरे कॉन्ग्रेस अपनी असलियत जानते हुए प्रियंका गाँधी को पीछे धकेलती गई। स्पष्ट था कि खुद कॉन्ग्रेस नहीं चाहती थी कि परिवारवाद की सर्कस के आखिरी जोकर को भी वो एक पहले से ही हारी हुई बाजी में उतार दें।

2019 के लोकसभा चुनाव में ही कॉन्ग्रेस की PR टीम से लेकर कॉन्ग्रेस का मीडिया गिरोह तक प्रियंका गाँधी के लिए मैदान बनाने लगा, इंदिरा 2.0 जैसे जुमले गढ़े गए। लेकिन, आखिर में नतीजा यह हुआ इंदिरा गाँधी के अवतरण में बाधा उत्पन्न हो गई और राहुल गाँधी के सर पर हार का ठीकरा फोड़ दिया गया। और राहुल गाँधी हमेशा की तरह ही हर हार के बाद फिर अज्ञातवास पर निकल गए।

अफवाहों का बाजार फिर से तेज है। राहुल गाँधी के राजनीतिक भविष्य से लेकर कॉन्ग्रेस की आगे की रणनीति अब तय होगी। इसी बीच प्रियंका गाँधी के जन्मदिन पर कॉन्ग्रेस नेताओं के उत्साह से भी कुछ रुझान आने शुरू हो गए हैं। कॉन्ग्रेस की हैसियत इस समय देश में वोट कटुआ पार्टी से अधिक कुछ नहीं है। उदाहरण के लिए अगर दिल्ली चुनाव को ही ले लें, तो कॉन्ग्रेस को इस चुनाव में कोई तीसरा कैंडिडेट तक मानने को राजी नहीं है। होना यह है कि कॉन्ग्रेस आगामी चुनावों में नोटा जैसा विकल्पों से भी पीछे खिसकने वाली है। अब कॉन्ग्रेस के सामने सबसे बड़ा प्रश्न यह है कि वो पहले क्या बचाए- अपनी खोई हुई राजनीति की जमीन या फिर इंदिरा गाँधी की नाक?

प्रियंका गाँधी के साथ UP कॉन्ग्रेस अध्यक्ष नाव से गंगा के रास्ते जा रहे थे रामघाट, लहरों में जा गिरे

प्रियंका गाँधी की खुली पोल-पट्टी, देखिए JNU हिंसा में घायल छात्र से कैसे मुँह मोड़ा

CAA पर ‘पॉलिटिक्स’ करने पहुँचीं प्रियंका गाँधी, आपस में ही लड़ गए कॉन्ग्रेसी: देखें Video

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मरकज से कुम्भ की तुलना पर CM तीरथ सिंह ने दिया ‘लिबरलों’ को करारा जवाब, कहा- एक हॉल और 16 घाट, इनकी तुलना कैसे?

हरिद्वार में चल रहे कुंभ की तुलना तबलीगी जमात के मरकज से करने वालों को मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने करारा जवाब दिया है।

यूपी पंचायत चुनाव लड़ रहे एक प्रत्याशी के घर से भारी मात्रा समोसे-जलेबी की जब्ती, दक्षिण भारत में छिड़ा घमासान

क्या ज़माना आ गया है। चुनाव के मौसम में छापे मारने पर समोसे और जलेबियाँ बरामद हो रही हैं! जब ज़माना अच्छा था और सब ख़ुशी से जीवनयापन करते थे तब चुनावी मौसम में पड़ने वाले छापे में शराब जैसे चुनावी पेय पदार्थ बरामद होते थे।

100 करोड़ की वसूली के मामले में अनिल देशमुख को CBI का समन, 14 अप्रैल को होगी ‘गहन पूछताछ’

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को 100 करोड़ रुपए की वसूली मामले में पूछताछ के लिए समन जारी किया है। उन्हें 14 अप्रैल को जाँच एजेंसी के सामने पेश होना पड़ेगा।

आंध्र या कर्नाटक… कहाँ पैदा हुए रामभक्त हनुमान? जन्म स्थान को लेकर जानें क्यों छिड़ा है नया विवाद

तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) द्वारा गठित एक विशेषज्ञ पैनल 21 अप्रैल को इस मामले पर अपनी रिपोर्ट सौंप सकता है। पैनल में वैदिक विद्वानों, पुरातत्वविदों और एक इसरो वैज्ञानिक भी शामिल हैं।

‘गुस्ताख-ए-नबी की इक सजा, सर तन से जुदा’: यति नरसिंहानंद के खिलाफ मुस्लिम बच्चों ने लगाए नारे, वीडियो वायरल

डासना देवी मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद के खिलाफ सोमवार को मुस्लिम बच्चों ने 'सर तन से जुदा' के नारे लगाए। पिछले हफ्ते आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्ला खान ने अपने ट्विटर अकाउंट पर महंत की गर्दन काट देने की बात की थी।

कुम्भ और तबलीगी जमात के बीच ओछी समानता दिखाने की लिबरलों ने की जी-तोड़ कोशिश, जानें क्यों ‘बकवास’ है ऐसी तुलना

हरिद्वार में चल रहे कुंभ की दुर्भावनापूर्ण इरादे के साथ सोशल मीडिया पर सेक्युलरों ने कुंभ तुलना निजामुद्दीन मरकज़ के तबलीगी जमात से की है। जबकि दोनों ही घटनाओं में मूलभूत अंतर है।

प्रचलित ख़बरें

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

बालाघाट में यति नरसिंहानंद के पोस्टर लगाए, अपशब्दों का इस्तेमाल: 4 की गिरफ्तारी पर भड़की ओवैसी की AIMIM

बालाघाट पुलिस ने यति नरसिंहानंद सरस्वती के खिलाफ पोस्टर लगाने के आरोप में मतीन अजहरी, कासिम खान, सोहेब खान और रजा खान को गिरफ्तार किया।

गुफरान ने 5 साल की दलित बच्ची का किया रेप, गला घोंट मार डाला: ‘बड़े सरकार की दरगाह’ पर परिवार के साथ आया था

गुफरान अपने परिवार के साथ 'बड़े सरकार की दरगाह' पर आया हुआ था। 30 वर्षीय आरोपित ने रेप के बाद गला घोंट कर बच्ची की हत्या की।

SHO अश्विनी की हत्या के लिए मस्जिद से जुटाई गई थी भीड़: बेटी की CBI जाँच की माँग, पत्नी ने कहा- सर्किल इंस्पेक्टर पर...

बिहार के किशनगंज जिला के नगर थाना प्रभारी अश्विनी कुमार की शनिवार को पश्चिम बंगाल में हत्या के मामले में उनकी बेटी ने इसे षड़यंत्र करार देते हुए सीबीआई जाँच की माँग की है। वहीं उनकी पत्नी ने सर्किल इंस्पेक्टर पर केस दर्ज करने की माँग की है।

कुरान की 26 आयतों को हटाने वाली याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज, वसीम रिजवी पर 50000 रुपए का जुर्माना

वसीम रिजवी ने सुप्रीम कोर्ट में कुरान की 26 आयतों को हटाने के संबंध में याचिका दाखिल की थी। इस याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,160FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe