Monday, January 25, 2021
Home विविध विषय धर्म और संस्कृति त्रयम्बक, नटराज, आदियोगी... शिव के कई नाम, विश्व की सबसे बड़ी प्रयोगशाला जिन्हें करती...

त्रयम्बक, नटराज, आदियोगी… शिव के कई नाम, विश्व की सबसे बड़ी प्रयोगशाला जिन्हें करती है सलाम!

जब आपकी भीतरी दृष्टि खुल जाती है, जब आपके पास एक आंतरिक दृष्टि होती है, तभी आपको पूर्ण स्पष्टता मिलती है। जिसे हम शिव कहते हैं, वह और कुछ नहीं, बस चरम बोध का साकार रूप है।

शिव का शाब्दिक अर्थ ही यही है, ‘जो नहीं है’। ‘जो है’, वह अस्तित्व और सृजन है। ‘जो नहीं है’, वह शिव है। ऐसे शायद शिव आपको भी पहेली लगें इसलिए संसार ने अपनी सुविधा के लिए शिव को कई अलग नाम और गुणधर्म दिए। सबकी अपनी-अपनी अलग-अलग व्याख्याएँ पर मूल रूप में सभी का मूल एक कल्याण। शिव अर्थात एक महायोगी, गृहस्थ, तपस्वी, अघोरी, नर्तक और भी कई अन्य अलग-अलग नाम और रूप। क्या कभी आपने सोचा कि क्यों इतने सारे विविध रूप धारण किए थे भगवान शिव ने?

त्रयंबक

शिव को हमेशा त्रयंबक कहा गया है क्योंकि उनकी एक तीसरी आँख है। तीसरी आँख का यह मतलब नहीं है कि माथे में कोई दरार है, जहाँ एक और आँख उग आई है। इसका मतलब बस यह है कि उनका बोध या अनुभव अपनी चरम संभावना पर पहुँच गया है। तीसरी आँख भौतिक नहीं अंतर्दृष्टि की आँख है।

त्रयम्बक शिव

दोनों भौतिक आँखे सिर्फ इन्द्रियाँ हैं। वे आपके मन को हर तरह की फालतू बातों से भरती हैं क्योंकि हम जो देखते हैं, वह सत्य नहीं है। सद्गुरु कहते हैं कि आप किसी इंसान को देखकर उसके बारे में कुछ अंदाजा लगाते हैं, मगर आप उसके अंदर शिव को नहीं देख पाते। इसलिए एक और आँख को खोलना जरूरी है, जो और गहराई में देख सके।

आपने भी अनुभव किया होगा कि कितना भी सोचने से या दार्शनिक चिंतन से कभी आपके मन को स्पष्टता नहीं मिल पाती है। बहुत सोचकर, कुछ तथाकथित प्रमाण इकठ्ठा कर हम कुछ मान लेते हैं। जिसके बल पर जानने का दावा करते हैं पर सच्चाई यही है कि कोई भी आपकी तार्किक स्पष्टता को बिगाड़ सकता है, मुश्किल हालात आपकी सोच और हर मान्यता को पूरी तरह अस्त-व्यस्त कर सकते हैं। जब आपकी भीतरी दृष्टि खुल जाती है, जब आपके पास एक आंतरिक दृष्टि होती है, तभी आपको पूर्ण स्पष्टता मिलती है। जिसे हम शिव कहते हैं, वह और कुछ नहीं, बस चरम बोध का साकार रूप है।

भोलेनाथ, भोले भंडारी

वैसे तो शिव को हमेशा से एक बहुत शक्तिशाली प्राणी के रूप में देखा जाता रहा है। साथ ही, यह भी समझा जाता रहा कि वह सांसारिक रूप से बहुत चतुर नहीं हैं। इसलिए, शिव के एक रूप को भोलेनाथ, भोले भंडारी भी कहा जाता है, क्योंकि वह किसी बच्चे की तरह हैं। ‘भोलेनाथ’ का मतलब है, मासूम या अज्ञानी।

शिव भोले भंडारी

आपने आम जीवन में भी देखा होगा कि सबसे बुद्धिमान लोग बहुत आसानी से मूर्ख बन जाते हैं, क्योंकि वे छोटी-मोटी चीजों में अपनी बुद्धि नहीं लगा सकते। बहुत कम बुद्धिमत्ता वाले चालाक और धूर्त लोग दुनिया में आसानी से किसी बुद्धिमान व्यक्ति को पछाड़ सकते हैं। यह धन-दौलत के अर्थ में या सामाजिक तौर पर मायने रख सकता है, मगर जीवन के संबंध में इस तरह की जीत का कोई महत्व नहीं है।

ध्यान रहे, बुद्धिमान से हमारा मतलब यहाँ स्मार्ट होने से नहीं है। इसका मतलब उस आयाम को स्वीकार करने से है, जो जीवन को पूर्ण रूप से घटित होने देता है, विकसित होने देता है। शिव भी ऐसे ही हैं। ऐसा नहीं है कि वह मूर्ख हैं, मगर वह हर छोटी-मोटी चीज में बुद्धि का इस्तेमाल नहीं करते। जो ऐसा करते हैं उनको आपने अपने आस-पास भी जीवन या आसान काम को भी जटिल बनाते देखा होगा।

नटराज

नटराज अर्थात नृत्य के देवता, शिव के सबसे महत्वपूर्ण रूपों में से एक है। शिव का लयात्मक रूप, क्रुद्ध हुए तो रूद्र अर्थात महाविनाशक।

नाभिकीय प्रयोगशाला (CERN) स्थित नटराज की प्रतिमा

आपको स्विटजरलैंड में स्थित नाभिकीय प्रयोगशाला (CERN) याद होगा। यह धरती पर भौतिकी की सबसे बड़ी प्रयोगशाला है, जहाँ अणुओं की सारी तोड़-फोड़ हो रही है। वहाँ के प्रवेशद्वार के सामने नटराज की एक मूर्ति है। क्योंकि उन्हें महसूस हुआ कि मानव संस्कृति में इसके सिवाए ऐसा कुछ नहीं है, जो उनके अभी के काम से मिलता-जुलता हो, उसके करीब हो। लय में हैं तो सृजन, क्रुद्ध हुए, लय बिगड़ा तो रूद्र अर्थात महा विनाशक। परमाणु और अणुओं से ही सृष्टि का कण-कण निर्मित है और वही परमाणु जब मुक्त हो जाता है तो महाविनाशक परमाणु बम।

खैर, नटराज रूप सृष्टि के उल्लास और नृत्य यानी कंपन को दर्शाता है, जिसने शाश्वत स्थिरता और नि:शब्दता से खुद को उत्पन्न किया है। चिदंबरम मंदिर में स्थापित नटराज की मूर्ति बहुत प्रतीकात्मक है। क्योंकि जिसे आप चिदंबरम कहते हैं, वह पूर्ण स्थिरता है। इस मंदिर के रूप में यही बात प्रतिष्ठित की गई है कि सारी गति पूर्ण स्थिरता से ही पैदा हुई है। शास्त्रीय कलाएँ इंसान के अंदर यही पूर्ण स्थिरता लाती हैं। स्थिरता के बिना सच्ची कला नहीं आ सकती। स्थिरता, लय और गति का सुन्दर तालमेल देखना हो तो महसूस करिए भारतीय संगीत परम्परा में छिपे जीवन के अनहदनाद को।

अर्धनारीश्वर

आम तौर पर, शिव को परम या पूर्ण पुरुष माना जाता है। मगर अर्धनारीश्वर रूप में, उनका आधा हिस्सा एक पूर्ण विकसित स्त्री का होता है। कहा जाता है कि अगर आपके अंदर की पौरुष यानी पुरुष-गुण और स्त्रैण यानी स्त्री-गुण मिल जाएँ, तो आप परमानंद की स्थायी अवस्था में रहते हैं। अगर आप बाहरी तौर पर इसे करने की कोशिश करते हैं, तो वह टिकाऊ नहीं होता और उसके साथ आने वाली मुसीबतें कभी खत्म नहीं होतीं। पौरुष और स्त्रैण का मतलब पुरुष और स्त्री नहीं है। ये खास गुण हैं।

अर्धनारीश्वर शिव

मुख्य रूप से यह दो लोगों के मिलन की चाह नहीं है, यह जीवन के दो पहलुओं के मिलन की चाह है, जो बाहरी और भीतरी तौर पर एक होना चाहते हैं। अगर आप भीतरी तौर पर इसे हासिल कर लें, तो बाहरी तौर पर यह सौ फीसदी अपने आप हो जाएगा। वरना, बाहरी तौर पर यह एक भयानक विवशता बन जाएगी।

यह रूप इस बात को दर्शाता है कि अगर आप चरम रूप में विकसित होते हैं, तो आप आधे पुरुष और आधी स्त्री होंगे। इसका मतलब यह नहीं कि आप नपुंसक होंगे, बल्कि एक पूर्ण विकसित पुरुष और एक पूर्ण विकसित स्त्री होंगे। तभी आप एक पूर्ण विकसित इंसान बन पाते हैं।

कालभैरव, महाकाल

कालभैरव शिव का एक मारक या जानलेवा रूप है, जब उन्होंने समय के विनाश की मुद्रा अपना ली थी। सभी भौतिक हकीकतें समय के भीतर मौजूद होती हैं। अगर समय नष्ट हो जाए तो सब कुछ नष्ट हो जाएगा।

महाकाल कालभैरव शिव

शिव भैरवी-यातना को पैदा करने के लिए उपयुक्त वस्त्र धारण करके कालभैरव बन गए। ‘यातना’ का मतलब है, घोर पीड़ा। कहा जाता है, जब मृत्यु का पल आता है, तो बहुत से जीवनकाल पूरी तीव्रता में सामने आ जाते हैं, आपके साथ जो भी पीड़ा और कष्ट होना है, वह एक माइक्रोसेकेंड में ‍घटित हो जाएगा। उसके बाद, अतीत का कुछ भी आपके अंदर नहीं रह जाएगा।

सद्गुरु कहते हैं कि अपने ‘सॉफ्टवेयर’ को नष्ट करना कष्टदायक है। मगर मृत्यु के समय ऐसा होता है, इसलिए आपके पास कोई चारा नहीं होता। लेकिन वह इसे जितना हो सके, छोटा बना देते हैं। कष्ट को जल्दी से खत्म करना चाहते हैं। ऐसा तभी होगा, जब हम इसे अत्यंत तीव्र बना देंगे। अगर वह हल्का होगा, तो हमेशा चलता ही रहेगा।

आदियोगी

योगिक परंपरा में शिव की पूजा ईश्वर के रूप में नहीं की जाती है। वह आदियोगी, यानि पहले योगी और आदिगुरु, यानि पहले गुरु हैं, जिनसे योगिक विज्ञान जन्मा। दक्षिणायन की पहली पूर्णिमा गुरु पूर्णिमा होती है, जब आदियोगी ने इस विज्ञान को अपने पहले सात शिष्यों, सप्तऋषियों को सौंपना शुरू किया।

शांत चित्त आदियोगी

सद्गुरु कहते हैं कि यह किसी भी धर्म से पहले की बात है। इंसान ने मानवता को तोड़ने-फोड़ने के विभाजनकारी तरीके ढूँढे, उससे पहले मानव चेतना को बढ़ाने के लिए जरूरी और सबसे शक्तिशाली साधनों को पहचाना और प्रचारित किया गया। उसकी गूढ़ता आश्चर्यजनक है। उस समय लोग इतने प्रबुद्ध थे या नहीं, इस सवाल का कोई मतलब नहीं है क्योंकि यह किसी खास सभ्यता या विचार प्रक्रिया से नहीं जन्मा था। यह एक आंतरिक ज्ञान से उपजा था। उन्होंने बस अपने आप को उड़ेल दिया। आप आज भी एक चीज तक नहीं बदल सकते क्योंकि जो कुछ भी कहा जा सकता है, उन्होंने वह सब बहुत ही सुंदर और समझदारी भरे रूपों में कहा। आप बस उसे समझने की कोशिश में अपना पूरा जीवन बिता सकते हैं।

आज महाशिवरात्रि के अवसर पर, शिव के कई नामों और उसके पीछे के रहस्यों से परिचय के साथ-साथ, शिव कृपा को साक्षात अनुभव करने के लिए, आज की रात आपके लिए सिर्फ घोर निद्रा की रात बनकर न रह जाए बल्कि इसे अपने लिए तीव्र जीवंतता और जागरूकता की रात बना दें। आज चाहें तो आप महाशिवरात्रि के इस अद्भुत उपहार का लाभ उठा सकते हैं, जो प्रकृति स्वयं इस दिन मानवता को प्रदान करती है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

रवि अग्रहरि
अपने बारे में का बताएँ गुरु, बस बनारसी हूँ, इसी में महादेव की कृपा है! बाकी राजनीति, कला, इतिहास, संस्कृति, फ़िल्म, मनोविज्ञान से लेकर ज्ञान-विज्ञान की किसी भी नामचीन परम्परा का विशेषज्ञ नहीं हूँ!

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऐसे लोगों को छोड़ा नहीं जाना चाहिए: मुनव्वर फारूकी पर जस्टिस रोहित आर्य, कुंडली निकालने में जुटा लिब्रांडु गिरोह

हिन्दू देवी-देवताओं के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने वाले मुनव्वर फारूकी की याचिका पर सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति रोहित आर्य ने कहा कि ऐसे लोगों को बख्शा नहीं जाना चाहिए।

15 साल छोटी हिन्दू से निकाह कर परवीन बनाया, अब ‘लव जिहाद’ विरोधी कानून को ‘तमाशा’ बता रहे नसीरुद्दीन शाह

नसरुद्दीन शाह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' को लेकर तमाशा चल रहा है। कहा कि लोगों को 'जिहाद' का सही अर्थ ही नहीं पता है।

इंडियन आर्मी ने कश्मीर ही नहीं बचाया, खुद भी बची: सेना को खत्म करना चाहते थे नेहरू

आज शायद यकीन नहीं हो, लेकिन मेजर जनरल डीके पालित ने अपनी किताब में बताया है कि नेहरू सेना को भंग करने के पक्ष में थे।

राम मंदिर के लिए ₹20 का दान (मृत बेटे के नाम से भी) – गरीब महिला की भावना अमीरों से ज्यादा – वायरल हुआ...

दान की मात्रा अहम नहीं बल्कि दान की भावना देखी जाती है। इस वीडियो से एक बात साफ है कि 80 वर्षीय वृद्ध महिला की भगवान राम के प्रति आस्था...

राम मंदिर के लिए दे रहे हैं दान तो इन 13 फ्रॉड UPI IDs को ध्यान से देख लीजिए, कहीं और न चला जाए...

राम मंदिर के आधिकारिक विवरण से मिलती-जुलती कई फ्रॉड UPI IDs बना ली गई हैं, जिसके माध्यम से श्रद्धालुओं को ठगने की कोशिश हो रही है।

ममता बनर्जी ने मुगल हरम पर रिसर्च कर पाई थी PhD ‘डिग्री’… बस वो यूनिवर्सिटी दुनिया में नहीं है

ममता बनर्जी 1982 में 'अमेरिका के 'ईस्ट जॉर्जिया यूनिवर्सिटी' से PhD होने का दावा करती थीं और अपने नाम में 'डॉक्टर' भी लगाती थीं।

प्रचलित ख़बरें

12 साल की लड़की का स्तन दबाया, महिला जज ने कहा – ‘नहीं है यौन शोषण’: बॉम्बे HC का मामला

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने शारीरिक संपर्क या ‘यौन शोषण के इरादे से किया गया शरीर से शरीर का स्पर्श’ (स्किन टू स्किन) के आधार पर...

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।

मदरसा सील करने पहुँची महिला तहसीलदार, काजी ने कहा- शहर का माहौल बिगड़ने में देर नहीं लगेगी, देखें वीडियो

महिला तहसीलदार बार-बार वहाँ मौजूद मुस्लिम लोगों को मामले में कलेक्टर से बात करने के लिए कह रही है। इसके बावजूद लोग उसकी बात को दरकिनार करते हुए उसे धमकाते हुए नजर आ रहे हैं।

निकिता तोमर को गोली मारते कैमरे में कैद हुआ था तौसीफ, HC से कहा- मैं निर्दोष, यह ऑनर किलिंग

निकिता तोमर हत्याकांड के मुख्य आरोपित तौसीफ ने हाई कोर्ट से घटना की दोबारा जाँच की माँग की है। उसने कहा कि यह मामला ऑनर किलिंग का है।

‘जिस लिफ्ट में ऑस्ट्रेलियन, उसमें हमें घुसने भी नहीं देते थे’ – IND Vs AUS सीरीज की सबसे ‘गंदी’ कहानी, वीडियो वायरल

भारतीय क्रिकेटरों को सिडनी में लिफ्ट में प्रवेश करने की अनुमति सिर्फ तब थी, अगर उसके अंदर पहले से कोई ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी न हो। एक भी...

छठी बीवी ने सेक्स से किया इनकार तो 7वीं की खोज में निकला 63 साल का अयूब: कई बीमारियों से है पीड़ित, FIR दर्ज

गुजरात में अयूब देगिया की छठी बीवी ने उसके साथ सेक्स करने से इनकार कर दिया, जब उसे पता चला कि उसके शौहर की पहले से ही 5 बीवियाँ हैं।
- विज्ञापन -

 

‘मुझे बंदूक दिखाओगे तो मैं बंदूक का संदूक दिखाऊँगी’: BJP पर बरसीं ‘जय श्री राम’ से भड़कीं ममता

जय श्री राम के नारों को अपनी बेइज्जती करार देने वाली ममता बनर्जी ने बीजेपी पर निशाना साधा है।

गलवान घाटी में बलिदान हुए कर्नल संतोष बाबू को महावीर चक्र, कई अन्य जवान भी होंगे सम्मानित

गलवान घाटी में वीरगति को प्राप्त हुए कर्नल संतोष बाबू को इस साल महावीर चक्र (मरणोपरांत) से नवाजा जाएगा।

26 जनवरी पर क्यों दो बार सैल्यूट करता है सिख रेजिमेंट? गणतंत्र दिवस पर 42 साल पहले शुरू हुई परंपरा के बार में सब...

गणतंत्र दिवस परेड में भारतीय सशस्त्र बल का हर सैन्य दल एक बार सैल्यूट करता है, वहीं सिख रेजिमेंट दो बार सैल्यूट करता है।

नेताजी के बदले एक्टर प्रसनजीत चटर्जी की तस्वीर का राष्ट्रपति कोविंद ने कर दिया अनावरण? फैक्टचेक

लिबरल गिरोह नेताजी की उस तस्वीर पर सवाल उठा रहे हैं जिसका अनावरण राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उनकी 125वीं जयन्ती के मौके पर 23 जनवरी को किया था।

ऐसे लोगों को छोड़ा नहीं जाना चाहिए: मुनव्वर फारूकी पर जस्टिस रोहित आर्य, कुंडली निकालने में जुटा लिब्रांडु गिरोह

हिन्दू देवी-देवताओं के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने वाले मुनव्वर फारूकी की याचिका पर सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति रोहित आर्य ने कहा कि ऐसे लोगों को बख्शा नहीं जाना चाहिए।

TikTok स्टार रफी शेख ने की आत्महत्या: दोस्त मुस्तफा पर मारपीट और आपत्तिजनक वीडियो का आरोप

आंध्र प्रदेश के टिक टॉकर रफी शेख ने नेल्लोर जिले में अपने निवास पर आत्महत्या कर ली। पुलिस आत्महत्या के पीछे के कारणों का पता लगाने के लिए...

15 साल छोटी हिन्दू से निकाह कर परवीन बनाया, अब ‘लव जिहाद’ विरोधी कानून को ‘तमाशा’ बता रहे नसीरुद्दीन शाह

नसरुद्दीन शाह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' को लेकर तमाशा चल रहा है। कहा कि लोगों को 'जिहाद' का सही अर्थ ही नहीं पता है।

इंडियन आर्मी ने कश्मीर ही नहीं बचाया, खुद भी बची: सेना को खत्म करना चाहते थे नेहरू

आज शायद यकीन नहीं हो, लेकिन मेजर जनरल डीके पालित ने अपनी किताब में बताया है कि नेहरू सेना को भंग करने के पक्ष में थे।

Bigg Boss वाली हिरोइन जयश्री की संदिग्ध मौत, अपने ही फ्लैट में फंदे से लटका मिला शव

कन्नड़ अभिनेत्री जयश्री रमैया की मौत हो गई है। उनका शव उनके बेंगलुरु स्थित फ्लैट में फाँसी के फंदे से लटका हुआ संदिग्ध अवस्था में मिला है।

क्योंकि मेरी दुकान नहीं चली: कॉन्ट्रैक्ट किलर इम्तियाज ने बताया अपराध में वापसी का कारण

कॉन्ट्रैक्ट किलर रहे मोहम्मद इम्तियाज ने ऐसा कदम दुकान से होने वाली कम आमदनी और 'पीयर प्रेशर' यानी, अन्य गुर्गों द्वारा बनाए जा रहे दबाव के कारण उठाया।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
385,000SubscribersSubscribe