Friday, June 21, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृति'यहाँ कोई भेदभाव नहीं': बोलीं काँवड़ यात्रा में शामिल महिलाएँ, काँवड़ियों ने कहा -...

‘यहाँ कोई भेदभाव नहीं’: बोलीं काँवड़ यात्रा में शामिल महिलाएँ, काँवड़ियों ने कहा – कोई नहीं पूछता जाति, लंगर में ‘भोले’ मान कर सभी की सेवा

काँवड़ यात्रा में महिलाओं की भी अच्छी-खासी तादाद देखी गई। यात्रा में शामिल कुछ महिलाओं ने ऑपइंडिया से बताया, "पूरी काँवड़ यात्रा में हमें कहीं भी किसी भी भेदभाव का सामना नहीं करना पड़ा। हम पुरुष काँवड़ यात्रियों के साथ कंधे से कन्धा मिला कर चल रहे हैं।"

जो वामपंथी समाज हिन्दू धर्म में जातिवाद का ढोल पीट कर अपने तरह-तरह के स्वार्थ सिद्ध करता है उसको कहीं न कहीं काँवड़ यात्रा एक बड़ा और कड़ा संदेश देती है। पिछली रिपोर्टों में जमीनी तौर पर जुटाई जानकारी से हमने ये बताया कि शिव सबके हैं। इनके साथ इस यात्रा में यह साबित हुआ कि काँवड़ यात्रा न सिर्फ हिन्दुओं में जातिवाद का खंडन करती है बल्कि यह भी बताती है कि हिन्दू धर्म में लिंग भेद का कोई स्थान नहीं है।

मुजफ्फरनगर से हरिद्वार रोड पर बागोवाली चौराहे के पास आराम कर रहे काँवड़ यात्रियों से हमने सवाल किया कि क्या किसी ने उनकी जाति पूछी? इस पर उन्होंने बताया, “हरिद्वार से ले कर अब तक लगभग 100 किलोमीटर का सफर तय कर चुके हैं हम। हमसे किसी ने जाति का नाम भी नहीं लिया। हर कोई एक दूसरे को भोले कह कर ही बुला रहा है। इस यात्रा में लग ही नहीं रहा कि जाति होती भी है।”

एक साथ बैठ कर थकान मिटाते काँवड़िए

काँवड़ यात्रा में शामिल किन्नर अखाड़े की महामंडलेश्वर भवानी माँ ने ऑपइंडिया को बताया, “मेरा खुद का जन्म दलित परिवार में हुआ था। आज मैं जूना अखाड़े के पवित्र आश्रम में सम्मान के साथ रुकी हूँ और किन्नर अखाड़े में महामंडलेश्वर की पदवी पर हूँ।”

किन्नर अखाड़ा महामंडलेश्वर भवानी माँ

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्री महंत रविंद्र पुरी ने ऑपइंडिया को बताया, “जिसे हिन्दू धर्म जाति व्यवस्था में बँटा दिखाई देता है वो यहाँ आए। हम संतों को भी बेवजह जातिवाद के नाम पर बदनाम किया जाता है जबकि हमने सिर्फ समाज को जोड़ने का काम किया है। हरिद्वार में अनगिनत लंगर चल रहे हैं। न उसमें खाने वाले की कोई जाति पूछ रहा है और न ही खिलाने वाले की।”

श्री महंत रविंद्र पुरी

हरिद्वार के कथावाचक पवन शास्त्री ने ऑपइंडिया को बताया, “जातिवाद के नाम पर महज राजनीति करने वाले कुछ लोग ही हिन्दू धर्म को बदनाम करते हैं। मैंने अनगिनत काँवड़ वेदमंत्रों से अभिमंत्रित कर के उठवाई है। किसी से जाति तो दूर उसका धर्म भी नहीं पूछा। शिव पर सबका समान अधिकार है। ये काँवड़ तो छोड़िए, मेरी उम्र 40 साल से अधिक है और मैंने अपने अब तक के जीवन में एक भी केस ऐसा नहीं सुना जिसमें किसी भी काँवड़िए की किसी ने जाति पूछी हो।”

कथावाचक पवन शास्त्री

हरिद्वार के समाजसेवी अधीर कौशिक ने हमसे बात करते हुए कहा, “अफ़सोस की बात ये है कि मीडिया यहाँ दिख रही सामाजिक समानता को नहीं दिखाती। फर्जी खबरें फैलाने वालों को मेरी चुनौती है कि वो हिन्दुओं की आस्था के केंद्र पूरे हरिद्वार में एक भी स्थान या मंदिर ऐसा दिखा दें जिसमें किसी भी जाति विशेष के आने पर रोक हो। जातिवाद तो दूर, यहाँ क्षेत्रवाद भी नहीं है। किसी ने किसी भी काँवड़िए से ये नहीं पूछा कि कहाँ से आए हो। असल में वामपंथी हमारे तीर्थस्थलों और संतों को बस अफवाह उड़ा कर बदनाम करना चाहते हैं।”

समाजसेवी अधीर कौशिक

काँवड़ यात्रा में लिंगभेद भी नहीं

काँवड़ यात्रा में महिलाओं की भी अच्छी-खासी तादाद देखी गई। यात्रा में शामिल कुछ महिलाओं ने ऑपइंडिया से बताया, “पूरी काँवड़ यात्रा में हमें कहीं भी किसी भी भेदभाव का सामना नहीं करना पड़ा। हम पुरुष काँवड़ यात्रियों के साथ कंधे से कंधा मिला कर चल रहे हैं।”

जत्थे में सबसे आगे चल रही महिला काँवड़ यात्री

इसके अलावा महिलाएँ कई दुकानों पर सामान बेचने के साथ भंडारे आदि में काँवड़ियों की सेवा करते दिखाई दीं। उन सभी के चेहरे पर संतोष और सेवा के भाव दिखे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हलाल प्रोडक्ट का विरोध करने के कारण हम निशाने पर’: जिस चोर औरंगजेब की मौत को ‘मॉब लिंचिंग’ बता बवाली हुए मुस्लिम, उसकी सच्चाई...

औरंगजेब केस में अलीगढ़ के व्यापारियों ने भाजपा सांसद को ज्ञापन देकर कहा है कि हलाल प्रोडक्ट का बहिष्कार करने के बाद से वो लोग निशाने पर हैं।

लगातार तीसरी बार नरेंद्र मोदी बने हैं PM, पर ‘पत्रकार’ बिल मेर लोकसभा चुनावों में ‘बड़ी हार’ बता अमेरिकी दर्शकों को बना रहा पोपट

बिल मेर ने दावा किया कि भारत में लोगों ने 'दक्षिणपंथी राजनीति' को अस्वीकार कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -