Wednesday, August 4, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनकंगना रनौत का पासपोर्ट रिन्यूअल रोकने के लिए बॉम्बे हाईकोर्ट पहुँचे जावेद अख्तर, लगाया...

कंगना रनौत का पासपोर्ट रिन्यूअल रोकने के लिए बॉम्बे हाईकोर्ट पहुँचे जावेद अख्तर, लगाया तथ्य छिपाने का आरोप

जावेद अख्तर ने कहा कि उन्होंने ऐक्ट्रेस द्वारा एक टीवी साक्षात्कार में उनके खिलाफ टिप्पणी करने पर नवंबर 2020 में कंगना रनौत के खिलाफ आपराधिक मानहानि की शिकायत दर्ज कराई थी और इस मामले में आपराधिक कार्यवाही लंबित है। उन्होंने कहा कि कंगना रनौत कोर्ट के समक्ष इसका खुलासा करने में विफल रहीं हैं।

बॉलीवुड के जाने-माने गीतकार और लेखक जावेद अख्तर ने शुक्रवार (जुलाई 2, 2021) को बॉम्बे हाई कोर्ट में एक हस्तक्षेप याचिका दायर कर दावा किया कि बॉलीवुड ऐक्ट्रेस कंगना रनौत ने अपने पासपोर्ट के तेजी से रिन्यू के अनुरोध वाली याचिका में कोर्ट से कुछ तथ्य छिपाए हैं। जावेद अख्तर ने कंगना रनौत द्वारा दायर याचिका में हस्तक्षेप करने का अनुरोध किया है जिन्होंने लेखक के कॉपीराइट के कथित तौर पर उल्लंघन के लिए अपने खिलाफ दर्ज FIR को चुनौती दी है।

बता दें कि पिछले महीने कंगना रनौत ने भी एक अंतरिम याचिका दायर कर अनुरोध किया था कि क्षेत्रीय पासपोर्ट प्राधिकरण को उनका पासपोर्ट रिन्यू करने का निर्देश दिया जाए, यह उनके एक फिल्म की शूट के लिए बुडापेस्ट, हंगरी तक जाने के लिए जरूरी है। इस याचिका पर 28 जून को सुनवाई के दौरान पासपोर्ट प्राधिकरण की तरफ से अतिरिक्त सॉलीसीटर जनरल अनिल सिंह ने कोर्ट को बताया था कि कंगना रनौत की याचिका अस्पष्ट है और इसमें यह साफ नहीं है कि उनके खिलाफ कौन सी आपराधिक कार्यवाही लंबित है।

कंगना रनौत के वकील रिजवान सिद्दीकी ने जज एसएस शिंदे की पीठ को बताया कि ऐक्ट्रेस के खिलाफ केवल दो FIR दर्ज थी लेकिन इन प्राथमिकियों में ऐक्ट्रेस के खिलाफ आपराधिक कार्यवाही शुरू नहीं हुई है। वकील ने बताया कि बांद्रा पुलिस ने अपने ट्वीट के जरिए धार्मिक शत्रुता को बढ़ावा देने के लिए पिछले साल अक्टूबर में पहली प्राथमिकी दर्ज की थी। दूसरी प्राथमिकी इस साल मार्च में पुस्तक ‘दिद्दा : वॉरियर क्वीन ऑफ कश्मीर’ के लेखक की शिकायत के आधार पर दर्ज की गई थी जिन्होंने आरोप लगाया था कि कंगना रनौत ने उनकी इजाजत के बिना किताब के विषय पर फिल्म की घोषणा की थी।

अपनी हस्तक्षेप याचिका में जावेद अख्तर ने कहा कि उन्होंने ऐक्ट्रेस द्वारा एक टीवी साक्षात्कार में उनके खिलाफ टिप्पणी करने पर नवंबर 2020 में कंगना रनौत के खिलाफ आपराधिक मानहानि की शिकायत दर्ज कराई थी और इस मामले में आपराधिक कार्यवाही लंबित है। उन्होंने कहा कि कंगना रनौत कोर्ट के समक्ष इसका खुलासा करने में विफल रहीं हैं।

अख्तर के आवेदन में कहा गया है, “मजिस्ट्रेट की अदालत, अंधेरी के समक्ष लंबित आपराधिक मामले (अख्तर की शिकायत) की जानकारी के बावजूद, याचिकाकर्ता नंबर 1 (रनौत) जानबूझकर इसका खुलासा करने में विफल रहीं। इसके पीछे उनका इरादा गुमराह करने और अनुकूल आदेश प्राप्त करना था।”

दिलचस्प बात यह है कि कंगना रनौत के पासपोर्ट आवेदन के खिलाफ जावेद अख्तर की हस्तक्षेप याचिका अभिनेत्री द्वारा महा विकास अघाड़ी सरकार पर जानबूझकर उनके पासपोर्ट रिन्यूअल में देरी करने का आरोप लगाने के कुछ सप्ताह बाद आई है।

एक इंस्टाग्राम पोस्ट में, कंगना रनौत ने महाराष्ट्र सरकार को ‘महाविनाशकारी सरकार’ के रूप में संदर्भित करते हुए कहा था कि कॉन्ग्रेस-शिवसेना-एनसीपी के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ अपनी राय रखने के लिए उन्हें फिर से अप्रत्यक्ष उत्पीड़न का सामना करना पड़ रहा है।

कंगना रनौत इस समय अपनी अपकमिंग फिल्म ‘धाकड़’ की शूटिंग के लिए बुडापोस्ट पहुँची हुई हैं। कंगना ने बीते 28 जून को अपने पासपोर्ट रिन्यूअल की सुनवाई के दौरान कहा था कि उनके खिलाफ कोई क्रिमिनल केस पेंडिंग नहीं है। पासपोर्ट रिन्यू न होने की वजह से कंगना देर से पहुँची जबकि फिल्म के क्रू मेंबर पहले ही पहुँच गए थे। फिलहाल कंगना फिल्म की शूटिंग कर रही हैं।

रजनीश रैजी घई के निर्देशन में बन रही ‘धाकड़’ एक स्पाई थ्रिलर फिल्म है। इस फिल्म में कंगना के साथ अर्जुन रामपाल लीड रोल में हैं। फिल्म 1 अक्टूबर को रिलीज होने वाली है। इसके अलावा कंगना रनौत ‘थलाइवी’ और ‘तेजस’ फिल्म में भी नजर आएँगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

राणा अयूब बनीं ट्रोलिंग टूल, कश्मीर पर प्रोपेगेंडा चलाने के लिए आ रहीं पाकिस्तान के काम: जानें क्या है मामला

पाकिस्तान के सूचना मंत्रालय से जुड़े लोग ऑन टीवी राणा अयूब की तारीफ करते हैं। वह उन्हें मोदी सरकार का पर्दाफाश करने वाली ;मुस्लिम पत्रकार' के तौर पर जानते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe