Thursday, January 21, 2021
Home विविध विषय धर्म और संस्कृति अगर वीसी ने धर्म संकाय में नियुक्ति नियमों का ध्यान रखा होता तो BHU...

अगर वीसी ने धर्म संकाय में नियुक्ति नियमों का ध्यान रखा होता तो BHU की बदनामी नहीं होती: प्रो. वशिष्ठ त्रिपाठी

काशी विद्वत परिषद, 50 से अधिक प्रोफेसरों, शंकराचार्य सहित बनारस के कई आचार्यों और विद्वानों ने BHU के विजिटर महामहिम राष्ट्रपति को पत्र लिखकर आवश्यक हस्तक्षेप का अनुरोध करते हुए फिरोज खान की नियुक्ति रद्द करने को कहा, जिसका कार्यकारिणी ने संज्ञान भी लिया।

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान के छात्रों द्वारा गैर हिन्दू फिरोज खान की नियुक्ति का विरोध जारी है। छात्रों को शंकराचार्यों, काशी विद्वत परिषद, पूर्व और वर्तमान प्रोफेसरों, संकाय प्रमुख और विभागाध्यक्षों का जबरदस्त समर्थन मिल रहा है। काशी विद्वत परिषद, 50 से अधिक प्रोफेसरों, शंकराचार्य सहित बनारस के कई आचार्यों और विद्वानों ने BHU के विजिटर महामहिम राष्ट्रपति को पत्र लिखकर आवश्यक हस्तक्षेप का अनुरोध करते हुए फिरोज खान की नियुक्ति रद्द करने को कहा, जिसका कार्यकारिणी ने संज्ञान भी लिया। BHU की बदनामी से चिंतित कार्यकारिणी की अगली बैठक 7 दिसम्बर को बुलाई गई है। जिसमें फिरोज खान प्रकरण पर भी निर्णय लिया जाएगा।

दूसरी ओर छात्रों का आंदोलन निर्बाध गति से चल रहा है। प्रशासन के 10 दिन की मोहलत के अनुरोध पर छात्रों ने धरना भले समाप्त कर दिया हो लेकिन कक्षाओं और परीक्षाओं का पूर्णतया बहिष्कार जारी है और आंदोलन को गति देने के लिए रोज कई कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं जिसमें तमाम विद्वानों और आचार्यों को अपने विचार प्रकट करने के लिए बुलाया जा रहा है। चूँकि, इसमें से अधिकांश आचार्य-प्रोफ़ेसर अब विश्विद्यालय की नौकरी में नहीं हैं इसलिए वाइस चांसलर को खरी-खोटी सुनाने से लेकर लानत-मलामत में भी कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं।

आंदोलन की कड़ी में ही 26 नवंबर को अस्सी घाट पर एक सभा हुई। सभा मे आए मुख्य वक्ता न्याय शास्त्र के मूर्धन्य विद्वान प्रो. वशिष्ठ त्रिपाठी ने संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय में हुई नियुक्ति को महामना के मूल्यों व विश्वविद्यालय के संविधान के विपरीत बताया। साथ ही यह भी कहा, “इतिहास शिलालेखों के आधार पर ही लिखे जाते हैं। BHU स्थापना स्थल पर लगे शिलालेख से अगर BHU के स्थापना काल का निर्धारण किया जाता है तो धर्म विज्ञान संकाय में लगे शिलालेख को भी मानना ही पड़ेगा। हमारी परंपरा में तो न्याय का विद्यार्थी साहित्य में, व्याकरण में नहीं पढ़ा सकता तो दूसरे धर्म का व्यक्ति कैसे पढ़ा सकता है।”

SVDV के ही पूर्व छात्र व प्राध्यापक रहे, राष्टपति, विश्वभारती आदि अनेक पुरस्कारों से सम्मानित प्रोफ़ेसर वशिष्ठ त्रिपाठी ने चयन समिति पर ही सवाल उठाते हुए कहा कि विभागाध्यक्ष व संकाय प्रमुख को विचार करना चाहिए था। उहोंने कहा कि महामना ने किसी विशिष्ट उद्देश्य के साथ ही इस संकाय को बनाया होगा और साथ ही नियम भी बनाए होंगे। साथ ही यह भी बताए कि अन्य संकायों में जहाँ संस्कृत पढ़ाया जाता है वहाँ नियुक्ति में कोई आपत्ति नहीं होती किसी को। संविधान किसी को भी किसी के धर्म मे हस्तक्षेप की अनुमति नहीं देता।

साथ ही साथ उन लोगों के बयानों को खंडित करते हुए कहा कि जो कहते हैं कि जैन, बौद्ध हिन्दू नहीं है, तो वो लोग विक्षिप्त हैं, भारत में उदय हुआ कोई भी धर्म सनातन धर्म से अलग नहीं हो सकता। आस्तिक-नास्तिक, वैदिक-अवैदिक को लेकर जरूर भेद है। साथ ही साथ उन्होंने भारत सरकार से इस नियुक्ति की जाँच कराने की भी माँग की।

प्रोफ़ेसर शिवराम गंगोपाध्याय एवं प्रोफ़ेसर वशिष्ठ त्रिपाठी

प्रोफ़ेसर त्रिपाठी ने कहा, “आंदोलन तो छात्रों के बल पर चल रहा है। कितने प्रोफ़ेसर खुल कर सामने आए कि कुलपति, विभागाध्यक्ष और संकायप्रमुख को उनकी गलती और विश्विद्यालय का नियम बताएँ? बाद में कुछ लोग आए और अब सब आ रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि बहुत लोग अभी भी कोई मुद्दा अखबार और टीवी से समझते हैं। मीडिया ने गलत ही समझाना शुरू किया इससे भी लोगों को मूल बात पकड़ने में समय लगा। पुराने लोग जानते हैं कि विश्विद्यालय के इस संकाय में क्या नियम है लेकिन कुलपति, रजिस्ट्रार, विभागाध्यक्ष ने उनसे संपर्क ही नहीं किया।” उन्होंने इस आंदोलन को ‘न भूतो न भविष्यति’ की संज्ञा दी। कहा लोग ध्यान रखते तो आज ऐसी जरुरत ही नहीं पड़ती कि छात्र आज पठन-पाठन छोड़कर धर्म और सनातन मूल्यों की रक्षा के लिए सड़क पर हैं।

धर्म विज्ञान संकाय के न्याय विभाग के पूर्व छात्र व प्राध्यापक रहे डॉ. शिवराम गंगोपाध्याय जी ने कहा, “दो धर्मों को एकसाथ नहीं निभाया जा सकता। शास्त्रों का उदाहरण देते हुए बताए कि दो धर्मों को मानने वाले व्यक्ति को अपने घर मे भी नहीं प्रवेश देना चाहिए, क्योंकि वह अविश्वासी होता है।”

डॉ. शिवराम गंगोपाध्याय जी ने यह भी कहा, “अगर इतना ही संस्कृत भाषा पढ़े लिखे हैं व उसके प्रति सम्मान है तो अभी तक सनातन धर्म को स्वीकार कर लेना चाहिए था। साथ ही यह शास्त्र का नियम बताया कि हर व्यक्ति को अपने धर्म का पालन करना चाहिए तभी आपकी पूजा होगी। किसी भी परिस्थिति में अपने धर्म का त्याग नहीं करना चाहिए। दूसरे धर्म को जानना, पढ़ना अलग बात है, पर उस धर्म की शिक्षा देना अलग। हो सकता है पढ़ाते समय वह अपने धर्मों के अनुसार शास्त्रों की व्याख्या करने लगे जिससे हमारी परम्परा ही नष्ट हो जाय।”

उन्होंने यह भी कहा कि संस्कृत भाषा पढ़ाने पर कोई आपत्ति नहीं है। लेकिन जहाँ बात धर्म की और उसके मूल्यों की है तो यह हम सबकी ज़िम्मेदारी है कि जैसे हमारे पुरखों ने आज तक इसे बचाए और संरक्षित रखा, हमें भी इसे आने वाली पीढ़ियों के लिए सुरक्षित रखना चाहिए। आज मजहब वाला इसकी व्याख्या करेगा तो कल ईसाई ऐसे में उनके अपने प्रभाव से अछूता नहीं रहेगा। आखिर इसकी ज़रूरत ही क्या है। हिन्दू धर्म में विद्वानों का अकाल थोड़ी न है।

इस अवसर पर SVDV के ही पूर्व छात्र अंतरराष्ट्रीय कवि डॉ. अनिल चौबे भी उपस्थित रहे, हालाँकि, स्वास्थ्य ज्यादा खराब होने से वे बोल नहीं पाए, लेकिन छात्रों को समर्थन देने के लिए कार्यक्रम में उपस्थित रहे।

डॉ. मुनीश मिश्र ने मीडिया के माध्यम से समाज मे फैले भ्रम के सभी पक्षों का निवारण करते हुए प्रशासन की गलतियों को भी गिनाया। उन्होंने कहा, “आज विश्वविद्यालय की बदनामी कुलपति (VC) की नासमझी की वजह से हो रही है। जब कोई ऐसा कुलपति हो जिसे न उस संस्थान और उसके संस्थापक के मूल्य पता हों, न हिन्दू धर्म में आस्था तो ऐसा अनर्थ होना स्वाभाविक हो जाता है। सरकार को सोचना चाहिए जब वो कुलपति का चुनाव करती है कि कहाँ के लिए कैसा कुलपति उपयुक्त है।” बता दें कि 80 के दशक में इंदिरा गाँधी ने भी ऐसी एक गलती की थी जब BHU में ईसाई धर्म को मानने वाले एक कुलपति को नियुक्त कर दिया जिसका विश्विद्यालय सहित बनारस में जबरदस्त विरोध हुआ, इंदिरा जी को अपनी गलती समझ आई और उनके निर्देश पर उन्होंने खुद ही अपने आपको इस पद से अलग कर लिया।

15 दिनों तक चले धरने में और उसके बाद भी चल रहे आंदोलन में प्रमुख भूमिका निभाने वालों में शशिकांत मिश्र सहित SVDV के छात्रों की उपस्थिति में कार्यक्रम का संचालन शुभम तिवारी ने, स्वागत व विषय प्रस्तावना कृष्ण कुमार मिश्र व धन्यवाद ज्ञापन करते हुए चक्रपाणि ओझा ने इस आंदोलन में सभी के शामिल होने आह्वान किया। उक्त अवसर पर आंदोलनरत छात्रों के साथ बड़ी संख्या में पूर्व छात्र व सामान्य जन भी उपस्थित रहे।

आंदोलन की आज की कड़ी में शशिकांत मिश्र ने बताया कि महामना के मूल्यों व धर्म के रक्षार्थ 27 नवंबर को 4:30 बजे से बीएचयू सिंहद्वार से मशाल जुलूस निकाला जाएगा जिसमें आप सभी बंधु-बांधवों से अनुरोध हैं कि अपनी गरिमामय उपस्थिति समय को ध्यान में रखते हुए दर्ज कराएँ।

ये भी पढ़ें:

चाँद से सब कुछ देखने वाले, मूर्तिपूजा को हराम कहने वाले सूर्य सिद्धांत पढ़ाएँगे: BHU के प्रोफ़ेसरों का प्रश्न

जब वामपंथियों और कॉन्ग्रेसियों ने महामना के BHU संविधान को मोलेस्ट कर ‘सेक्युलर’ बनाया

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

रवि अग्रहरि
अपने बारे में का बताएँ गुरु, बस बनारसी हूँ, इसी में महादेव की कृपा है! बाकी राजनीति, कला, इतिहास, संस्कृति, फ़िल्म, मनोविज्ञान से लेकर ज्ञान-विज्ञान की किसी भी नामचीन परम्परा का विशेषज्ञ नहीं हूँ!

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मोदी सरकार निकम्मों की तरह क्यों देख रही है किसान आंदोलन को?

किसान आंदोलन को ले कर मोदी सरकार का रवैया ढीला, हल्का और निकम्मों जैसा क्यों दिख रहा है? मोदी की क्या मजबूरी है आखिर?

आएँगे हम.. अंगद के पाँव की तरह: कश्मीर घाटी से पलायन की पीड़ा कविता और अभिनय से बयाँ करती अभिनेत्री भाषा

डेढ़ साल की थीं भाषा सुंबली जब अपनी माँ की गोद में रहते हुए उन्हें कश्मीर घाटी छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा। 19 जनवरी 1990 की उस भयावह रात को अब 31 साल बीत गए हैं।

एक ही जामा मस्जिद 2-2 जगहों पर.. नई बन गई, फिर भी पुरानी पर अवैध कब्जा: टिहरी डैम की सरकारी जमीन को लेकर एक्शन...

विस्थापन नीति के तहत जब पुरानी टिहरी से मंदिर-मस्जिद का विस्थापन कर दिया गया था तो अब भी THDC क्षेत्र में यह जामा मस्जिद कैसे जारी है?

‘अल्लाह’ पर टिप्पणी के कारण कंगना के अकॉउंट पर लगा प्रतिबंध? या वामपंथियों ने श्रीकृष्ण से जुड़े प्रसंग को बताया ‘हिंसक’?

"जो लिब्रु डर के मारे मम्मी की गोद में रो रहे हैं। वो ये पढ़ लें कि मैंने तुम्हारा सिर काटने के लिए नहीं कहा। इतना तो मैं भी जानती हूँ कि कीड़े मकोड़ों के लिए कीटनाशक आता है।"

‘मस्जिदों से घोषणा होती थी कौन कब मरेगा, वो चाहते थे निजाम-ए-मुस्तफा’: पत्रकार ने बताई कश्मीरी पंडितों के साथ हुई क्रूरता की दास्ताँ

आरती टिकू सिंह ने अपनी आँखों से कश्मीरी पंडितों के पलायन का खौफनाक मंजर देखा है। उनसे ही सुनिए उनके अनुभव। जानिए कैसे मीडिया ने पीड़ितों को ही विलेन बना दिया।

स्वामीये शरणम् अय्यप्पा: गणतंत्र दिवस के दिन राजपथ पर सुनाई देगा ब्रह्मोस रेजिमेंट का यह वॉर क्राई

861 मिसाइल रेजिमेंट, राजपथ पर इस वर्ष गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान ब्रह्मोस मिसाइल का प्रदर्शन करेगी। रेजिमेंट का 'वॉर क्राई' हो- स्वामीये शरणम् अय्यप्पा

प्रचलित ख़बरें

‘उसने पैंट से लिंग निकाला और मुझे फील करने को कहा’: साजिद खान पर शर्लिन चोपड़ा ने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

अभिनेत्री-मॉडल शर्लिन चोपड़ा ने फिल्म मेकर फराह खान के भाई साजिद खान पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

‘अल्लाह का मजाक उड़ाने की है हिम्मत’ – तांडव के डायरेक्टर अली से कंगना रनौत ने पूछा, राजू श्रीवास्तव ने बनाया वीडियो

कंगना रनौत ने सीरीज के मेकर्स से पूछा कि क्या उनमें 'अल्लाह' का मजाक बनाने की हिम्मत है? उन्होंने और राजू श्रीवास्तव ने अली अब्बास जफर को...

‘टॉप और ब्रा उतारो’ – साजिद खान ने जिया को कहा था, 16 साल की बहन को बोला – ‘…मेरे साथ सेक्स करना है’

बॉलीवुड फिल्म निर्माता साजिद खान के खिलाफ एक बार फिर आवाज उठनी शुरू। दिवंगत अभिनेत्री जिया खान की बहन करिश्मा ने वीडियो शेयर कर...

‘नंगा कर परेड कराऊँगा… ऋचा चड्ढा की जुबान काटने वाले को ₹2 करोड़’: भीम सेना का ऐलान, भड़कीं स्वरा भास्कर

'भीम सेना' ने 'मैडम चीफ मिनिस्टर' को दलित-विरोधी बताते हुए ऋचा चड्ढा की जुबान काट लेने की धमकी दी। स्वरा भास्कर ने फिल्म का समर्थन किया।

‘अश्लील बातें’ करने वाले मुफ्ती को टिकटॉक स्टार ने रसीद किया झन्नाटेदार झापड़: देखें वायरल वीडियो

टिकटॉक स्टार कहती हैं, "साँप हमेशा साँप रहता है। कोई मलतलब नहीं है कि आप उससे कितनी भी दोस्ती करने की कोशिश करो।"

‘शक है तो गोली मार दो’: इफ्तिखार भट्ट बन जब मेजर मोहित शर्मा ने आतंकियों के बीच बनाई पैठ, फिर ठोक दिया

मरणोपतरांत अशोक चक्र से सम्मानित मेजर मोहित शर्मा एक सैन्य ऑपरेशन के दौरान बलिदान हुए थे। इफ्तिखार भट्ट बन उन्होंने जो ऑपरेशन किया वह आज भी कइयों के लिए प्रेरणा है।
- विज्ञापन -

 

00:30:41

मोदी सरकार निकम्मों की तरह क्यों देख रही है किसान आंदोलन को?

किसान आंदोलन को ले कर मोदी सरकार का रवैया ढीला, हल्का और निकम्मों जैसा क्यों दिख रहा है? मोदी की क्या मजबूरी है आखिर?

TMC की धमकी- ‘गोली मारो… से लेकर बंगाल माँगोगे तो चीर देंगे’ पर BJP का पलटवार, पूछा- क्या यह ‘शांति’ की परिभाषा है?

टीएमसी की रैली में 'बंगाल के गद्दारों को गोली मारो सालो को' जैसे नारे लगा कर BJP कार्यकर्ताओं को जान से मारने की धमकी दी तो वहीं ममता सरकार में परिवहन मंत्री ने भाजपा को लेकर कहा, "अगर दूध माँगोगे तो खीर देंगे, लेकिन अगर बंगाल माँगोगे तो चीर देंगे।"

मंदिर की दीवारों पर ईसाई क्रॉस पेंट कर चर्च में बदलने की कोशिश, पहले भी मूर्तियों और दानपात्र को पहुँचाई गई थी क्षति

तमिलनाडु के वेल्लोर जिले में एक हिंदू मंदिर की दीवारों पर ईसाई क्रॉस चिन्ह पेंट कर उसे एक चर्च में बदलने का प्रयास किया गया है।

आएँगे हम.. अंगद के पाँव की तरह: कश्मीर घाटी से पलायन की पीड़ा कविता और अभिनय से बयाँ करती अभिनेत्री भाषा

डेढ़ साल की थीं भाषा सुंबली जब अपनी माँ की गोद में रहते हुए उन्हें कश्मीर घाटी छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा। 19 जनवरी 1990 की उस भयावह रात को अब 31 साल बीत गए हैं।

3 में 3 स्टार, 4 लाख में 4… ऐसे दी जाती है बॉलीवुड फिल्मों की रेटिंग: फिल्ममेकर ने खुद बताई हकीकत

विकास खन्ना ने कहा कि उन्हें 'पक्षपात और भाई-भतीजावाद का पहला अनुभव' हुआ जब क्रिटिक्स में से एक ने उन्हें उनकी फिल्म के रिव्यू के लिए पैसे देने के लिए कहा और इसके लिए राजी नहीं होने पर उन्हें बर्बाद करने की धमकी भी दी गई थी।

चारों ओर से घिरी Tandav: मुंबई, UP में FIR के बाद अब इंदौर के न्यायालय में हुई शिकायत दर्ज

UP पुलिस 'तांडव' की पूरी टीम और अमेजन प्रबंधन से पूछताछ कर रही है तो दूसरी ओर इंदौर में अब तांडव को लेकर जारी आक्रोश न्यायालय तक पहुँ च गया है।

‘हर बच्चा एक मुसलमान के रूप में पैदा होता है’: भगोड़े जाकिर नाइक का एक और ‘हास्यास्पद’ दावा, देखें वीडियो

डॉ. जाकिर नाइक ने इस बार एक और विवादित दावा किया है। यूट्यूब चैनल पर अपलोड किए गए अपने एक वीडियो में उसने दावा किया है कि 'हर बच्चा मुसलमान पैदा होता है।'

127 साल पुरानी बाइबिल से शपथ लेंगे अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन: जानिए क्या है ऐसा करने की खास वजह

यह बाइबिल बाइडेन के पिता की ओर से है। जोकि 1893 से उनके परिवार के पास है। उन्होंने अपने सभी सात शपथ ग्रहण समारोहों के लिए एक ही बाइबिल का उपयोग किया है।

एक ही जामा मस्जिद 2-2 जगहों पर.. नई बन गई, फिर भी पुरानी पर अवैध कब्जा: टिहरी डैम की सरकारी जमीन को लेकर एक्शन...

विस्थापन नीति के तहत जब पुरानी टिहरी से मंदिर-मस्जिद का विस्थापन कर दिया गया था तो अब भी THDC क्षेत्र में यह जामा मस्जिद कैसे जारी है?

ऐलान के बाद केजरीवाल सरकार ने नहीं दिया 1 करोड़ का मुआवजा: कोरोना से मृत दिल्ली पुलिस जवानों के परिवार को अभी भी है...

केजरीवाल ने दिवंगत दिल्ली पुलिस अधिकारी द्वारा किए गए बलिदान के बारे में ट्विटर पर बताते हुए कुमार के परिवार को 1 करोड़ रुपए के मुआवजे की घोषणा की थी।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
383,000SubscribersSubscribe