Thursday, July 18, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनधंधा बन गया, पैसा कमा रहे पर क्वालिटी घटिया: नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने बताया OTT...

धंधा बन गया, पैसा कमा रहे पर क्वालिटी घटिया: नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने बताया OTT प्लेटफॉर्म हो रहे बदतर

"अब मुझे लगता है कि यह अपना नयापन खोता जा रहा है। कंटेंट बहुत अधिक आ रहे हैं, लेकिन उनकी क्वालिटी एकदम घटिया है। ओटीटी एकदम क्लिच्ड हो चुका है। आप इसकी तुलना टेलीविजन सीरियल से कर सकते हैं।"

नवाजुद्दीन सिद्दीकी को 2021 इंटरनेशनल एमी अवॉर्ड में बेस्ट एक्टर केटेगरी में नामांकन मिला था। वजह ओटीटी प्लेटाफॉर्म नेटफ्लिक्स पर आई सुधीर मिश्रा की फिल्म ‘सीरियस मेन’ में किया गया उनका दमदार अभिनय था। लेकिन नवाजुद्दीन ओटीटी प्लेटफॉर्म को लेकर सशंकित हैं। उनका मानना है कि ओटीटी ( प्लेटफॉर्म आज के जमाने में एक धंधा बन गया है। चीजें बदतर होती जा रही हैं। कंटेट के नाम पर बड़े प्रोडक्शन हाउस सिर्फ पैसा कमा रहे हैं।

न्यूज 18 की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट के मुताबिक, अभिनेता का कहना है कि ओटीटी जब देश में आया था तो इसने फिल्म निर्माताओं के लिए नए रास्ते खोले थे। लेकिन अब प्रोडक्शन हाउस आकर्षक कंटेट नहीं दे पा रहे हैं। सिद्दीकी ने कहा, “ओटीटी ने वास्तव में अच्छी शुरुआत की और भारत में फिल्म निर्माताओं और अभिनेताओं के लिए नए रास्ते खोले। जो कंटेंट हम सिनेमाघरों में देखते हैं, वह स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म पर अलग थी और इसकी अपनी अनूठी शैली थी। लेकिन अब मुझे लगता है कि यह अपना नयापन खोता जा रहा है। कंटेंट बहुत अधिक आ रहे हैं, लेकिन उनकी क्वालिटी एकदम घटिया है। ओटीटी एकदम क्लिच्ड हो चुका है। आप इसकी तुलना टेलीविजन सीरियल से कर सकते हैं।”

ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज हुई सीरियस मेन, रात अकेली है और घूमकेतु जैसी फिल्मों में एक्टिंग कर चुके अभिनेता का मानना है कि स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म व्यवसाय का रूप ले चुके हैं। उन्होंने आगे कहा, “बड़े प्रोडक्शन हाउस ने स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म के साथ लाखों सौदे किए हैं। कंटेंट के नाम पर ये प्रोडक्शन हाउस सिर्फ रन-ऑफ-द-मिल कंटेंट लेकर आते हैं। हमें कला को व्यवसाय में बदलने की आदत है और ओटीटी भी एक धंधा बन गया है। प्रोडक्शन हाउस केवल पैसे कमा रहे हैं।”

नवाजुद्दीन सिद्दीकी मानते हैं कि कई सारे ऐसे फिल्म निर्माता है, जो अपनी प्रतिभा दिखाने के काबिल हैं, लेकिन उन्हें इसका मौका ही नहीं मिलता है। दर्शक भी अच्छा कंटेंट देखना चाहते हैं लेकिन बड़े प्रोडक्शन हाउस औसत और खराब कंटेंट बना रहे हैं। एक समय था जब ओटीटी का एकाधिकार नहीं था. लेकिन अब सब कुछ बदल रहा है।

लंदन में हीरोपंती-2 की शूटिंग कर रहे सिद्दीकी स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म को लेकर कहते हैं, “इसमें कोई संदेह नहीं है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म ने मुझे वैश्विक उपस्थिति दी है। सेक्रेड गेम्स के बाद जब भी मैं विदेश यात्रा करता था तो बहुत से लोग मुझे पहचानते और यहाँ तक ​​कि मुझे गणेश गायतोंडे (सेक्रेड गेम्स में उनका किरदार) भी कहते थे। लेकिन दुख की बात है कि आज कंटेंट की क्वालिटी खराब हो गई है। लोग अब एक ही चीज को देखकर बोर हो गए हैं और यही वजह है कि हम शायद ही कोई वेब सीरीज या फिल्म देखते हैं जिसकी हाल के दिनों में काफी तारीफ हुई हो।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नई नहीं है दुकानों पर नाम लिखने की व्यवस्था, मुजफ्फरनगर पुलिस ने काँवड़िया रूट पर मजहबी भेदभाव के दावों को किया खारिज: जारी की...

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में पुलिस ने ताजी एडवायजरी जारी की है, जिसमें दुकानों और होटलों पर मालिकों के नाम लिखने को ऐच्छिक कर दिया है।

‘भ#$गी हो, भ$गी बन के रहो’: जामिया के 3 प्रोफेसर पर FIR, दलित कर्मचारी पर धर्म परिवर्तन का डाल रहे थे दबाव; कहा- ईमान...

एफआईआर में आरोपित नाज़िम हुसैन अल-जाफ़री जामिया मिल्लिया इस्लामिया के रजिस्ट्रार हैं तो नसीम हैदर डिप्टी रजिस्ट्रार। इनके साथ ही आरोपित शाहिद तसलीम यूनिवर्सिटी में प्रोफ़ेसर हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -