Wednesday, May 22, 2024
Homeहास्य-व्यंग्य-कटाक्ष'यूपी-बि​हार के भइयों' से प्रियंका गाँधी ने माँगी माफी, कॉन्ग्रेस ऑफिस में लगवाया बोर्ड...

‘यूपी-बि​हार के भइयों’ से प्रियंका गाँधी ने माँगी माफी, कॉन्ग्रेस ऑफिस में लगवाया बोर्ड – ‘एक बिहारी, 100 पर भारी’

प्रियंका गाँधी ने रो-रो कर सबको चौंका दिया। दिल पर पंजा रख कर बताया कि पंजाब में जब बिहारियों का मजाक उड़ाया जा रहा था, उस वक्त वो दिल से रो रही थीं… बस चेहरे पर हँसी थी क्योंकि बहुत सारे कैमरा थे वहाँ।

प्रियंका गाँधी देश की बहुत बड़ी नेता हैं। ये जब बोलती हैं, हवा बदल जाती है। चलती हैं तो धूल उड़ते हैं। भाग्य है बिहार का, जो इतनी महान हस्ती यहाँ पधारीं। वरना ये अंतरराष्ट्रीय/राष्ट्रीय स्तर से नीचे के मसलों पर कम ही बोलती-दिखाई देती हैं।

प्रियंका गाँधी के कद का अंदाजा लगाना है तो ऐसे आँकिए – खुद कभी सांसद-विधायक का चुनाव तक नहीं लड़ीं… लेकिन कम ही सही, कई कॉन्ग्रेसी विधायक-सांसद-सीएम इनके आगे-पीछे घूमते पाए जाते हैं। इनके सामने सबकी घिग्घी बँधी रहती है।

बहुत भूमिका हो गई। अब डायरेक्ट चलते हैं एक्शन पर। एक्शन से समझिए प्रियंका गाँधी की शख्सियत को। बिहारियों के लिए क्या किया, यह भी समझने की जरूरत है।

प्रियंका गाँधी, गाँधी मैदान और माफी

पटना का गाँधी मैदान। लाखों की भीड़। सब प्रियंका गाँधी को सुनने धूप में खड़े। मंच पर आते ही जब हाथ उठाया तो लगा जैसे सलाम कर रही हैं। लोगों ने भी हाथ हिला कर बता दिया कि वो उन्हें देख चुके। इसके बाद प्रियंका ने सबसे पहला वाक्य कहा – “मुझे माफ कर दीजिए बिहारी भइए।” फिर अपनी माँ सोनिया गाँधी की तरह रोने लगीं। सन्नाटा छा गया।

बिहारी बड़े आत्मीय होते हैं। उन्हें बड़ा दुख हुआ। उनके नाम पर इतने बड़े नेता को रोना पड़ा। तभी प्रियंका ने शीला दीक्षित से लेकर राहुल गाँधी और दूसरे पार्टी के अरविंद केजरीवाल-ममता बनर्जी तक के नाम पर माफी माँग कर दूसरी बार सबको चौंका दिया। दिल पर पंजा रख कर यह भी बताया कि पंजाब में जब बिहारियों का मजाक उड़ाया जा रहा था, उस वक्त वो दिल से रो रही थीं… बस चेहरे पर हँसी थी क्योंकि बहुत सारे कैमरा थे वहाँ।

बिहार का पब्लिक अब तक पागल हो चुका था। दबंग नेताओं की दबंगई सहने, चोर-भ्रष्टाचारियों की लूट-खसोट सुनने-देखने वाली जनता के पल्ले ये नहीं पड़ रहा था। शक्तिशाली मगध साम्राज्य, भगवान बुद्ध, राजा जनक और सीतामैया से जुड़ी धरती के लोग ऐसे रोने-घिघियाने वाले नेता से कनेक्ट नहीं कर पा रहे थे। भाषण खत्म होते-होते गाँधी मैदान खाली हो चुका था।

बिहारी एक प्रजाति

“गंगा मैया, सम्राट अशोक, लिची-मालदह आम, बोधगया, बिजली-सड़क-पानी… ई सब पर कुछ नै बोली। एकदम बुड़बक है। माफी माँगने लगी। ऊ भी बिहारी के नाम पर। ‘अबे चल ना बिहारी… ओए सा# बिहारी’… ई सब तो हम लोग हर दिन सुनते हैं। इस पर काहे के लिए माफी माँगी?” – रोहनवा ने अपनी बात रखी।

मंगरुआ ने दार्शनिक अंदाज में जवाब दिया – “दिल जीतना चाह रही थी। उसको का पता है कि हम असली गाँधी के चंपारण वाली धरती से हैं। चारा चोर-भ्रष्टाचारी ललुआ तक को हम माफ कर देते हैं। उसकी पार्टी और बेटा ऐसे थोड़े ना सबसे बड़का दल बन गया है बिहार में। नेता में हनक होना चाहिए, डरपोक नेता से हुआ है कुछ आज तक!”

“बिहारी नाम की कोई चीज है ही नहीं, यह एक प्रजाति है।” अनिल ने मानो पत्थर दे मारा हो प्रियंका गाँधी को। तर्क को आगे बढ़ाते हुए वो कहता है – “देश-दुनिया में कहीं भी यह प्रजाति पाई जा सकती है। इसकी अपनी कोई पहचान नहीं होती। रिक्शे-ठेले वाले से लेकर मंत्री-संतरी तक कोई भी बिहारी हो सकता है। दिल्ली हो या कनाडा… यह प्रजाति कभी भी सड़क जाम नहीं करती। नेता इस प्रजाति की खूबियाँ जानते हैं, इसलिए इनके सामने कभी हँसते हैं, कभी रोते हैं। सबसे कमाल की बात यह कि बिहारी प्रजाति भी नेताओं को जानती है… उनकी जाति देख कर बटन दबा देती है।”

बिहार में कॉन्ग्रेस की सरकार?

लखनऊ जीत का सपना प्रियंका गाँधी के लिए अधूरा भले रह गया हो लेकिन वो लड़ सकती हैं, क्योंकि वो लड़की हैं। 2025 के बिहार चुनाव में वो लड़ रही हैं, रो रही हैं। कॉन्ग्रेस ऑफिस के बाहर बोर्ड भी लगा रखा है – ‘एक बिहारी, 100 पर भारी’

पेपर वाले ने ‘बिहार में बन गई कॉन्ग्रेस की सरकार’ बोल कर इतनी जोर से अखबार फेंका कि नींद खुल गई। तब से हँसे जा रहा हूँ।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

चंदन कुमार
चंदन कुमारhttps://hindi.opindia.com/
परफेक्शन को कैसे इम्प्रूव करें :)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत की ज्ञानकीर्ति का मुकुटमणि है कश्मीर का शंकराचार्य मंदिर: ईसाई-इस्लाम के आगामी प्रभाव से परिचित थे आचार्य शंकर, जानिए कैसे एक सूत्र में...

वैदिक ऋषियों की वेदोक्त समदृष्टि केवल उपदेश मात्र नही; अपितु यह उनका अनुभव जन्य साक्षात्कृत् ज्ञान है। जो सभी काल, स्थान, परिस्थिति में अनुकरणीय एवं अकाट्य हैं।

फर्जी वोटिंग करते पकड़े गए मोहम्मद सनाउल्लाह और 3 खातूनें, भीड़ ने थाने पर हमला कर सबको छुड़ाया: बिहार के जाले की घटना, 20...

फर्जी वोटिंग में पकड़े गए लोगों को छुड़ाने के लिए 130-140 लोगों ने थाने पर हमला कर दिया और पुलिस पदाधिकारियों के साथ दुर्व्यवहार करते हुए चारों को पुलिस की अभिरक्षा से छुड़ा लिया

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -