Wednesday, June 19, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिगले में भगवा गमछा, आँखों में ईश्वर भक्ति: PM बनकर नहीं, 'प्राउड हिन्दू' होकर...

गले में भगवा गमछा, आँखों में ईश्वर भक्ति: PM बनकर नहीं, ‘प्राउड हिन्दू’ होकर ऋषि सुनक ने अक्षरधाम मंदिर में की पूजा

अक्षरधाम मंदिर के डायरेक्टर ने बताया - "दर्शन के दौरान ब्रिटिश प्रधानमंत्री की आँखों में एक सच्चे ईश्वर भक्त के भाव थे। यह राजकीय नेता की यात्रा के बजाय भगवान के एक भक्त की यात्रा रही।"

दिल्ली में चल रहे G20 सम्मेलन के दूसरे दिन ब्रिटिश प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने अक्षरधाम मंदिर में दर्शन किए। रविवार (10 जुलाई 2023) को इस दर्शन के दौरान सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। इस दौरान सुनक की पत्नी अक्षता मूर्ति भी मौजूद रहीं। मंदिर में कुछ देर समय बिता कर ब्रिटिश प्रधानमंत्री राजघाट की तरफ निकल गए।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सुनक की यात्रा से पहले ही पुलिस ने मंदिर और आसपास के इलाकों में बैरिकेड लगा दिए थे। सुबह-सुबह 7 बजे सुनक अपनी पत्नी के साथ मंदिर पहुँचे। यहाँ उन्होंने स्वामीनारायण सम्प्रदाय के मंदिर अक्षरधाम में पारम्परिक ढंग से पूजा अर्चना की। सुनक की पत्नी भी भारतीय परिधान में थीं। दोनों ने गले में भगवा गमछा डाल रखा था। मंदिर में दर्शन के दौरान बारिश हो रही थी। हालाँकि इसकी वजह से किसी प्रकार की कोई बाधा नहीं आई। वीडियो में पुलिस के जवानों को रेनकोट में मुस्तैद देखा जा सकता है।

बताते चलें कि ऋषि सुनक ने भारत आने से पहले खुद को ‘प्राउड हिन्दू’ बताते हुए मंदिर में जाने का एलान किया था। तभी से कयास लगाए जा रहे थे कि वो अक्षरधाम मंदिर जा सकते हैं। मंदिर में सुनक लगभग 40 मिनट तक रहे। इस दौरान उन्होंने मंदिर प्रशासन से जुड़े लोगों से बातचीत की। मंदिर की कलाकृतियों को देखा। फिर पत्नी अक्षता के साथ राजघाट की तरफ निकल गए।

ऋषि सुनक के मंदिर दर्शन के बाद वहाँ के डायरेक्टर ज्योतिंद्र दवे का बयान सामने आया है। ज्योतिंद्र ने बताया कि दर्शन के दौरान ब्रिटिश प्रधानमंत्री की आँखों में एक सच्चे ईश्वर भक्त के भाव थे। साथ ही उन्होंने इसे राजकीय नेता की यात्रा के बजाय भगवान के एक भक्त की यात्रा कहा। ऋषि सुनक द्वारा खुद को ‘प्राउड हिन्दू’ कहे जाने वाले बयान पर ज्योतिंद्र का दावा है कि उन्होंने जो कुछ भी सुना था, वो सच पाया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -