Tuesday, May 18, 2021
Home विविध विषय धर्म और संस्कृति BHU में फिरोज का विरोध जारी: रुद्राभिषेक के बाद काशी विद्वत परिषद ने किया...

BHU में फिरोज का विरोध जारी: रुद्राभिषेक के बाद काशी विद्वत परिषद ने किया समर्थन, आज अस्सी पर सभा

"देखिए जो हमारे संस्कार है जिसके लिए हम लड़ रहे हैं वो हमने प्रदर्शित किया और जो उनके (राहुल कँवल) संस्कार है वो उन्होंने, देश ने उस व्यवहार को देखा। उनका JNU और SVDV के छात्रों से व्यवहार का अंतर भी मीडिया में आया जिससे बाद काफी लोगों ने उन्हें लताड़ा और हमें उसका भी फायदा मिला।"

काशी हिन्दू विश्विद्यालय के संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय के छात्रों द्वारा डॉ. फिरोज खान की नियुक्ति का विरोध सतत जारी है। छात्रों ने बेशक प्रशासन के 10 दिन की मोहलत माँगने के बाद अपना धरना समाप्त कर दिया हो लेकिन उनका आंदोलन थमा नहीं है बल्कि छात्र हर दिन दोगुनी ऊर्जा के साथ अपने विरोध को मजबूती प्रदान कर रहे हैं।

पिछले तीन दिनों का व्यौरा आपको संक्षेप में देते हुए आपको ऑपइंडिया इस बात से अवगत करा रही है कि किस तरह से छात्रों के आंदोलन को न सिर्फ BHU के पूर्व और वर्तमान प्रोफेसरों का, बल्कि काशी के अन्य आचार्यों-धर्माचार्यों, काशी विद्वत परिषद, महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ के कुलपति सहित, बनारस के सभी सुधी जनों का भारी सहयोग मिल रहा है। BHU के 50 से अधिक प्रोफेसरों ने छात्रों के समर्थन में, और फिरोज खान की नियुक्ति को रद्द करने के लिए विश्वविद्यालय के विजिटर महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को सम्बोधित करते हुए पत्र लिखकर उनसे आवश्यक कार्यवाही का अनुरोध किया। जिसका संज्ञान BHU की कार्यकारिणी ने भी लिया है और 7 दिसम्बर को कार्यकारिणी की मीटिंग बुलाई गई है।

बता दें कि ऑपइंडिया की रिपोर्टिंग के बाद मीडिया के एक बड़े धड़े द्वारा फैलाए भ्रम पर काशी और BHU के तमाम लोगों ने आभार व्यक्त किया। महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ के कुलपति (VC) ने एक सभा में मीडिया के झूठ पर तंज कसते हुए यहाँ तक कहा, “आप जज क्यों बन जाते हो, ‘संस्कृत विभाग और मुस्लिम विरोध लिखकर’ पूरे देश को गुमराह कर दिया। आप बताओ तो सही कि मामला क्या है? नियुक्ति संस्कृत विभाग में नहीं बल्कि ‘संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय’ में हुई है और ये मुस्लिम विरोध नहीं बल्कि सनातन धर्म की रक्षा का प्रश्न है। बाकी निर्णय क्या होगा ये आप छोड़ दीजिए, पहले सही मुद्दा तो सामने आए।”

गौरतलब है कि छात्रों ने रुइया छात्रावास में 24 नवम्बर की शाम को एक आम सभा की जिसमें आंदोलन के रुपरेखा, इसकी कमियों और आगे की रणनीति पर चर्चा हुई। 25 नवंबर की शुरुआत परिसर स्थित विश्वनाथ मंदिर में SVDV के छात्रों द्वारा रुद्राभिषेक से हुआ।

रुद्राभिषेक के बाद मीडिया के इस सवाल पर कि एक तरफ JNU का आंदोलन है जहाँ विरोध की हर सीमा लाँघी जा रही है और दूसरी तरफ आपका आंदोलन जिसमें आप मन्त्रों, श्लोक, भजन, हनुमान चालीसा का पाठ, यज्ञ-हवन और रुद्राभिषेक के जरिए आंदोलन कर रहे हैं। इस पर आप क्या कहना चाहेंगे? चक्रपाणि ओझा ने इस प्रश्न के जवाब में कहा, “देखिए हमारी एक परंपरा है, एक तौर-तरीका है हम कुछ भी करेंगे यहाँ तक कि बोलेंगे भी तो हमारे गुरुजनों द्वारा दिए संस्कार झलक ही जाएँगे। जो हमें परम्परा से मिला हम वही प्रदर्शित कर रहे हैं। और यही वो मूल्य है जिसकी रक्षार्थ हम लड़ रहे हैं।”

चक्रपाणि ओझा से जब ऑपइंडिया ने प्रश्न किया कि आपकी इसी शैली में बोलने के कारण इंडियाटुडे के डिबेट में एंकर राहुल कँवल ने आपके साथ बदतमीजी की थी। इस पर आपका क्या कहना है? चक्रपाणि ने इस सवाल के जवाब में बस इतना ही कहा, “देखिए जो हमारे संस्कार है जिसके लिए हम लड़ रहे हैं वो हमने प्रदर्शित किया और जो उनके (राहुल कँवल) संस्कार है वो उन्होंने, देश ने उस व्यवहार को देखा। उनका JNU और SVDV के छात्रों से व्यवहार का अंतर भी मीडिया में आया जिससे बाद काफी लोगों ने उन्हें लताड़ा और हमें उसका भी फायदा मिला।”

बता दें कि कल 25 नवम्बर को ही BHU के सिंहद्वार पर काशी विद्वत परिषद के तत्वाधान में छात्रों ने एक सभा भी की। जिसमे SVDV के ही पूर्व संकायध्यक्ष एवं व्याकरणविभागाध्यक्ष प्रोफ़ेसर रामयत्न शुक्ल सहित कई विद्वानों ने धर्म की रक्षार्थ छात्रों के आंदोलन का समर्थन किया और अपने विचार रखे।

आज के कार्यक्रम के बारे में पूछे जाने पर शशिकांत मिश्र ने बताया, “महामना मूल्यों व धर्म के रक्षार्थ जारी आंदोलन के क्रम में में आज 26 नवंबर को दिन में 3 बजे से अस्सी घाट के सुबह ए बनारस के मंच पर एक विचार सभा का आयोजन किया गया है। जिसमें 3 बहुत ही प्रमुख व्यक्तित्व को अतिथि व वक्ता के रूप में हमने आमंत्रित किया है। जिसमे प्रमुख हैं, महामना की गोद में खेले, खाये, उनके आँगन में रहे, संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय के पूर्व छात्र व पूर्व वेद विभागाध्यक्ष वरिष्ठ प्रोफेसर हृदय रंजन शर्मा जी मुख्य वक्ता के रूप में। दूसरे हैं, देश के मूर्धन्य न्याय शास्त्र के विद्वान, राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित, संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान के पूर्व छात्र व प्राध्यापक तथा संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय के पूर्व प्रति कुलपति (रेक्टर) प्रो. वशिष्ठ त्रिपाठी जी एवं SVDV के साहित्य विभाग के पूर्व छात्र व अंतरराष्ट्रीय ख्यातिलब्ध कवि डॉ. अनिल चौबे जी की महनीय उपस्थित रहेगी।

सम्पूर्ण कार्यक्रम और आंदोलन में शशिकांत मिश्र, कृष्ण कुमार, शुभम, आनंद मोहन, अमन, विनायक सहित बड़ी संख्या में छात्रों और गणमान्य अथितियों की उपस्थिति छात्रों की आवाज को बल प्रदान कर रहा है। ऑपइंडिया से बात करते हुए शशिकांत मिश्र ने कहा, “यदि आप धर्म और सच्चाई के रास्ते पर हों तो ईश्वर स्वतः मदद करता है। आज जिस तरह आप सभी का खासतौर से ऑपइंडिया ने हमारे सच को सभी के सामने रखा उसके लिए हम आभारी हैं और उन सभी देशवासियों का भी आभार व्यक्त करता हूँ जिन्होंने मीडिया द्वारा फैलाए जा रहे झूठ के बावजूद सच को समझा और साथ दिया, आप सभी इस आंदोलन के अंजाम तक पहुँचने तक अपना साथ और सहयोग बनाए रखें। आपसे हमारी इतनी अपील है।”

BHU में SVDV के छात्रों का विरोध जारी

SVDV के प्रोफेसरों ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र: कहा- ‘फिरोज की नियुक्ति BHU एक्ट के खिलाफ’, कार्यकारिणी करेगी पुनर्विचार

BHU छात्रों की रैली, PMO को ज्ञापन सौंप कहा- महामना के मूल्य और विश्वविद्यालय के संविधान का हो पालन

चाँद से सब कुछ देखने वाले, मूर्तिपूजा को हराम कहने वाले सूर्य सिद्धांत पढ़ाएँगे: BHU के प्रोफ़ेसरों का प्रश्न

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

रवि अग्रहरि
अपने बारे में का बताएँ गुरु, बस बनारसी हूँ, इसी में महादेव की कृपा है! बाकी राजनीति, कला, इतिहास, संस्कृति, फ़िल्म, मनोविज्ञान से लेकर ज्ञान-विज्ञान की किसी भी नामचीन परम्परा का विशेषज्ञ नहीं हूँ!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

₹50 हजार मुआवजा, 2500 पेंशन, बिना राशन कार्ड भी फ्री राशन: कोरोना को लेकर केजरीवाल सरकार की ‘मुफ्त’ योजना

दिल्‍ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने कोरोना महामारी में माता पिता को खोने वाले बच्‍चों को 2500 रुपए प्रति माह और मुफ्त शिक्षा देने का ऐलान किया है।

ख़लीफ़ा मियाँ… किसाण तो वो हैं जिन्हें हमणे ट्रक की बत्ती के पीछे लगाया है

हमने सब ट्राई कर लिया। भाषण दिया, धमकी दी, ज़बरदस्ती कर ली, ट्रैक्टर रैली की, मसाज करवाया... पर ये गोरमिंट तो सुण ई नई रई।

कॉन्ग्रेस के इशारे पर भारत के खिलाफ विदेशी मीडिया की रिपोर्टिंग, ‘दोस्त पत्रकारों’ का मिला साथ: टूलकिट से खुलासा

भारत में विदेशी मीडिया संस्थानों के कॉरेस्पोंडेंट्स के माध्यम से पीएम मोदी को सभी समस्याओं के लिए जिम्मेदार ठहराया गया।

‘केरल मॉडल’ वाली शैलजा को जगह नहीं, दामाद मुहम्मद रियास को बनाया मंत्री: विजयन कैबिनेट में CM को छोड़ सभी चेहरे नए

वामपंथी सरकार की कैबिनेट में सीएम विजयन ने अपने दामाद को भी जगह दी है, जो CPI(M) यूथ विंग के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं।

सोनू सूद की फाउंडेशन का कमाल: तेजस्वी सूर्या से मदद माँग खुद खा गए क्रेडिट

बेंगलुरु पुलिस, बेंगलुरु फायर डिपार्टमेंट, ड्रग कंट्रोलिंग डिपार्टमेंट और बीजेपी सांसद तेजस्वी सूर्या के ऑफिस के प्रयासों से 12 मई को श्रेयस अस्पताल में संभावित ऑक्सीजन संकट टल गया। लेकिन, सोनू सूद का चैरिटी फाउंडेशन इस नेक काम का श्रेय लेने के लिए खबरों में बना रहा।

इजरायल का Iron Dome वाशिंगटन पोस्ट को खटका… तो आतंकियों के हाथों मर ‘शांति’ लाएँ यहूदी?

सोचिए, अगर ये तकनीक नहीं होती तो पिछले दो हफ़्तों से गाज़ा की तरफ से रॉकेट्स की जो बरसात की गई है उससे एक छोटे से देश में कितनी भीषण तबाही मचती!

प्रचलित ख़बरें

जैश की साजिश, टारगेट महंत नरसिंहानंद: भगवा कपड़ा और पूजा सामग्री के साथ जहाँगीर गिरफ्तार, साधु बन मंदिर में घुसता

कश्मीर के रहने वाले जान मोहम्मद डार उर्फ़ जहाँगीर को साधु के वेश में मंदिर में घुस कर महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती की हत्या करनी थी।

अल्लाह-हू-अकबर चिल्लाती भीड़ का हमला: यहूदी खून से लथपथ, बचाव में उतरी लड़की का यौन शोषण

कनाडा में फिलिस्तीन समर्थक भीड़ ने एक व्यक्ति पर हमला कर दिया जो एक अन्य यहूदी व्यक्ति को बचाने की कोशिश कर रहा था। हिंसक भीड़ अल्लाह-हू-अकबर का नारा लगाते हुए उसे लाठियों से पीटा।

विनोद दुआ की बेटी ने ‘भक्तों’ के मरने की माँगी थी दुआ, माँ के इलाज में एक ‘भक्त’ MP ने ही की मदद

मोदी समर्थकों को 'भक्त' बताते हुए मल्लिका उनके मरने की दुआ माँग चुकी हैं। लेकिन, जब वे मुश्किल में पड़ी तो एक 'भक्त' ने ही उनकी मदद की।

भारत में दूसरी लहर नहीं आने की भविष्यवाणी करने वाले वायरोलॉजिस्ट शाहिद जमील ने सरकारी पैनल से दिया इस्तीफा

वरिष्ठ वायरोलॉजिस्ट शाहिद जमील ने भारत में कोविड-19 के प्रकोप की गंभीरता की भविष्यवाणी करने में विफल रहने के बाद भारतीय SARS-CoV-2 जीनोम सीक्वेंसिंग कंसोर्टिया (INSACOG) के वैज्ञानिक सलाहकार समूह के अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया।

मेवात के आसिफ की हत्या में सांप्रदायिक एंगल नहीं, पुरानी राजनीतिक दुश्मनी: हरियाणा पुलिस

आसिफ की मृत्यु की रिपोर्ट आने के तुरंत बाद, कुछ मीडिया हाउसों ने दावा किया कि उसे मारे जाने से पहले 'जय श्री राम' बोलने के लिए मजबूर किया गया था, जिसकी वजह से घटना ने सांप्रदायिक मोड़ ले लिया।

ओडिशा के DM ने बिगाड़ा सोनू सूद का खेल: जिसके लिए बेड अरेंज करने का लूटा श्रेय, वो होम आइसोलेशन में

मदद के लिए अभिनेता सोनू सूद को किया गया ट्वीट तब से गायब है। सोनू सूद वास्तव में किसी की मदद किए बिना भी कोविड-19 रोगियों के लिए मदद की व्यवस्था करने के लिए क्रेडिट का झूठा दावा कर रहे थे।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,384FansLike
95,935FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe