Friday, June 25, 2021
Home विविध विषय धर्म और संस्कृति तमिलनाडु में मठ के स्वामी को समन, कहा था अब मूर्तियों पर इस्लामी हमले...

तमिलनाडु में मठ के स्वामी को समन, कहा था अब मूर्तियों पर इस्लामी हमले नहीं होते

जब इलाके में इस्लामी हमला शुरू हुआ तो मंदिर के अधिकारियों और पुजारियों (दत्तात्रेयों) ने चाँदी के बक्स में डालकर विग्रह को मंदिर के ही कुण्ड में छिपा दिया। सालों तक किसी को विग्रह के बारे में पता नहीं चला क्योंकि दोनों दत्तात्रेय बिना किसी को यह रहस्य बताए मर गए।

तमिलनाडु में एक मंदिर के पुजारी को इस्लामी हमले नहीं होने की बात कहने पर पुलिस ने समन भेज दिया है। उन पर आरोप है कि ऐसा कहकर कि मूर्तियों पर अब इस्लामी हमले नहीं होते, उन्होंने साम्प्रदायिक वैमनस्य और नफरत भड़काने की कोशिश की है।

‘अब हमले नहीं होते तो विग्रह छिपाने का क्या औचित्य?’

श्रीविल्लीपुतुर स्थित श्री मानवाला मामुनिगळ जीयार मठ के पुजारी श्री सतगोप रामानुज जीयार स्वामी ने 22 जुलाई को कहा था कि उस मंदिर में मौजूद भगवान विष्णु के विग्रह आति वरदार को वापिस मंदिर के कुण्ड में रखने का कोई औचित्य नहीं है। यह परम्परा विग्रह को इस्लामी आक्रांताओं से बचाने के लिए शुरू की गई थी, और अब जबकि इस्लामी हमले नहीं होते, विग्रह को खतरा नहीं है, तो इस परम्परा को चालू रखने का कोई मतलब नहीं है।

तौहीद जमात के जिला सचिव ने की पुलिस से शिकायत

जीयार स्वामी के इस बयान में सामुदायिक घृणा बढ़ाए जाने की बात होने की शिकायत सईद अली ने पुलिस से की। उन्होंने यह शिकायत मुख्यमंत्री स्पेशल सेल के ऑनलाइन पोर्टल से की। सईद अली ऑल इंडिया तौहीद जमात की काँचीपुरम इकाई के सचिव हैं। उनकी शिकायत के आधार पर जीयार स्वामी को श्रीविल्लीपुतुर पुलिस स्टेशन में हाजिर होने का समन भेजा गया है

48 दिन बाहर रहता है विग्रह, फिर 40 साल पानी में

अति वरदार विग्रह पेरुमल के नाम से जाने वाले भगवान विष्णु की 9 फ़ीट ऊँचा अंजीर की लकड़ी से बना विग्रह है (तमिल में अंजीर को आति कहते हैं)। 16वीं शताब्दी तक इसे मंदिर की गर्भ-गुड़ी (गर्भगृह) में पूजा जाता था।

जब इलाके में इस्लामी हमला शुरू हुआ तो मंदिर के अधिकारियों और पुजारियों (दत्तात्रेयों) ने चाँदी के बक्स में डालकर विग्रह को मंदिर के ही कुण्ड में छिपा दिया। सालों तक किसी को विग्रह के बारे में पता नहीं चला क्योंकि दोनों दत्तात्रेय बिना किसी को यह रहस्य बताए मर गए।

फिर देवराजा पेरुमल (भगवान विष्णु) की दूसरी मूर्ति बनाई गई और आति वरदार के विकल्प में उसी की पूजा होने लगी। फिर 1709 में जब किसी कारणवश मंदिर का कुण्ड खाली किया गया तो आति वरदार विग्रह बरामद हुआ। लेकिन तब मंदिर के अधिकारियों ने निर्णय लिया कि आति वरदार विग्रह 40 साल में एक बार ही 48 दिन के लिए मंदिर के कुण्ड से निकाल कर श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए रखा जाएगा।

इस साल उस दर्शन-काल में लगभग 1 करोड़ लोगों ने आति वरदार के दर्शन चेन्नै से 90 किलोमीटर दूर स्थित काँचीपुरम के श्री वरदराजा पेरुमल मंदिर में किए। स्थानीय मीडिया की रिपोर्टों के मुताबिक सप्ताहांत पर तो श्रद्धालुओं को 10 से 12 घंटे तक भी इंतज़ार करना पड़ा, और कई दिन ऐसे रहे जब एक ही दिन में 3 लाख से अधिक श्रद्धालु विग्रह के दर्शनों के लिए जुटे।

इस अनोखे मंदिर में लोगों की अपार श्रद्धा है। यही वजह है कि भगवान अति वरदार भले ही 40 वर्ष तक जल समाधि में रहते हों, लेकिन पूरे साल इस मंदिर में भक्तों की भीड़ जुटती है। इससे पहले वर्ष 1979 में भगवान अति वरदान ने मंदिर के पवित्र तालाब से बाहर आकर भक्तों को दर्शन दिए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली सरकार ने ऑक्सीजन जरूरत को 4 गुना बढ़ा कर दिखाया… 12 राज्यों में इसके कारण संकट: सुप्रीम कोर्ट पैनल

सुप्रीम कोर्ट की ऑक्सीजन ऑडिट टीम ने दिल्ली के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता को चार गुना से अधिक बढ़ाने के लिए केजरीवाल सरकार को...

‘अपनी मर्जी से मंतोष सहनी के साथ गई, कोई जबरदस्ती नहीं’ – फजीलत खातून ने मधुबनी अपहरण मामले पर लगाया विराम

मधुबनी जिले के बिस्फी की फजीलत खातून के कथित अपहरण मामले में नया मोड़। फजीलत खातून ने खुद ही सामने आकर बताया कि वो मंतोष सहनी के साथ...

चित्रकूट का पर्वत जो श्री राम के वरदान से बना कामदगिरि, यहाँ विराजमान कामतानाथ करते हैं भक्तों की हर इच्छा पूरी

भगवान राम ने अपने वनवास के दौरान लगभग 11 वर्ष मंदाकिनी नदी के किनारे स्थित चित्रकूट में गुजारे। चित्रकूट एक प्रमुख तीर्थ स्थल माना जाता है...

फतेहपुर के अंग्रेजी मीडियम स्कूल में हिंदू बच्चे पढ़ते थे नमाज: महिला टीचर ने खोली मौलाना उमर गौतम के धर्मांतरण गैंग की पोल

फतेहपुर के नूरुल हुदा इंग्लिश मीडियम स्कूल में मौलाना उमर के गिरोह की सक्रियता का खुलासा वहाँ की ही एक महिला टीचर ने किया है।

‘सत्यनारायण और भागवत कथा फालतू, हिजड़ों की तरह बजाते हैं ताली’: AAP नेता का वीडियो वायरल

AAP की गुजरात इकाई के नेता गोपाल इटालिया का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें वे हिन्दू परंपराओं का अपमान करते दिख रहे हैं।

जम्मू-कश्मीर: PM मोदी का ग्रासरूट डेमोक्रेसी पर जोर, जानिए राज्य का दर्जा और विधानसभा चुनाव कब

प्रधानमंत्री ने कहा कि वह 'दिल्ली की दूरी' और 'दिल की दूरी' को मिटाना चाहते हैं। परिसीमन के बाद विधानसभा चुनाव उनकी प्राथमिकता में है।

प्रचलित ख़बरें

‘सत्यनारायण और भागवत कथा फालतू, हिजड़ों की तरह बजाते हैं ताली’: AAP नेता का वीडियो वायरल

AAP की गुजरात इकाई के नेता गोपाल इटालिया का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें वे हिन्दू परंपराओं का अपमान करते दिख रहे हैं।

फतेहपुर के अंग्रेजी मीडियम स्कूल में हिंदू बच्चे पढ़ते थे नमाज: महिला टीचर ने खोली मौलाना उमर गौतम के धर्मांतरण गैंग की पोल

फतेहपुर के नूरुल हुदा इंग्लिश मीडियम स्कूल में मौलाना उमर के गिरोह की सक्रियता का खुलासा वहाँ की ही एक महिला टीचर ने किया है।

TMC के गुंडों ने किया गैंगरेप, कहा- तेरी काली माँ न*गी है, तुझे भी न*गा करेंगे, चाकू से स्तन पर हमला: पीड़ित महिलाओं की...

"उस्मान ने मेरा रेप किया। मैं उससे दया की भीख माँगती रही कि मैं तुम्हारी माँ जैसी हूँ मेरे साथ ऐसा मत करो, लेकिन मेरी चीख-पुकार उसके बहरे कानों तक नहीं पहुँची। वह मेरा बलात्कार करता रहा। उस दिन एक मुस्लिम गुंडे ने एक हिंदू महिला का सम्मान लूट लिया।"

‘हरा$ज*, हरा%$, चू$%’: ‘कुत्ते’ के प्रेम में मेनका गाँधी ने पशु चिकित्सक को दी गालियाँ, ऑडियो वायरल

गाँधी ने कहा, “तुम्हारा बाप क्या करता है? कोई माली है चौकीदार है क्या हैं?” डॉक्टर बताते भी हैं कि उनके पिता एक टीचर हैं। इस पर वो पूछती हैं कि तुम इस धंधे में क्यों आए पैसे कमाने के लिए।

‘हर चोर का मोदी सरनेम क्यों’: सूरत की कोर्ट में पेश हुए राहुल गाँधी, कहा- कटाक्ष किया था, अब याद नहीं

कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी सूरत की एक अदालत में पेश हुए। मामला 'सारे मोदी चोर' वाले बयान पर दर्ज आपराधिक मानहानि के मामले से जुड़ा है।

जम्मू-कश्मीर के लोग अपने पूर्व मुख्यमंत्री को जेल में डालने के लिए धरने पर बैठे, कर रही थीं पाकिस्तान की वकालत

"महबूबा मुफ्ती से बातचीत के बजाय उन्हें तिहाड़ जेल भेजा जाना चाहिए। दिल्ली से उन्हें वापस जम्मू कश्मीर नहीं आने दिया जाना चाहिए।”
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
105,792FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe