Advertisements
Saturday, May 30, 2020
होम विविध विषय धर्म और संस्कृति श्रद्धालुओं के लिए दुनिया का सबसे विशाल मंदिर तैयार, 10 साल से चल रहा...

श्रद्धालुओं के लिए दुनिया का सबसे विशाल मंदिर तैयार, 10 साल से चल रहा था निर्माण

संस्था का कहना है कि इस मंदिर में हर धर्म, जाति-संप्रदाय और समुदाय के लोग आ सकते हैं, किसी के लिए भी मंदिर के दरवाजे बंद नहीं रहेंगे। इस्कॉन ने लोगों से आह्वान किया है कि वो इस मंदिर में आएँ और 'संत कीर्तन मूवमेंट' का हिस्सा बनें।

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

पश्चिम बंगाल के नदिया जिले में स्थित मायापुर में विश्व के सबसे बड़े मंदिर परिसर का पहला फ्लोर बन कर तैयार हो गया है। इसके अगले महीने श्रद्धालुओं के लिए खोले जाने की योजना बनाई गई है। ‘द टेम्पल ऑफ वैदिक प्लैनेटेरियम’ अपने-आप में दुनिया का सबसे अनोखा मंदिर है। इसे आप आधुनिक समय का एक विशाल महल कह सकते है, जो अनोखे झूमरों से सुशोभित है। तकनीक के इस्तेमाल से यहाँ हो रहे पूजा-पाठ और अन्य धार्मिक कार्यक्रमों का दुनिया-भर में सीधा लाइव प्रसारण होगा।

मंदिर का ‘पुजारी फ्लोर’ आकर्षण का विषय है। 1 लाख स्क्वायर फ़ीट में फैले परिसर में 2022 तक निर्माण कार्य पूरी तरह ख़त्म कर लिया जाएगा। मयापुर इस्कॉन (इंटरनेशनल सोसाइटी ऑफ कृष्णा कन्शियनस) का मुख्यालय है और यहाँ इस मंदिर का निर्माण भी उसी का एक भाग है। इस मंदिर के निर्माण का कामकाज आज से एक दशक पहले शुरू हुआ था। इसका मुख्य गुम्बद विश्व के किसी भी मंदिर का सबसे बड़ा गुम्बद होगा। मंदिर के निर्माण में अब तक 2 करोड़ किलो सीमेंट का प्रयोग किया जा चुका है। फ़िलहाल मंदिर के ‘पुजारी सेवा केंद्र’ को खोला गया है।

इस मंदिर का उद्देश्य है कि तकनीक के माध्यम से पूरी दुनिया में वैदिक ज्ञान का प्रचार-प्रसार किया जाए। 380 फ़ीट के इस मंदिर में स्पेशल ब्लू बोलिवियन मार्बल का प्रयोग किया जा रहा है। इससे इसे पश्चिमी कलाकृतियों के नमूने की भी झलक मिलेगी। मंदिर के मैनेजिंग डायरेक्टर सदभुजा दास ने बताया कि ये मंदिर पूर्वी और पश्चिमी कलाकृतियों का मिश्रण होगा। इसमें वियतनाम के अलावा भारतीय पत्थरों का प्रयोग भी किया गया है। मंदिर के फ्लोर का डायमीटर 60 मीटर का है। देवी-देवताओं की प्रतिमाएँ भी विशेष कक्षों में रखी जाएँगी।

इस्कॉन मंदिरों की ख़ासियत रही है कि यहाँ एक बार में कई श्रद्धालु भजन-कीर्तन में मगन करते हैं, कई ध्यान करते रहते हैं, कुछ नृत्य में आनंद पाते हैं और कई पूजा-पाठ में भी व्यस्त रहते हैं। इस मंदिर में एक समय में एक फ्लोर पर 10,000 श्रद्धालु पूजा-पाठ, नृत्य, ध्यान और भजन-कीर्तन का कार्य कर सकते हैं। इस्कॉन के पदाधिकारियों का कहना है कि संस्था के संस्थापक आचार्य प्रभुपाद हमेशा से चाहते थे कि मायापुर में कुछ ऐसा हो, जो पूरी दुनिया को आकर्षित कर यहाँ खींच लाए। यही वो क्षेत्र है, जहाँ चैतन्य महाप्रभु का जन्म हुआ था। मंदिर में एक साथ 20,000 लोगों के रुकने-ठहरने की व्यवस्था होगी।

संस्था का कहना है कि इस मंदिर में हर धर्म, जाति-संप्रदाय और समुदाय के लोग आ सकते हैं, किसी के लिए भी मंदिर के दरवाजे बंद नहीं रहेंगे। इस्कॉन ने लोगों से आह्वान किया है कि वो इस मंदिर में आएँ और ‘संत कीर्तन मूवमेंट’ का हिस्सा बनें। ताज़ा आँकड़ों के अनुसार, मायापुर में 70 लाख लोग प्रत्येक वर्ष आते हैं। इस्कॉन का कहना है कि मंदिर के पूर्णरूपेण तैयार हो जाने के बाद पश्चिम बंगाल के उस क्षेत्र में पर्यटन उद्योग को भी बढ़ावा मिलेगा। हाल ही में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मायापुर को ‘हेरिटेज सिटी’ घोषित किया है।

सोने का गर्भगृह, 2022 तक निर्माण पूरा: भव्य राम मंदिर के लिए महावीर मंदिर देगा ₹10 करोड़

बसंत सिर्फ ऋतु नहीं, ज्ञान की उपासना से लेकर काम और मोक्ष का जीवंत उत्सव भी है

ईसा मसीह का बौद्ध कनेक्शन, भारत में मिला था ज्ञान!

Advertisements

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

चीन के खिलाफ जंग में उतरे ‘3 इडियट्स’ के असली हीरो सोनम वांगचुक, कहा- स्वदेशी अपनाकर दें करारा जवाब

"सारी दुनिया साथ आए और इतने बड़े स्तर पर चीनी व्यापार का बायकॉट हो, कि चीन को जिसका सबसे बड़ा डर था वही हो, यानी कि उसकी अर्थव्यवस्था डगमगाए और उसकी जनता रोष में आए, विरोध और तख्तापलट और...."

POK में ऐतिहासिक बौद्ध धरोहरों पर उकेर दिए पाकिस्तानी झंडे, तालिबान पहले ही कर चुका है बौद्ध प्रतिमाओं को नष्ट

POK में बौद्ध शिलाओं और कलाकृतियों को नुकसान पहुँचाते हुए उन पर पाकिस्तान के झंडे उकेर दिए गए हैं।

पिंजड़ा तोड़ की नताशा नरवाल पर UAPA के तहत मामला दर्ज: देवांगना के साथ मिल मुसलमानों को दंगों के लिए उकसाया था

नताशा नरवाल जेएनयू की छात्रा है। दंगों में उसकी भूमिका को देखते हुए UAPA के तहत मामला दर्ज किया गया है।

J&K: कुलगाम में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया, भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद

कुलगाम जिले के वानपोरा में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में दो आतंकवादियों को मार गिराया। आतंकियों के छुपे होने की खुफ़िया जानकारी मिली थी।

‘मरीज मर जाएँ तो हमें दोष मत दीजिएगा’: उद्धव राज में बाल ठाकरे ट्रॉमा सेंटर की उखड़ी साँसें, ऑक्सीजन की कमी से 12 मरे

जोगेश्वरी के HBT ट्रॉमा सेंटर में तैनात डॉक्टरों ने कहा है कि हाँफते हुए मरीजों को दम तोड़ते देख उनका मानसिक स्वास्थ्य प्रभावित हो रहा है।

चीन के पर कतरे, WHO से रिश्ते तोड़े, हांगकांग का विशेष दर्जा छीना जाएगा: ट्रंप के ताबड़तोड़ फैसले

ट्रंप ने WHO से सारे संबंध खत्म करने का ऐलान किया है। चीन पर कई पाबंदियॉं लगाई है। हांगकांग का विशेष दर्जा भी वापस लिया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

असलम ने किया रेप, अखबार ने उसे ‘तांत्रिक’ लिखा, भगवा कपड़ों वाला चित्र लगाया

बिलासपुर में जादू-टोना के नाम पर असलम ने एक महिला से रेप किया। लेकिन, मीडिया ने उसे इस तरह परोसा जैसे आरोपित हिंदू हो।

ISKCON ने किया ‘शेमारू’ की माफ़ी को अस्वीकार, कहा- सुरलीन, स्याल पर कार्रवाई कर उदाहारण पेश करेंगे

इस्कॉन के प्रवक्ता राधारमण दास ने शेमारू के इस माफ़ीनामे से संतुष्ट नहीं लगते और उन्होने घोषणा की कि वे बलराज स्याल और सुरलीन कौर के इस वीडियो को प्रसारित करने वाले शेमारू के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे।

टिड्डियों के हमले को जायरा वसीम ने बताया अल्लाह का कहर, सोशल मीडिया पर यूजर्स ने ली क्लास

इस्लाम का हवाला देकर एक्टिंग को अलविदा कहने वाली जायरा वसीम ने देश में टिड्डियों के हमले को घमंडी लोगों पर अल्लाह का कहर बताया है।

जैकलीन कैनेडी की फोटो पास में रख कर सोते थे नेहरू: CIA के पूर्व अधिकारी ने बताए किस्से

सीआईए के पूर्व अधिकारी ब्रूस रिडेल का एक क्लिप वायरल हो रहा है। इसमें उन्होंने नेहरू और जैकलीन कैनेडी के संबंधों के बारे में बात की है।

दिल्ली में अस्पताल और श्मशान में शव रखने की जगह नहीं, हाइकोर्ट ने भेजा केजरीवाल सरकार, तीनों निगमों को नोटिस

पाँच दिन पहले जिनकी मौत हुई थी उनका अंतिम संस्कार नहीं हो पाया है। जिसकी वजह से मॉर्चरी में हर दिन संख्या बढ़ती चली जा रही है। पिछले हफ्ते जमीन पर 28 की जगह 34 शव रखें हुए थे।

हमसे जुड़ें

209,526FansLike
60,766FollowersFollow
244,000SubscribersSubscribe
Advertisements